कविता : वादा दिवस, पतिदेव की कहानी

कर्नल आदि शंकर मिश्र
कर्नल आदि शंकर मिश्र

वादा करो कि बेलन का उपयोग
चपाती बनाने के लिये ही करोगी,
वादा दिवस, पति देव की कहानी
सुनिये कहानी उन्हीं की ज़ुबानी।

प्रेम विवाह और उनकी ज़िंदगी,
घर से भाग कोर्ट में कर ली शादी,
कुछ दिन मौजें, फिर शुरू झगड़े,
प्रेम भूत उतरा और बोल बिगड़े।

ये भी पढ़ें

 कविता : हरि नाम सदा जपिये जपिये

वैलेंटाइन डे से शुरू प्रेम की पैंगें,
रोज़ डे, प्रपोज़ डे, चाकलेट डे,
टेडी डे, प्रोमिज डे, हग डे, किस डे,
वैलेंटाइन डे और बस फिर बेलन डे।

पाश्चात्य संस्कृति पाश्चात्य ढंग,
कोर्ट में शादी, कोर्ट में शादी भंग,
जब जवानी में कदम डगमगाया,
बिगड़ी जवानी, बिगड़ गया बुढ़ापा।

कविता: विश्वास खोना बहुत आसान होता है,

बिज़नेस शादी, शादी बिज़नेस,
टूट गया एग्रीमेंट, बिज़नेस ख़त्म,
बिज़नेस ख़त्म तो शादी भी ख़त्म,
जीवन में यूँ होता सब कुछ ख़त्म।

इसमें उलझे उलझे युवा वृद्ध सब
पुलवामा बलिदानी सैनिक जज़्बा,
भूल गये आज का शहीद दिवस,
आदित्य वैलेंटाइन याद विवश।

Litreture

चार लघु कथाओं की समीक्षा

समीक्षक: डॉ ऋषिकुमार मणि त्रिपाठी लेखक सुरेश शुक्ल ‘शरद आलोक’ लघु कथा एक झलक लेखक सुरेश शुक्ल ‘शरद आलोक’ साग्न स्टूडेंट टाउन से मशहूर क्लब सेवेन शहर ओस्लो के मध्य रात ग्यारह बजे आगए। डिस्कोथेक के जीवंन्त संगीत आर्केस्ट्रा सभी नि:शुल्क प्रवेश  मदिरा पीकर अनजान लड़कियो के बांहो मे बाहें डाले रात भर नाचते। मै […]

Read More
Litreture

जल की एक बूंद

जल की एक बूंद करती है सृजन रचती है विश्व को । जल की एक बूंद बनती वंश लोचन सीप मे मोती गजमुक्ता चमकाती आनन । जल की एक बूंद करती है प्राणदान बनती चरणामृत विष्णु पदनख की सुरसरिता पालती विश्व को। जल की एक बूंद ऋषियों का अस्त्र थी नयनो की भाषा बच्चों की […]

Read More
Litreture

नारायण जो हर पल रचते नई कहानी

है अनंत आकाश हमारा घर आंगन. मै चिडिया बन उड़ता रहा गगन में सब दिन| अपने तो मिल सके नहीं पूरे जीवन भर, मै सपने मे सबको अपना मान चुका था ||1|| टूट गया भ्रम जब देखी मैने सच्चाई यहां कागजी नावें चलती हर दरिया में | कश्ती कब पानी मे डूबी समझ न पाया, […]

Read More