प्रवासी भारतीय सुरेश चंद्र शुक्ल ‘ शरद आलोक’ नार्वे के ओस्लो शहर मे रहते है। भारत की हर राजनैतिक सामगजिक गतिविधियों पर इनकी नजर रहती है।

प्रवासी भारतीय सुरेश चंद्र शुक्ल ‘ शरद आलोक’ नार्वे के ओस्लो शहर मे रहते है। भारत की हर राजनैतिक सामगजिक गतिविधियों पर इनकी नजर रहती है। शिक्षक,पत्रकार,संपादक,कवि,कहानी कार है। इनके सद्य:प्रकाशित काव्य संग्रह ” जन मन के गांधी पर समीक्षा भारतीय समालोचक डॉ ऋषि कुमार मणि त्रिपाठी ने किया।

जन मन के गांधी:कवि-सुरेशचंद्र शुक्ल’ शरद आलोक’ पुस्तक समीक्षा: समीक्षक- डॉ ऋषि कुमार मणि त्रिपाठी

साहित्य समाज का दर्पण है,कवि जन मन की भावनाओं का चितेरा है। गांधी के इस देश मे जहां आजादी की लड़ाई मे महात्मा गांधी बैरिस्टर होकर मे जनता के बीच आम जन बन कर रहे,एक धोती मे जीवन काटा जनसमस्याओं से अवगत होते हुए.. सत्याग्रह किया। सत्ता के विरुद्ध आम जनता की भावनाओं के अनुरुप आवाज उठाते रहे। उसी देश मे वर्तमान समय मे सत्ता के सिंहासन पर बैठे हुए लोग.. दिन भर कपड़े बदलते हैं.. महंगे से महंगे वस्त्र पहनते है,लक्जरी गाड़ियो पर चलते है और किसानो, महिलाओं,बुद्धिजीवियौ पर कहर ढाते है। कवि ऐसे राजनीतिज्ञों को धिक्कारता हुआ.. आम जन की आवाज को उठाता है। गांधी की पीड़ा को दर्शाता है.. जन मन के गांधी नामक पुस्तक मे कवि शरद आलोक ने आम जन की भावनाओं को नई कविताओ मे ढाला है‌। पुस्तक मे कुल 77कविताये हैं,जो राजनैतिक व्यंग्य के रूप मे पुस्तक मे प्रतिष्ठित हैं।

नार्वे मे रहकर भी भारतीय मूल के इस कवि की सम्यक दृष्टि भारत के लोगो और सत्तासीनों पर टिकी हुई है। जनता की आवाज..ही जन मन के गांधी मे मुखर हुआ है‌। कवि ने शोषण के शिकार किसानों,श्रमिको वंचितो की त्रासदी को व्यक्त किया है। लेखक का मानना है कि लोकतंत्र मे संवेदनशीलता बहुत जरुरी है। जब तक हम आम लोगो की पीड़ा का अनुभव नहीं करेंगे,उसका समाधान नहीं ढूंढ़ सकेंगे। भूमिका मे स्वयं लिखते हैं..बच्चों की शिक्षाभोजन,छत,इलाज और सामाजिक सुरक्षा लोक तंत्र मे देश की जिम्मेदारी होती है। उनके अभिभावकों के प्रति भी एक जिम्मेदारी बनती है,जिसे नैतिकता और ईमानदारी से निभाया जाना चाहिए। लेखक का उद्देश्य पाठको को जागरुक करना है,सच से साक्षात्कार कराना है। गांधी का सपना ..सर्वधर्म समभाव,समानता,न्याय और समान भागीदारी आवश्यक है। संविधाश हमारा निर्देशक है। प्रारंभ मे ओस्लो के जन जीवन की चर्चा है जहां ‘दिन को ओले मध्यरात्रि मे सूरज ..महज कुछ समय के लिए डूबता है फिर उदय होजाता है।

चार लघु कथाओं की समीक्षा

एक बात है,कवि की लेखनी हर मुद्दो पर अनवरत चली है,महज एक साल कै भीतर मात्र नौ माह मे लिखी ये कवितायें क्रांति का विगुल फूंकती दिखाई देती हैं। कवि कहता है..” देश मे 80करोड़ लोगयोग नहीं करते।योग के बारे मे नहीं सोचते।सुबह से रात तकमजदूरी और उसकी तलाश करते हैं।”
लेखक को पीड़ा होती है… जब वह महिला खिलाडियो की यौन उत्पीड़न के विरुद्ध आवाज उठाने पर उन पर ही कहर ढाई जाती है। वह कहता है-
“भारत मे जाति और धार्मिक हिंसा की आवाज यौन उत्पीड़न महिला पहलवानो की आवाज दलित मुस्लिम अल्पसंख्यक और पत्र कारो पर सरकारी जुल्म भारत मे चढ़ कर बोल हा।”
कवि धार्मिक उन्माद बढ़ाने और शासन के द्वारा कानून हाथ मे लिए जाने को निंदनीय बताया है-
“जब से धार्मिक उन्माद बढ़ा है,शासन ने कानून हाथ मे लिया है। न्यायपालिका की अवहेलना पर सरकार को जब सजा नहीं होती,सत्ता बेलगाम होजाती है।और तब जनहित कार्यो से नहीं, बल्कि पुलिस,ईडी,सीबीआई के दुरुपयोग उत्पीड़न सै जनता को डराती है” – विभाजन कारी बुलडोजर  कवि को प्रधान मंत्री द्वारा विपक्षी सांसदो की खिल्लिया उड़ाना बुरा लगता है,उनकी आवाज की अनदेखी नही की जानी चाहिए-
“देश की नांव में छेद पर छेद होरहे। संसद मे प्रधानमंत्री विपक्षियों का अपमान कर रहे।
सांसद ताली बजाकर खिल्ली उड़ा रहै।”- नेता डुबा रहे लोकतंत्र के चारो स्तंभ स्वतंत्र और निष्पक्ष हों तो लोकतंत्र सुरक्षित रह पाता है,ऐसा कवि का मानना है-
“न्याय पालिका,चुनाव आयोग और मीडिया झुका हुख है। इसीलिए लोकतंत्र का मानो गला घुटा हुआ है।”- अर्द्धसत्य लेखक का मानना है कि सत्याग्रह ही देश को बचा सकता है-
“केवल सत्याग्रह ही देश को बचायेगा।
हर क्षेत्र मे संगठित हो लड़ेंगे।”-हवा के खिलाफ गांधी मणिपुर मे नारी के नग्न कर घुमाये जाने और अहिंसक प्रदर्शन कारियो की गिरफ्तारी पर कवि तड़प उठता है-
” मणिपुर जल रहा है लोकतंत्र बचाओ। मणिपुर मे मानवाधिकार शांति लाओ।कानून का राज्य चूर चूर हुआ है।सरकार का विश्वास दूर हुआ है।”-मणिपुर जल रहा ,लोकतंत्र बचाओ
बरैली और लखनऊ की स्मृतियां कवि के हृदय मे जगह बना लेती है- ‘बरेली मे भीगी सारी गली’ ‘लखनऊ मे सुबह’ ऐसी ही रचनाएं हैं।”जिससे स्वच्छ पानी स्नेह भी मिला भरपूर है‌।
हमारे प्यारे लखनऊ की मेहमान नवाजी मशहूर है।”
– लखनऊ मे सुबह  कोरोना काल की स्मृतियां कवि को कुरेदती हैं,जिन झुग्गी झोपड़ियो का अतिक्रमण सरकार ने हटाया,वही अंतिम क्रिया कराने मे काम आए- “जिसको किया बेघर
वही काम आई‌ अतिक्रमण भवन के मालिक को रिक्शे पर लाद कर श्मशान पर उसकी चिता को आग लगाकर दी अंतिम विदाई। -‘कोरोना काल मे अतिक्रमण’
कवि को किसान आंदोलन,महिला पहलवानो के आरोप की अनसूनी करना,मणिपुर के शर्मनाक कांड पर चुपी साध लेने वाले प्रधान मंत्री अनफिट लगते हैं,वे तानाशाही की तरफ बढ़ते नजर आते हैं। यथा-“यह पहले अनफिट पीएम है। क्या आगे भी अनफिट आएंगे? जिनका देश विदेश मे नाम घटा लोकतंत्र मे तानाशाह बन जाएंगे।” – ‘अनफिट प्रधानमंत्री’
कवि जनमन के गांधी का एक बार फिर आह्वान करता है-
“गांधी सुबाष फिर आओ तुम सड़को पर देश बचाओ तुम। सत्य अहिंसा के बल पर लोकतंत्र बहाल कराओ तुम।” – ‘जनमन के गांधी हो,शांतिदूत बनजाओ तुम’ – इलेक्टोरल बांड के नाम पर धन उगाही.. भ्रष्टाचार की कोटि मे है। कवि सीधे चोट करता है-
“- चंदे के बदले धंधे की पोल खुल गई। गारंटी वाले चेहरे पर हवाई उड़ रही।भ्रष्टाचार मे प्रधानमंत्री बेनकाब होगए, भ्रष्टाचार मे उन्हें जेल कहीं जाना न पड़े?”-‘भ्रष्टाचार मे कही जेल न जाना पड़े’
लोकतंत्र की रक्षा के लिए कवि चिंतित होकर देश वासियो से आह्वान करता है-
“देश के लोगो ! देश बिकने न दो,
लोकतंत्र बचाओ इसे मिटने न दो।
ईस्ट इंडिया कंपनी सरकार बन गई!
देश को गुलाम फिर से होने न दो।”
– ‘देश के लोगो देश बिकने न दो


इस प्रकार कवि शरद आलोक ने “कल पर मत छोड़ो” कविता के आह्वान के साथ लोकतंत्र की रक्षा के लिए,समस्त देश वासियो से जुट जाने की अपील की है। इस तरह जनमन के गांधी काव्यसंग्रह मे कवि की व्यापक दृष्टि नजर आई है। प्रवासी भारतीयो को भी जगाने के साथ इन्होंने देशवासियो से सतत जनजागरण का संदेश दिया है

Litreture National

बुझता दिया तेल की बूंदे पा गया !

के. विक्रम राव  आज (29 मई 2024, बुधवार) मेरे 85 बसंत पूरे हो गए। कई पतझड़ भी। कवि कबीर की पंक्ति सावधान करती है, जब वे माटी से घमंडी कुम्हार को कहलाते हैं : “एक दिन ऐसा आएगा, जब मैं रौंदूगी तोय।” चेतावनी है। मगर आस बंधाती है शायर साहिर की पंक्ति : “रात जितनी […]

Read More
Litreture

लघु-कथाकार नोबेल विजेताः एलिस का चला जाना !

के. विक्रम राव साहित्य के प्रतिष्ठित नोबेल पुरस्कार की विजेता एलिस मुनरो का कल (15 मई 2024) कनाडाई नगर ओंतारियों में निधन हो गया। वे 92 वर्ष की थीं। मतिभ्रम से पीड़ित थीं। लघु-कथा लेखिका के रूप में मशहूर एलिस की समता भारतीय लघुकथाकार मुल्कराज आनंद और आरके नारायण से की जाती है। रूसी कथाकार […]

Read More
Litreture

नार्वे के भारतीय लेखक के दो लघु कथाओं की समीक्षा

समीक्षक: डॉ ऋषि कुमार मणि त्रिपाठी प्रेम प्रस्ताव(लघुकथा) कथाकार-सुरेश चंद्र शुक्ल’ शरद आलोक’ समीक्षक- डॉ ऋषि कमार मणि त्रिपाठी लेखक ने ओस्लो के एक चर्च मे मारिया के पति के अंतिम संस्कार के एक दृश्य का वर्णन किया है। किस प्रकार लोग शामिल हुए,फूलों के गुलदस्तों मे संदेश और श्रद्धांजलि देने वालो के नाम लिखे […]

Read More