Analysis

Analysis

चीन में कम्युनिस्ट राज के खिलाफ जनक्रांति!!

दुनिया भर में सालभर से कोविड के कारण लगी पाबंदियां हट रहीं हैं, छट रहीं हैं। मगर सिर्फ चीन में नहीं। पचास से अधिक विश्वविद्यालयों, बीजिंग मिलाकर, में अंदेशा है कि राष्ट्रपति शी जिनपिंग सत्ता में डटे रहने के लिए ओवरटाइम कर रहे हैं। इसके विरोध में ठिठुरते हुए करोड़ों नागरिक रात भर सड़कों पर […]

Read More
Analysis

बाबासाहेब डॉ. आंबेडकर के संविधान का शब्दार्थ

लखनऊ। भारत आज़ाद होने के बाद अपनी आज़ादी की सभ्यता और संस्कृति के 75 वर्ष पूर्ण कर लिया। हमें अपने संविधान पर गर्व इसलिए होना चाहिए क्योंकि हमारा लोकतन्त्र बहुत समृद्ध है। दुनिया की दूसरी जनसंख्या के हिसाब से बड़ी आबादी इस लोकतन्त्र में आज़ादी की 75वीं वर्षगांठ मनाकर अपने शताब्दी वर्ष की ओर प्रस्थान […]

Read More
Analysis

जजों की नियुक्ति? अपनों ही द्वारा होना बेढंगा हैं!

एक वैधानिक संयोग हुआ। बड़ा विलक्षण भी ! दिल्ली में कल (शुक्रवार, 25 नवंबर 2022) भारतीय संविधान की 73वीं सालगिरह की पूर्व संध्या पर शीर्ष न्यायपालिका तथा कार्यपालिका में खुला वैचारिक घर्षण दिखा। दो विभिन्न मंचों पर, विषय मगर एक ही था : “जजों की नियुक्ति-प्रक्रिया।” वर्तमान तथा भारत के पूर्व प्रधान न्यायाधीश, दोनों ही […]

Read More
Analysis

मजहब के नाम पर विषमता अधर्म है,अक्षम्य भी!!

प्रत्येक दानायी और प्रगतिशील महिला दिल्ली जामा मस्जिद प्रबंधन द्वारा आज से (शुक्रवार, 25 नवंबर 2022) उस अवांछनीय निर्देश को निरस्त करने का दिल से स्वागत करेगी। दो सप्ताह पूर्व मस्जिद के प्रवेश फाटक पर लगाए इस बोर्ड में लिखा था : “जामा मस्जिद में लड़की या लड़कियों का अकेला दाखिला मना है।” प्रबंधन समिति […]

Read More
Analysis

श्रीभारत सावित्री : महाभारत के श्लोकचतुष्टय को अवश्य जानिए

‘भारत सावित्री’ नाम महाभारत के अन्त में आया है। जैसे वेदों का सार गायत्री मन्त्र या सावित्री है, वैसे ही सम्पूर्ण महाभारत का सार धर्म शब्द में है। गायत्री भी सविता देवता की स्तुति है और वही सविता देवता महाभारत ग्रंथ के भी हेतु हैं जिनमे भारत सावित्री की स्थापना है। सविता , भर्गोदेवस्य ही […]

Read More
Analysis

औरंगजेब पर विजयी असमिया वीर की 400वीं जयंती पर!

खड़कवासला (पुणे) के नेशनल डिफेंस अकादमी में हर साल श्रेष्ठतम कैडेट को मेडल दिया जाता है। नाम है “लाचित पदक।” कौन यह लाचित ? इतिहास को विकृत करने में माहिर मियां सैय्यद मोहम्मद इरफान हबीब नहीं बताएँगे। जवाब टाल देंगे। इतिहास गवाह है कि मुगल बादशाह मोहिउद्दीन मोहम्मद औरंगजेब आलमगीर को इस अदम्य सैनिक ने […]

Read More
Analysis

शब्दों का तिलिस्म!!

अपने सालाना प्रयोग में ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी ने नये शब्दों को जोड़ने की कसरत शुरू कर दी है। गत वर्ष (2022) में इस्तेमाल में व्यापक रहे तीन शब्दों पर विश्वव्यापी वोटिंग (शुक्रवार, 2 दिसंबर 2022 तक) का ऐलान आज (23 नवंबर 2022) किया गया है। यह तीन शब्द हैं Metaverse (आभासी), I Standwith (“मैं साथ हूं”), […]

Read More
Analysis

मैनपुरी में वोट के रूप में श्रद्धांजलि..

डॉ. ओपी मिश्र लखनऊ। समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव के निधन के चलते मैनपुरी में  पांच दिसंबर को उपचुनाव होगा। यह उपचुनाव समाजवादी पार्टी के अस्तित्व तथा अखिलेश यादव के नेतृत्व क्षमता का विस्तार करेगा ऐसा राजनीतिक पंडितों का अनुमान है। वैसे यहां चुनाव तो सपा प्रमुख अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव […]

Read More
Analysis

बागी फुटबालरों का कमाल! ईरानी नारी-मुक्ति हेतु!!

के. विक्रम राव हिजाब पर सेक्युलर भारत का सुप्रीम कोर्ट कुछ भी कहता रहे, इस्लामी ईरान के फुटबॉलरों ने कल (21 नवंबर 2022) दुनिया को दिखा दिया कि आजादी का तकाजा मजहब संकुचित नही कर सकता है। विश्व कप मैच में ईरान के खिलाड़ी राष्ट्रगान पर खामोश रहे। शेख तमीर बिन अहमद-शासित कतर की राजधानी […]

Read More
Analysis

यौनकर्मियों को कानूनी राहत कब तक?

के. विक्रम राव  वेश्यावृत्ति तथा राजनीति केवल दो ऐसे वृत्तियां हैं जहां अनुभवहीनता ही अर्हता मानी जाती हैं। यूं तो मिस्त्री और शल्य-चिकित्सक में सादृश्य हैं, पर समानता नहीं। मसला है कि यदि नारी के पास जीविकोपार्जन हेतु साधन ना होता ? “तो वह भूखों मरे ? अथवा वेश्यागिरी अपनाएं या फिर पुल से कूद […]

Read More