तुम्हीं बता दो मेरे ईश्वर

बलराम कुमार मणि त्रिपाठी

बड़ी कृपा है उस ईश्वर की।
बीत गया यह भी दिन बेहतर।

पिछला हफ्ता रहा सुखद ही।
अगला दिन जाने कैसा हो?
दुख सुख के अंतर्द्वद्वों मे।
भारी कौन पड़े क्या कम हो?

बतला पाना कठिन बंधुवर!
प्रति दिन है भूगोल बदलता।।
कौन गया है बचा कौन अब।
उंगली पर नित नित मैं गिनता।।

जो बच गए कृपा ईश्वर की।
बीत रहा ऐसे दिन बेहतर।।

हर सांसों में स्पंदन उसका‌।
हर वाणी मे वंदन उसका।।
उसे देखता जल थल अंबर।
अहा! प्रकृति मे दर्शन उसका।‌

वंदन करता सप्त स्वरों मे।
वह भूमा अभिनंदन उसका।।
सूरज के प्रकाश सा जीवन।
सतरंगी तानों बानों का।।

कण कण मे सौंदर्य उसी का।
ज्ञानी ध्यानी कहें महत्तर।।

मेरे भीतर बाहर तुम हो।
सांस सांस मे केवल तुम ह़ो।।
रोम रोम को स्पर्श कर रहे।
जाने कितने व्यापक तुम हो।।

तुम हो क्या मैं समझ न पाया।
कब दिखते हो ?समझ न पाया।।
माया मय संसार तुम्हारा।
रच डाला क्यों समझ न पाया।।

हे शिवत्व के कर्ता धर्ता।
तेरी माया भी गुणवत्तर।।

इसमे तुम हो कौन बताओ?
अपना भी संदेश सुनाओ‌।।
कब कब कहां कहां रहते हो?
इसका कुछ संकेत बताओ।।

वेद पुराण उपनिषद मे हो।
गीता रामायण मे तुम हो।।
अथवा प्रणव मध्य मैं ढूंढ़ूं।
तंत्र मंत्र यज्ञों मे तुम हो।।

इतने जटिल प्रश्न हल कैसे?
तुम्ही बता दो मेरे ईश्वर।।

Litreture National

बुझता दिया तेल की बूंदे पा गया !

के. विक्रम राव  आज (29 मई 2024, बुधवार) मेरे 85 बसंत पूरे हो गए। कई पतझड़ भी। कवि कबीर की पंक्ति सावधान करती है, जब वे माटी से घमंडी कुम्हार को कहलाते हैं : “एक दिन ऐसा आएगा, जब मैं रौंदूगी तोय।” चेतावनी है। मगर आस बंधाती है शायर साहिर की पंक्ति : “रात जितनी […]

Read More
Litreture

लघु-कथाकार नोबेल विजेताः एलिस का चला जाना !

के. विक्रम राव साहित्य के प्रतिष्ठित नोबेल पुरस्कार की विजेता एलिस मुनरो का कल (15 मई 2024) कनाडाई नगर ओंतारियों में निधन हो गया। वे 92 वर्ष की थीं। मतिभ्रम से पीड़ित थीं। लघु-कथा लेखिका के रूप में मशहूर एलिस की समता भारतीय लघुकथाकार मुल्कराज आनंद और आरके नारायण से की जाती है। रूसी कथाकार […]

Read More
Litreture

नार्वे के भारतीय लेखक के दो लघु कथाओं की समीक्षा

समीक्षक: डॉ ऋषि कुमार मणि त्रिपाठी प्रेम प्रस्ताव(लघुकथा) कथाकार-सुरेश चंद्र शुक्ल’ शरद आलोक’ समीक्षक- डॉ ऋषि कमार मणि त्रिपाठी लेखक ने ओस्लो के एक चर्च मे मारिया के पति के अंतिम संस्कार के एक दृश्य का वर्णन किया है। किस प्रकार लोग शामिल हुए,फूलों के गुलदस्तों मे संदेश और श्रद्धांजलि देने वालो के नाम लिखे […]

Read More