सुरक्षा के बजाए जेल मुख्यालय में फाइल ढो रहे वार्डर!

  • विभाग से रिटायर हुए अफसरों के घरों पर लगे कई सुरक्षाकर्मी

आरके यादव

लखनऊ। जेलों में बंदियों की सुरक्षा के लिए तैनात किए गए वार्डर शासन, मुख्यालय ही नही रिटायर अफसरों के घरों पर चाकरी कर रहे है। यह बात सुनने में भले ही अटपटी लगे लेकिन सच है। मजे की बात यह है कि घरों में कुत्ता टहलाने, कपड़ा धोने, खाना बनाने के लिए लगाए गए सुरक्षाकर्मी को अभी तक हटाया नही गया। विभाग में कार्यरत के साथ रिटायर्ड अफसरों के घरों पर सुरक्षाकर्मियों को लगा रखा है। जेलों की सुरक्षा के लिए तैनात दर्जनों की संख्या में सुरक्षाकर्मियों को जेल मुख्यालय में फाइल ढोने के लिए लगा रखा गया है।

विभागीय जानकारों और दस्तावेजों के मुताबिक राजधानी जेल मुख्यालय से रिटायर्ड एआईजी के घर पर सेवा के लिए लगे वार्डर को वापस करने का आदेश किया। इसी प्रकार करीब आठ साल पहले जेल मुख्यालय से डीआईजी मुख्यालय के पद से सेवानिवृत्त हुए के घर पर भी जेल का एक वार्डर चाकरी कर रहा है। इसी प्रकार रिटायर्ड एआईजी के यहां हरदोई, सीतापुर व लखीमपुरखीरी जेल से वार्डर चाकरी के लिए लगाए गए है। यह तो बानगी भर है। इसी प्रकार कई सेवानिवृत्त अधिकारियों के घरों पर अनाधिकृत रूप से वार्डरों को तैनात कर रखा गया है।

इस सच की पुष्टि कारागार मुख्यालय के दस्तावेज से की जा सकती है। सूत्रों का कहना है कि यही नहीं जेल की सुरक्षा के लिए तैनात किए गए हेड वार्डर और वार्डरों को दर्जनों की संख्या में जेल मुख्यालय में फाइल ढोने के लिए लगा रखा है। जेलों की सुरक्षा को काटकर जेल मुख्यालय में लगाए गए इन वार्डरों को लंबे समय तक हटाया नहीं जाता है। वर्तमान समय में प्रदेश की विभिन्न जेलों से करीब छह से सात दर्जन सुरक्षाकर्मी मुख्यालय में अटैच किए गए हैं। एक बार अटैच होने के बाद यह सुरक्षाकर्मी लंबे समय तक मुख्यालय पर ही जमेे हुए हैं। उधर जेल मुख्यालय के डीआईजी अरविंद कुमार सिंह से जब बातचीत करने का प्रयास किया गया तो उनका फोन ही नहीं उठा। मुख्यालय के अन्य अधिकारी इस गंभीर मसले पर टिप्पणी करने से बचते नजर आए।

प्रमुख सचिव कारागार का आदेश हुआ हवा हवाई

प्रदेश की विभिन्न जेलों से मुख्यालय और अन्य जेलों पर अटैच सुरक्षाकर्मियों को अपने मूल तैनाती स्थल पर भेजने के लिए प्रमुख सचिव कारागार की ओर बीते दिनों एक आदेश किया गया था। यह आदेश भी हवा हवाई ही साबित हुआ। प्रमुख सचिव के निर्देश के बाद भी मुख्यालय और जेलों से सम्बद्ध किसी भी जेल सुरक्षाकर्मी हो हटाया नहीं गया। प्रमुख सचिव के आदेश से पूर्व जेलमंत्री स्वतंत्र प्रभार ने भी ऐसा ही एक आदेश किया था। वह भी कागजों में सिमट कर रहा गया।

Raj Dharm UP

योगी की पहल उतर रही धरातल पर, शिमला का सेब अब पूरब की तराई में!

केवीके बेलीपार की पहल पर गोरखपुर के कुछ किसान बड़े पैमाने पर खेती की तैयारी में मात्र दो साल में ही आ जाता है फल, तीन साल पहले आई थी यह प्रजाति लखनऊ। शिमला का सेब तराई में! है न चौंकाने वाली बात। पर चौंकिए मत। यह मुकम्मल सच है। ठंडे और ऊंचे पहाड़ों से […]

Read More
Raj Dharm UP

काल बनी सड़क: एक बार फिर आगरा एक्सप्रेस-वे पर बड़ा हादसा, चली गई 18 लोगों की जान

एक टैंकर से टकराकर पलट गई डबलडेकर बस बड़ा हादसा: सड़क पर दिखने लगी लाशें ही लाशें लखनऊ । राष्ट्रीय राजमार्गों पर सड़क हादसे में मौत होने का सिलसिला थम नहीं रहा है। उन्नाव जिले में बुधवार सुबह लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे भीषण सड़क हादसा हुआ। डबल डेकर बस एक टैंकर से टकरा गई। टकराने के बाद […]

Read More
Raj Dharm UP

…तो जेल में ठूस दी जाएगी पाखंडियों की फौज, बड़े एक्शन की दरकार

ए अहमद सौदागर लखनऊ। हाथरस के सिकंद्राराऊ में सत्संग के दौरान भगदड़ में हुई मौतों के मामले में मुख्य आरोपी देव प्रकाश मधुकर सहित आधा दर्जन आरोपी को पकड़कर पुलिस ने पाखंडियों के चेहरे से नकाब उतार दिया है। आधा दर्जन आरोपी सलाखों के पीछे तो पहुंच गए हैं, इस मामले का असली पाखंडी बाबा […]

Read More