जल की एक बूंद

बलराम कुमार मणि त्रिपाठी

जल की एक बूंद
करती है सृजन
रचती है विश्व को ।

जल की एक बूंद
बनती वंश लोचन
सीप मे मोती
गजमुक्ता
चमकाती आनन ।

जल की एक बूंद
करती है प्राणदान
बनती चरणामृत
विष्णु पदनख की
सुरसरिता
पालती विश्व को।

जल की एक बूंद
ऋषियों का अस्त्र थी
नयनो की भाषा
बच्चों की आशा
बेटी का दर्द बन
उतरती अंतःकरण
बनती बड़ी परिभाषा।

ये भी पढ़ें

अच्छाई व बुराई: एक सिक्के के दो पहलू

जल की एक बूंद
नेत्रों से छलक
गिरी कृष्ण की गोद में
द्रोपदी की लाज बची
मचा महाभारत
करोड़ों भए रण मे आहत।

जल की एक बूंद
आसमान से गिरी
धरती पर लुढ़की
खेत मे पड़ी
निकला बीजांकुर
छिटकी हरियाली
गदबदाई फसल
हुई धरती
गद गद।

ये भी पढ़ें

तुम्हीं बता दो मेरे ईश्वर

ऐसे जल बूंद का
किया न मान
कितना रहा अज्ञान
समुद्र से आकाश तक
आकाश से धरती तक
करती निरंतर यात्रा
पार करती दुर्गम पथ
सदा रही तुम्हारी
कंठ के प्यास की आस
पर न हुआ
तुम्हें विश्वास
और तुम यूं ही
गिराते रहे
व्यर्थ करते रहे अपना जीवन
किया न मान?
अरे ! जल की बूंद को ही
करुणा की देवी
महाशक्ति
देवी दुर्गा
ममता की मूरत
जान ।

जिसने एक घूंट
से पाली तुम्हारी जिंदगी
उसे ही करुणा मयी
मां मान।

Litreture

प्रवासी भारतीय सुरेश चंद्र शुक्ल ‘ शरद आलोक’ नार्वे के ओस्लो शहर मे रहते है। भारत की हर राजनैतिक सामगजिक गतिविधियों पर इनकी नजर रहती है।

प्रवासी भारतीय सुरेश चंद्र शुक्ल ‘ शरद आलोक’ नार्वे के ओस्लो शहर मे रहते है। भारत की हर राजनैतिक सामगजिक गतिविधियों पर इनकी नजर रहती है। शिक्षक,पत्रकार,संपादक,कवि,कहानी कार है। इनके सद्य:प्रकाशित काव्य संग्रह ” जन मन के गांधी पर समीक्षा भारतीय समालोचक डॉ ऋषि कुमार मणि त्रिपाठी ने किया। जन मन के गांधी:कवि-सुरेशचंद्र शुक्ल’ शरद […]

Read More
Litreture National

बुझता दिया तेल की बूंदे पा गया !

के. विक्रम राव  आज (29 मई 2024, बुधवार) मेरे 85 बसंत पूरे हो गए। कई पतझड़ भी। कवि कबीर की पंक्ति सावधान करती है, जब वे माटी से घमंडी कुम्हार को कहलाते हैं : “एक दिन ऐसा आएगा, जब मैं रौंदूगी तोय।” चेतावनी है। मगर आस बंधाती है शायर साहिर की पंक्ति : “रात जितनी […]

Read More
Litreture

लघु-कथाकार नोबेल विजेताः एलिस का चला जाना !

के. विक्रम राव साहित्य के प्रतिष्ठित नोबेल पुरस्कार की विजेता एलिस मुनरो का कल (15 मई 2024) कनाडाई नगर ओंतारियों में निधन हो गया। वे 92 वर्ष की थीं। मतिभ्रम से पीड़ित थीं। लघु-कथा लेखिका के रूप में मशहूर एलिस की समता भारतीय लघुकथाकार मुल्कराज आनंद और आरके नारायण से की जाती है। रूसी कथाकार […]

Read More