अस्था पर इंडी नेताओं का प्रहार

डॉ दिलीप अग्निहोत्री

एक तरफ देश में श्रीराम मन्दिर प्राण प्रतिष्ठा को लेकर उत्साह है, दूसरी तरफ इंडी गठबंधन में मन्दिर विरोधी नेता मुखर हैं। यूपीए सरकार ने तो लिखित रूप में श्रीराम को काल्पनिक बताया था। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष मन्दिर की मूर्तियों को शक्तिहीन मानते हैं। वर्तमान अध्यक्ष कहते हैं कि नरेंद मोदी विजयी हुए तो सनातन राज आ जाएगा। इंडी एलायंस की एक पार्टी कहती है कि उसका जन्म ही सनातन उन्मूलन के लिए  हुआ है।

मतलब जनसेवा उसका उद्देश्य नहीं है। एक पार्टी का राष्ट्रीय महासचिव हिन्दू धर्म को धोखा मानता है। शीर्ष नेतृत्व भी बहुत हिम्मत करते इतना ही कहता है कि यह उनके निजी विचार है। बिहार में जंगल राज और चारा के चर्चित पार्टी का नेता कहता है कि मन्दिर बनने से गुलामी की मानसिकता बढ़ेगी। इसकी जगह स्कुल और अस्पताल बनने चाहिए। जिसके लिए राजनीति का मतलब एक परिवार की गुलामी मात्र है, वह धर्म पर ज्ञान बांट रहे है। उनकी पार्टी को बिहार में पंद्रह साल सरकार चलाने का अवसर मिला।

तब वहां की शिक्षा स्कुल और अस्पताल सब बदहाल थे। इनकी जगहसाई हुआ करती थी। इनमे से एक भी नेता की किसी अन्य मजहब पर ऐसी टिप्पणी करने की औकात नहीं है। वैसे इनकी हरकतों से मतदाताओं का काम आसान हो रहा है। उन्हें दो विचारधाराओं में से एक का चयन करना है।

Raj Dharm UP

राष्ट्रपति व PM को मेल भेजकर की जा रही पुरानी पेंशन बहाली की मांग

अभियान में अर्द्धसैनिक बलों समेत देश के शिक्षक, कर्मचारी शामिल लखनऊ। NMOPS  के राष्ट्रीय अध्यक्ष व अटेवा के प्रदेश अध्यक्ष विजय कुमार बन्धु ने बताया कि पूरे देश मे 19 से 25 फरवरी तक ईमेल के माध्यम से राष्ट्रपति व प्रधानमंत्री से अर्द्धसैनिक बलों समेत देश के शिक्षकों, कर्मचारियों की पुरानी पेंशन बहाली की मांग […]

Read More
Raj Dharm UP

कांग्रेसियों ने फिर सपा अध्यक्ष को दिया न्याय यात्रा का निमंत्रण

सपा प्रवक्ता ने की अखिलेश यादव के यात्रा में शामिल होने की पुष्टि लखनऊ। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की तरफ से कल कांग्रेस और सपा के गठबंधन की घोषणा होने के बाद गुरुवार को कांग्रेस नेताओं ने समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को भारत जोड़ो न्याय यात्रा में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया। […]

Read More
Raj Dharm UP

कारागार विभाग में प्रमोशन के बाद भी नहीं होते स्थानातरण!

प्रोन्नत पाए कर्मियों के लिए आला अफसरों का आदेश ठेंगे पर एक परिक्षेत्र में 15=20 साल से जमे कई वरिष्ठ व प्रधान सहायक राकेश यादव लखनऊ। प्रदेश के कारागार विभाग में आला अफसरों के आदेश का कोई मायने ही नहीं है। इस विभाग में अधिकारियों के आदेश का अनुपालन ही नहीं होता है। विभाग में […]

Read More