भूकंप से नेपाल में भीषण तबाही, अब तक 154 लोगों की मौत,

  • कई इमारतें भी जमींदोज, नेपाल के पीएम पुष्प कमल दहाल प्रचंड ने व्यक्त किया गहरा दुख

उमेश चन्द्र त्रिपाठी

महराजगंज । नेपाल में शुक्रवार देर रात आए भूकंप ने तबाही मचा दी है। 6.4 तीव्रता वाले इस भूकंप के कारण कई इमारतें ढह गई हैं। भूकंप के बाद अब तक 154 लोगों की मौत हो चुकी है। मलबे में दबने के कारण सैकड़ों लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं, जिन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बताया जा रहा है कि भूकंप के कारण ज्यादातर लोगों की मौत रुकुम पश्चिम और जाजरकोट में हुई है। मृतकों की जानकारी रुकुम पश्चिम के डीएसपी नामराज भट्टराई और जाजरकोट के डीएसपी संतोष रोक्का ने दी है।

नेपाल में तबाही मचाने वाले भूकंप की तीव्रता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है। कि उसका असर दिल्ली-एनसीआर समेत पूरे उत्तर भारत में देखा गया। बिहार के पटना और मध्य प्रदेश के भोपाल तक भूकंप के हल्के झटके महसूस किए गए। नेपाल के राष्ट्रीय भूकंप मापन केंद्र के मुताबिक भूकंप का केंद्र नेपाल के जाजरकोट जिले के लामिडांडा इलाके में था। नेपाल के प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहाल ‘प्रचंड’ ने भूकंप से हुई लोगों की मौत पर दुख व्यक्त किया है। उन्होंने बचाव और राहत के लिए तीन सुरक्षा एजेंसियों को तैनात किया है। इस भूकंप का असर यूपी के लखनऊ में भी देखा गया था, जहां लोग झटके महसूस होने के बाद घरों से बाहर निकल आए थे।

वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ हिमालयन जियोलॉजी के पूर्व वरिष्ठ भूकंप विज्ञानी डॉ. अजय पॉल ने बताया कि पिछले महीने नेपाल में 5.7 तीव्रता का भूकंप आया था और उससे पहले भूकंप का केंद्र डोटी था, जो आज भूकंप के केंद्र करीब है। इसका मतलब यह है कि केंद्रीय बेल्ट सक्रिय रूप से ऊर्जा जारी कर रही है। बता दें कि डॉ पॉल ने इससे पहले दावा किया था कि निकट भविष्य में हिमालय क्षेत्र में बड़ा भूकंप आ सकता है।

नेपाल में बढ़ रहे भूकंप के झटके

नेपाल में पिछले कुछ महीनों के अंदर भूकंप की घटनाओं में बढ़ोतरी देखी गई है। पिछले महीने की 22 अक्टूबर को आए भूकंप का केंद्र भी नेपाल ही था। नेपाल में भूकंप के 4 झटके लगे थे। सुबह 7:39 मिनट पर भूकम्प का पहला झटका लगा था। जिसकी तीव्रता रेक्टर स्केल पर 6.1 मापी गई। इसके बाद भूकंप का दूसरा झटका 4.2 तीव्रता का 8:08 मिनट आया था। भूकम्प का तीसरा झटका सुबह 8:28 मिनट पर महसूस किया गया था और इसकी तीव्रता 4.3 रही थी। इसके बाद 8:59 मिनट पर चौथी बार भूकंप का झटका महसूस किया गया था।

क्यों आता है भूकंप?

धरती की ऊपरी सतह सात टेक्टोनिक प्लेटों से मिल कर बनी है। जहां भी ये प्लेटें एक दूसरे से टकराती हैं वहां भूकंप का खतरा पैदा हो जाता है। भूकंप तब आता है जब इन प्लेट्स एक दूसरे के क्षेत्र में घुसने की कोशिश करती हैं, प्लेट्स एक दूसरे से रगड़ खाती हैं, उससे अपार ऊर्जा निकलती है, और उस घर्षण या फ्रिक्शन से ऊपर की धरती डोलने लगती है, कई बार धरती फट तक जाती है, कई बार हफ्तों तो कई बार कई महीनों तक ये ऊर्जा रह-रहकर बाहर निकलती है और भूकंप आते रहते हैं, इन्हें आफ्टरशॉक कहते हैं।

तीव्रता के हिसाब से क्‍या हो सकता है असर

  • 0 से 1.9 रिक्टर स्केल पर भूकंप आने पर सिर्फ सीज्मोग्राफ से ही पता चलता है।
  • दो से 2.9 रिक्टर स्केल पर भूकंप आने पर हल्का कंपन होता है।
  • तीन से 3.9 रिक्टर स्केल पर भूकंप आने पर कोई ट्रक आपके नजदीक से गुजर जाए, ऐसा असर होता है।
  • चार से 4.9 रिक्टर स्केल पर भूकंप आने पर खिड़कियां टूट सकती हैं। दीवारों पर टंगे फ्रेम गिर सकते हैं।
  • पांच से 5.9 रिक्टर स्केल पर भूकंप आने पर फर्नीचर हिल सकता है।
  • छह से 6.9 रिक्टर स्केल पर भूकंप आने पर इमारतों की नींव दरक सकती है। ऊपरी मंजिलों को नुकसान हो सकता है।

International

ओली सरकार की वापसी से चीन की होगी ‘बल्ले-बल्ले ‘ या भारत से और करीब आएगा नेपाल

नेपाल के मौजूदा प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहाल प्रचंड संसद में विश्वास प्रस्ताव के दौरान बहुमत हासिल करने में असफल रहे हैं। प्रचंड ने विश्वास प्रस्ताव में बहुमत न मिलने की वजह से अपने पद से इस्तीफा भी दे दिया है। अब केपी शर्मा ओली का प्रधानमंत्री बनना तय है। उमेश चन्द्र त्रिपाठी काठमांडू। नेपाल में […]

Read More
International

बिहार की 2,600 साल पुरानी संरचना राजगीर की साइक्लोपियन दीवार ढही

रंजन कुमार सिंह चीन की दीवार से भी प्राचीन है यह दीवार महाभारत काल में राजा बृहद्रथ ने रखी थी इस दीवार की नींव बिहार में भारी बारिश के कारण राजगीर में स्थित देश की सबसे पुरानी साइक्लोपियन दीवार के कुछ हिस्से ढह गए हैं, जिससे 2,600 वर्ष पुरानी इस संरचना के रखरखाव पर प्रश्नचिह्न […]

Read More
International

नेपाल के गृहसचिव ने आज एक भव्य समारोह में भारत-नेपाल सीमा पर स्थित नेपाल के बेलहिया में इंट्रीग्रेटेड चेक प्वाइंट का फीता काटकर किया भव्य उद्घाटन

उमेश चन्द्र त्रिपाठी भैरहवा नेपाल । भारतीय सीमा से सटे नेपाल के बेलहिया में आज नेपाल के गृहसचिव एक नारायण आर्याल ने आज नवनिर्मित इंट्रीग्रेटेड चेक प्वाइंट का फीता काटकर भव्य उद्घाटन किया। समारोह की अध्यक्षता रूपंदेही जिले के प्रमुख जिलाधिकारी गणेश आर्याल ने की। इस अवसर पर डीआईजी कुबेर कांडयात, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक राजेश […]

Read More