दुनिया मानती है, आज का भारत आतंकवाद से अलग तरीके से निपटता है: जयशंकर

नई दिल्ली। दुनिया मानती है कि आज का भारत आतंकवाद से बहुत अलग तरीके से निपटता है। विदेश मंत्री डॉ. एस. जयशंकर ने मंगलवार को यहां हंसराज कॉलेज में आयोजित ‘विकसित भारत 2047’ कार्यक्रम में यह टिप्पणी की। उन्होंने कहा भारत की छवि मित्रवत, लेकिन निष्पक्ष है, अगर आप आतंकवाद जैसी चुनौती को देखें, तो दुनिया मानती है कि आज का भारत आतंकवाद से बहुत अलग तरीके से निपटता है। इसकी तुलना बहुत सरल है, मुंबई हमलों के बाद क्या हुआ! और उरी तथा बालाकोट हमलों के बाद क्या हुआ? यह एक तुलना है।
जयशंकर ने चीन सीमा विवाद पर भारत के दृढ़ रुख और अंतरराष्ट्रीय दबाव के बावजूद यूक्रेन संघर्ष के बाद भारत द्वारा रूस से तेल खरीद जारी रखने के बारे में भी बात की। उन्होंने कहा हमारे सामने चीन सीमा पर एक चुनौती है। अब वे इन लोगों (भारतीय) को खड़े होकर सेना भेजते हुए देखते हैं। हम रूस से तेल न खरीदने के दबाव में थे। भारत ने कहा कि अपने हितों के लिए मुझे तेल खरीदना चाहिए और मैं इसे छिपा नहीं रहा हूं। हम इस बारे में बहुत खुले और ईमानदार थे। हम इस बारे में बहुत साहसी थे।
भारत में डिजिटलाइजेशन को लेकर जयशंकर ने कहा आज भारत कितना डिजिटल हो गया है। भारत में हम प्रति माह 10-11 अरब कैशलेस लेनदेन करते हैं। अमेरिका एक वर्ष में 4 अरब कैशलेस लेनदेन करता है। चीन एक वर्ष में अधिकतम 20 अरब डिजिटल ट्रांजेक्शन करता है। आज लोग हर चीज के लिए डिजिटल माध्यम से पेमेंट कर रहे हैं, चाहे वो ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना हो, पासपोर्ट की फीस जमा करनी हो या कुछ और सभी जगह डिजिटल माध्यम से लेनदेन के कारण भ्रष्टाचार बहुत हद तक कम हो गया है।
विदेश मंत्री ने श्रोताओं से ‘विकसित भारत’ की गंभीरता को समझने की अपील करते हुए कहा कृपया इसे एक नारा न समझें। यह एक बहुत गंभीर बात है। अभी हम सभी जिस मुद्दे की तलाश कर रहे हैं, वह भविष्य है। मैं आज आपसे अगले 25 वर्षों के बारे में बात करना चाहता हूं, जो आपका भविष्य है और हमारा अमृत काल है। मैं आज महसूस कर सकता हूं कि हम किसी बहुत बड़ी चीज के बिंदु पर हैं। दुनिया भी हमें देख रही है। मैं इन 25 वर्षों को नए अवसरों, नई तकनीकों और नई चुनौतियों के दौर के रूप में देखता हूं।
(रिपोर्ट. शाश्वत तिवारी)

National

WIPO संधि भारत और ग्लोबल साउथ के लिए एक बड़ी जीत

नई दिल्ली। विश्व बौद्धिक संपदा संगठन (डब्ल्यूआईपीओ) संधि भारत और वैश्विक दक्षिण के लिए एक ‘महत्वपूर्ण जीत’ है, क्योंकि इससे इन देशों के पारंपरिक ज्ञान की रक्षा करने में मदद मिलेगी। यह संधि न केवल जैव विविधता की रक्षा और सुरक्षा करेगी बल्कि पेटेंट प्रणाली में पारदर्शिता बढ़ाएगी और नवोन्‍मेषण को सुदृढ़ करेगी। करीब 25 […]

Read More
National

आतंकवाद-निरोध पर भारत-ब्रिटेन की बैठक, चुनौतियों से निपटने के लिए सहयोग बढ़ाने पर सहमति

नया लुक ब्यूरो नई दिल्ली। आतंकवाद-निरोध पर भारत-ब्रिटेन संयुक्त कार्य समूह की 16वीं बैठक मंगलवार को नई दिल्ली में आयोजित हुई। इस दौरान दोनों पक्षों ने दोनों देशों के बीच चल रहे आतंकवाद रोधी सहयोग पर चर्चा की। विदेश मंत्रालय ने बुधवार को यह जानकारी दी। भारत की ओर से विदेश मंत्रालय में आतंकवाद निरोधक […]

Read More
International National

सार्क महासचिव का भारत दौरा: सदस्य देश की पहली आधिकारिक यात्रा

नई दिल्ली। दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन (सार्क) के महासचिव मोहम्मद गुलाम सरवर का बुधवार को पांच दिवसीय भारत दौरा संपन्न हुआ। इस दौरान उन्होंने विदेश राज्य मंत्री राजकुमार रंजन सिंह, विदेश सचिव विनय क्वात्रा और विदेश मंत्रालय में सचिव (पूर्व) जयदीप मजूमदार के साथ क्षेत्रीय सहयोग के विभिन्न मुद्दों पर विस्तृत चर्चा की। विदेश […]

Read More