व्यवस्था के अजब हालात की पोल खोलता नाटक ’थ्री स्ट्रेंजर्स’

लखनऊ । निराशा से आशा की ओर बढ़ने का संदेश देते और व्यवस्था का क्रूर चेहरा उजागर करती समाज की एक तस्वीर तीन पीढ़ियों के प्रतिनिधियों के माध्यम से रंगप्रस्तुति ’थ्री स्ट्रेंजर्स’ मंच पर रखती है। आत्महत्यात्मक प्रवृत्ति को लेकर रचे इस नाटक का मंचन डॉ. उर्मिल कुमार थपलियाल फाउंडेशन द्वारा आयोजित दूसरे उर्मिल रंग उत्सव की चौथी शाम स्ट्रेंजर्स स्ट्रेंजर्स थिएटर रंग संस्था की ओर से संत गाडगेजी महाराज प्रेक्षागृह गोमतीनगर में अनिल कुमार चौधरी के लेखन और निर्देशन में किया गया ।

आधुनिक नाट्य तकनीकों से भरे हुए ’डार्क कॉमेडी’ के रूप में प्रस्तुत इस नाटक की कहानी अपने जीवन से निराश हो चुके तीन अजनबियों के आत्महत्या करने पहुंचे एक ही जगह मिलने से प्रारंभ होती है। यह तीनों अपनी अलग-अलग पीढ़ियों का प्रतिनिधित्व करते इस क्रूर व्यंग्य में प्रेक्षकों के सामने आते हैं। वह संयोगवश एक सामान्य रेलवे स्टेशन पर एक दूसरे से टकरा जाते हैं। आत्महत्या करने में बाधक उन्हें एक-दूसरे की उपस्थिति नहीं सुहाती। उनके आपसी संवाद और तू तू मैं मैं जहां दर्शकों को हंसाते हैं तो वहीं उन चरित्रों की कोशिश एक दूसरे को वहां से भगाने की रहती है।

क्रमशः बढ़ते-बढ़ते नाटक उन अजनबियों को यह अहसास कराता है कि कुछ ऐसा है जो उन सभी में कॉमन है और वह एक जैसी ही परिस्थितियों में समाज से जूझ रहे हैं और उन्हें आगे भी जूझना चाहिए। तभी राजनीतिक दबाव में वहां तीन कुख्यात अपराधियों के नाम पर तीन आम मजदूरों को लेकर उनका इनकाउंटर करने पुलिस पहुंच जाती है। तीनों छिप जाते हैं पर बुजुर्ग से ये अन्याय भ्रष्टाचार नहीं देखा जाता। उसके हस्तक्षेप से बात इतनी बिगड़ जाती है कि पुलिस मजदूरों के साथ उन्हें भी मार देती है। दर्शकों के लिए ये घटना एक उदाहरण बनकर वर्तमान व्यवस्था और हालात पर गौर करने को विवश करती है। प्रस्तुति के दृश्य वास्तव में एक रेलवे प्लेटफार्म का अहसास करा रहे थे। नाटक में अजनबी एक-जीवन सिंह रावत, अजनबी दो- पीयूष वर्मा, अजनबी तीन-अनिल कुमार चौधरी, स्टेशन मास्टर- शिवम सिंह, STF सिपाही एक- अंशुल शुक्ला, STF सिपाही दो- प्रज्ज्वल, STF सिपाही तीन- शुभम, STF सिपाही चार- सतेंद्र, मज़दूर एक- अंचित, मज़दूर दो- विनय और मज़दूर तीन- शिवा बनकर उतरे। मंच परे प्रकाश- मनीष सैनी, संगीत- विकास, मंच प्रबंधन- रिया, शिमाली व तान्या का रहा। निर्देशक सहायक की जिम्मेदारी विनय और शिवा ने निभायी।

Raj Dharm UP

योगी की पहल उतर रही धरातल पर, शिमला का सेब अब पूरब की तराई में!

केवीके बेलीपार की पहल पर गोरखपुर के कुछ किसान बड़े पैमाने पर खेती की तैयारी में मात्र दो साल में ही आ जाता है फल, तीन साल पहले आई थी यह प्रजाति लखनऊ। शिमला का सेब तराई में! है न चौंकाने वाली बात। पर चौंकिए मत। यह मुकम्मल सच है। ठंडे और ऊंचे पहाड़ों से […]

Read More
Raj Dharm UP

काल बनी सड़क: एक बार फिर आगरा एक्सप्रेस-वे पर बड़ा हादसा, चली गई 18 लोगों की जान

एक टैंकर से टकराकर पलट गई डबलडेकर बस बड़ा हादसा: सड़क पर दिखने लगी लाशें ही लाशें लखनऊ । राष्ट्रीय राजमार्गों पर सड़क हादसे में मौत होने का सिलसिला थम नहीं रहा है। उन्नाव जिले में बुधवार सुबह लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे भीषण सड़क हादसा हुआ। डबल डेकर बस एक टैंकर से टकरा गई। टकराने के बाद […]

Read More
Raj Dharm UP

…तो जेल में ठूस दी जाएगी पाखंडियों की फौज, बड़े एक्शन की दरकार

ए अहमद सौदागर लखनऊ। हाथरस के सिकंद्राराऊ में सत्संग के दौरान भगदड़ में हुई मौतों के मामले में मुख्य आरोपी देव प्रकाश मधुकर सहित आधा दर्जन आरोपी को पकड़कर पुलिस ने पाखंडियों के चेहरे से नकाब उतार दिया है। आधा दर्जन आरोपी सलाखों के पीछे तो पहुंच गए हैं, इस मामले का असली पाखंडी बाबा […]

Read More