मात्र पत्नी ही क्यों? पुरुष की भी भागीदारी हो !

के. विक्रम राव
              के. विक्रम राव

छठ पूजा आज (31 अक्टूबर 2022) समाप्त हो गई है। ब्याहताओं के लिए दैहिक पीड़ा का दौर भी खत्म हुआ। तो प्रश्न आता है कि इन समस्त धार्मिक विधि-विधानों में पतिजन भी शिरकत क्यों नहीं करते ? केवल अर्धांगिनी ही क्यों ? अंततः लाभार्थी तो पुरुष ही होता है। रेवड़ी वही खाता है। इसीलिए उपासना के साथ उपवास भी वही रखें। नर-नारी की गैरबराबरी के अंत को सप्तक्रांति के प्रथम पायदान पर राममनोहर लोहिया ने रखा था। धार्मिक रस्मों-रिवाज समावेशी होने चाहिए। ठीक ऐसी ही प्रथा भारत के मिलते-जुलते अधिकतर पर्वों में भी निर्धारित है। यही शर्तें और पाबंदी ! मसलन दक्षिण भारत में वरलक्ष्मी व्रतम, बटुकम्मा (तेलंगाना), उत्तर में करवा चौथ, हरियाली तीज, काली पूजा, नवरात्र आदि। अब छठ पर आचरण के नियमों की विवेचना हो। व्रत के दो दिन पूर्व से ही पति भी नमक, प्याज, लहसुन का सेवन बंद कर दे। निराहार निर्जल उपवास करें। सभी क्रियाओं तथा प्रथाओं में भार्या का हाथ बटाएं। मांसाहार तथा धूम्रपान न करें। पूर्णता निषि्द्ध हो। व्रत के दौरान चारपाई और बिस्तर पर ना सोये। फर्श पर पुआल बिछाकर लेटे। इनसे संतान की दीर्घायु होती है। इसके कारण वामांगिनी भी स्वस्थ और संतुष्ट रहेगी। अर्थात सभी अर्चनाएं तथा आचरण की अनिवार्यत: दंपत्ति पर समान रूप से लागू हो। आखिर सप्तपदी के अवसर पर ऐसी ही कसमें खाई थीं, वादे भी किये थे।

इस संदर्भ में अपना निजी प्रयास बता दूं। मैंने अपने पत्रकार साथियों की बीबियों से कहा था कि सांझ ढले जब शौहर घर आये तो खिड़की से सूंघना। सिटकनी उठाने और किवाड़ खोलने के पूर्व जांच लें। रात बरामदे में बिताने पर सारा नशा काफूर हो जायेगा। अब पहले जिक्र हो सर्वाधिक कठिनतम हरितालिका तीज के पर्व का। इसे शुरू करने पर आजीवन करना पड़ता है। वरना घोर संकट आता है। हरतालिका व्रत तीज भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया को हस्त नक्षत्र के दिन होता है। इस दिन कुमारी और सौभाग्यवती स्त्रियाँ गौरी-शङ्कर की पूजा करती हैं। विशेषकर उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल और बिहार में मनाया जाने वाला यह त्योहार करवाचौथ से भी कठिन माना जाता हैं,क्योंकि जहां करवाचौथ में चन्द्र देखने के उपरांत व्रत सम्पन्न कर दिया जाता है, वहीं इस व्रत में पूरे दिन निर्जल उपवास किया जाता है और अगले दिन पूजन के पश्चात ही व्रत सम्पन्न हो जाता है। इस व्रत से जुड़ी एक मान्यता यह है कि इसे करने वाली स्त्रियां पार्वती जी के समान ही सुखपूर्वक पतिरमण करके शिवलोक को जाती हैं। सौभाग्यवती स्त्रियां अपने पति हेतु इसे करती हैं, सुहाग को अखण्ड बनाए रखने के लिए।

अविवाहित युवतियां मन-अनुसार वर पाने के लिए हरितालिका तीज का व्रत करती हैं। सर्वप्रथम इस व्रत को माता पार्वती ने भगवान शिव शङ्कर के लिए रखा था। इस दिन विशेष रूप से गौरी-शंकर का ही पूजन किया जाता है। इन व्रती के दौरान शयन का निषेध है। इसके लिए उसे रात्रि में भजन कीर्तन के साथ जागरण करना पड़ता है। प्रातःकाल स्नान करने के पश्चात् श्रद्धा एवम भक्तिपूर्वक किसी सुपात्र सुहागिन महिला को श्रृंगार सामग्री ,वस्त्र ,खाद्य सामग्री ,फल ,मिष्ठान्न एवम यथा शक्ति आभूषण का दान करना चाहिए। व्रती महिलाएं अन्न जल तक ग्रहण नहीं करती हैं। कहते हैं इस कठिन व्रत से देवी पार्वती ने भगवान शिव को प्राप्त किया था। इसलिए इस व्रत में शिव पर्वती की पूजा का अपना विशेष महत्व है। तभी भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा अर्चना से अखंड सौभाग्य की प्राप्ति होती है। कुंवारी कन्याएं इस व्रत को मनचाहे वर की प्राप्ति के लिए रखती है। मान्यताओं के अनुसार, कहा जाता है कि इस दिन माता पार्वती और भगवान शिव का पुनर्मिलन हुआ था। पार्वती ने शिव को पति के रूप में पाने के लिए बहुत तपस्या की थी। उनकी तपस्या से प्रसन्न होकर पार्वती ने उन्हें दर्शन दिए और पत्नी के रूप में स्वीकार किया।

यह व्रत निर्जला रखते हैं। यानी पूरे 24 घंटे व अन्न जल का त्याग करते हैं। इस व्रत को करने के दौरान कई नियमों का पालन करना पड़ता है, तभी व्रत और पूजा सफल मानी जाती है। यानी 24 घंटे तक अन्न जल कुछ भी ग्रहण नहीं करते। हरतालिका तीज का व्रत पति की दीर्घायु की कामना के लिए रखा जाता है। इस व्रत में पानी पीने से अगले जन्म में बंदर का जन्म लेना पड़ता है। करवा चौथ, हरियाली तीज, कजरी तीज और वट सावित्री जैसे सभी व्रतों में हरतालिका तीज का व्रत सबसे मुश्किल व्रत माना जाता हैं। इस व्रत में नियम हैं कि झूठ ना बोले और कोई ऐसी बात ना करें जिससे मन दुखी हो। मान्यता है कि इस व्रत को करने वाली महिलाएं यदि ऐसा कुछ करती हैं तो उन्हें अगले जन्म में अजगर के रूप में जन्म लेना पड़ता है। वहीं इस दिन व्रत के दौरान यदि व्रती महिला दूध पीती है तो वह अगले जन्म में सर्प की योनि में जन्म लेती है। करवा चौथ हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है। इसे “पति दिवस” बताया जाता है। यह भारत के जम्मू, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, मध्य प्रदेश और राजस्थान में मनाया जाने वाला पर्व है। यह कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाता है। पति की दीर्घायु एवं अखण्ड सौभाग्य की प्राप्ति के लिए इस दिन भालचन्द्र गणेश जी की अर्चना की जाती है। करवाचौथ में भी संकष्टीगणेश चतुर्थी के जैसे दिन भर उपवास रखकर रात में चन्द्रमा को आराघ्य देने के उपरांत ही भोजन करने का विधान है।

Twitter ID: @Kvikramrao

Analysis

डॉ. त्रिपाठी की मदर-इन-लॉ का देहांत

लखनऊ। राष्ट्रपति के पूर्व ओएसडी डॉ. कन्हैया त्रिपाठी की मदर-इन-लॉ ऊषा शुक्ला का देहांत एक दिसम्बर को हो गया है। वह 60 वर्ष की थीं और लंबे समय से बीमार थीं। उनका निधन गुजरात के सूरत में हुआ। डॉ. त्रिपाठी ने उनके निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। अपने शोक संदेश में कहा है […]

Read More
Analysis

फुटबॉल का उद्दाम पक्ष! रोनाल्डो प्रकरण!!

के. विक्रम राव एक पैगाम, बल्कि चेतावनी, आज (7 दिसंबर 2022) फिर आई है। “घमंडी का सर नीचा” वाली पुरानी कहावत को चरितार्थ करती हुई। तीन हजार किलोमीटर दूर कतर की लुसैल फुटबॉल स्टेडियम में पुर्तगाल ने स्विजरलैंड को आज तड़के भोर में पांच गोल से पीट दिया। उसके शीर्षतम खिलाड़ी क्रिश्चियानो रोनाल्डो नही खेले। […]

Read More
Analysis

Mahaparinirvan Day Special : स्व-मूल्यांकन की मांग करते बाबासाहेब डॉ. आंबेडकर

हमारे देश में बाबासाहेब डॉ. भीमराव आंबेडकर का जो स्थान है वह आज़ादी के बाद कदाचित उस कालखंड में जन्म लेने वालों को नहीं मिला। वह हमेशा सम्मान की नज़र से प्रतिष्ठित हैं और जब तक भारत रहेगा उनका वह स्थान सुरक्षित है, ऐसा कहा जाए तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी । सबसे बड़ी बात […]

Read More