कविता : हम वही आपकी जनता हैं, नेता जी

कर्नल आदि शंकर मिश्र
कर्नल आदि शंकर मिश्र

हम वही आपकी जनता हैं, नेता जी,
जिसने तुम्हें विजय दिलवाई थी,
हाथ जोड़कर वोट माँगने आये थे,
नेता जी,
पूरे पाँच वर्ष फिर ग़ायब रहे थे,
नेता जी।
हम वही आपकी जनता हैं, नेता जी…

गड्ढों से बदहाल हमारी सड़कें हैं,
मलबे से बजबजा रहीं नालियाँ हैं,
कूड़ा बिखरा है सड़कों पार्कों में,
नेता जी,
सूखे नल लगे है घरों के बाहर में,
नेता जी।
हम वही आपकी जनता हैं, नेता जी…

नहीं कहीं है पानी की सप्लाई,
सीवर लाइन नहीं है डलवाई,
ग्रीन गैस लाइन पड़ी है वर्षों से,
नेता जी,
नहीं शुरू हुई अब तक सप्लाई,
नेता जी।
हम वही आपकी जनता हैं, नेता जी…

आवारा कुत्ते घूमें यहाँ हज़ारों में,
कब हमला कर दें बच्चों बूढ़ों पर,
आतंकी साँड़ घूमते गली गली में,
नेता जी,
वे उठाके पटकें अपनी सीघों पर,
नेता जी।
हम वही आपकी जनता हैं, नेता जी..

सैकड़ों कालोनियाँ यहाँ की अवैध
पुकारी जाती हैं चालीस सालों से,
नियमितीकरण ये नहीं कर रहे हैं,
नेता जी,
भ्रष्टाचारी हर कुर्सी पर जो बैठे हैं,
नेता जी।
हम वही आपकी जनता हैं, नेता जी…

प्रत्याशी देखा पहली बार आज,
अब तक किसी और दल में था,
टिकट मिल गया, पैसे के बल पर,
नेता जी,
आदित्य आये यहाँ दल बदलकर,
नेता जी।

हम वही आपकी जनता हैं, नेता जी,
हम वही आपकी….
जिसने तुम्हें विजय दिलवाई थी,
जिसने तुम्हें विजय….

 

Litreture

चार लघु कथाओं की समीक्षा

समीक्षक: डॉ ऋषिकुमार मणि त्रिपाठी लेखक सुरेश शुक्ल ‘शरद आलोक’ लघु कथा एक झलक लेखक सुरेश शुक्ल ‘शरद आलोक’ साग्न स्टूडेंट टाउन से मशहूर क्लब सेवेन शहर ओस्लो के मध्य रात ग्यारह बजे आगए। डिस्कोथेक के जीवंन्त संगीत आर्केस्ट्रा सभी नि:शुल्क प्रवेश  मदिरा पीकर अनजान लड़कियो के बांहो मे बाहें डाले रात भर नाचते। मै […]

Read More
Litreture

जल की एक बूंद

जल की एक बूंद करती है सृजन रचती है विश्व को । जल की एक बूंद बनती वंश लोचन सीप मे मोती गजमुक्ता चमकाती आनन । जल की एक बूंद करती है प्राणदान बनती चरणामृत विष्णु पदनख की सुरसरिता पालती विश्व को। जल की एक बूंद ऋषियों का अस्त्र थी नयनो की भाषा बच्चों की […]

Read More
Litreture

नारायण जो हर पल रचते नई कहानी

है अनंत आकाश हमारा घर आंगन. मै चिडिया बन उड़ता रहा गगन में सब दिन| अपने तो मिल सके नहीं पूरे जीवन भर, मै सपने मे सबको अपना मान चुका था ||1|| टूट गया भ्रम जब देखी मैने सच्चाई यहां कागजी नावें चलती हर दरिया में | कश्ती कब पानी मे डूबी समझ न पाया, […]

Read More