कविता: लंकापति रावण क्यों हारा श्रीराम से,

कर्नल आदि शंकर मिश्र
कर्नल आदि शंकर मिश्र

मरते मरते रावण ने दुनिया को
बताया वह राम से क्यों हारा,
लंकापति रावण त्रैलोक्य विजयी
परम शिवभक्त पर श्रीराम से हारा।

दसानन दसों दिगपालों का नियंत्रक,
रावण महाविद्वान सर्वशक्तिमान था,
अति शक्तिशाली कुंभकरण, विद्वान
विभीषण भगवद्भक्त जैसा भाई था।

त्रिसिरा, मेघनाद, अक्षय कुमार जैसे
बलशाली सात पुत्रों का पिता रावण
खर दूषन, कुबेर जैसे सगे सम्बन्धी,
विश्रवा पुत्र, ऋषि पुलस्ति पौत्र था।

सोने की लंका कुबेर से छीन कर,
शिव को समर्पित किये काट काट
स्वयं दसों सिर सहस्त्र बार, खड़े,
सुर दिसिप भयभीत रावण दरबार।

ऐसा महा ज्ञानी, बलशाली,
ऐश्वर्यवान रावण क्यों हारा
और बिन मौत मारा भी गया
युद्ध में वनवासी श्री राम से।

लंकेश को अहंकार था अपने ऐश्वर्य
बलशक्ति, शिवभक्ति ज्ञानभंडार का
अहंकार में मदमस्त रावण, भ्रात द्रोह
ग्रसित, उस पर ईशद्रोह का पाप था।

श्रीराम मर्यादा पुरुषोत्तम स्वयं
श्रीहरिविष्णु के अवतार थे,
सत्य तथा धर्म भी इस राम रावण
युद्ध में हर समय श्रीराम के साथ थे।

और मरते समय स्वयं रावण
ने यह कहा था श्री राम से,
आप विजयी हैं समर में, और मैं
मारा गया हूँ आपके ही वाण से।

आपका अनुज लक्ष्मण इस
युद्ध में आपके ही साथ है,
विभीषण मेरा अनुज है और
वह भी आपके ही साथ है।

मेरा अनुज और अनुज आपका
यदि दोनो होते हमारे साथ में,
विजय श्री होती हमारी, नही अप
घात होता तब हमारे साथ में।

  एकता की शिक्षा सारे जगत को,
आदित्य अपना भाई अपने साथ हो,
इसलिए सम्मान दो निज भ्रात को।

 

Litreture

प्रवासी भारतीय सुरेश चंद्र शुक्ल ‘ शरद आलोक’ नार्वे के ओस्लो शहर मे रहते है। भारत की हर राजनैतिक सामगजिक गतिविधियों पर इनकी नजर रहती है।

प्रवासी भारतीय सुरेश चंद्र शुक्ल ‘ शरद आलोक’ नार्वे के ओस्लो शहर मे रहते है। भारत की हर राजनैतिक सामगजिक गतिविधियों पर इनकी नजर रहती है। शिक्षक,पत्रकार,संपादक,कवि,कहानी कार है। इनके सद्य:प्रकाशित काव्य संग्रह ” जन मन के गांधी पर समीक्षा भारतीय समालोचक डॉ ऋषि कुमार मणि त्रिपाठी ने किया। जन मन के गांधी:कवि-सुरेशचंद्र शुक्ल’ शरद […]

Read More
Litreture National

बुझता दिया तेल की बूंदे पा गया !

के. विक्रम राव  आज (29 मई 2024, बुधवार) मेरे 85 बसंत पूरे हो गए। कई पतझड़ भी। कवि कबीर की पंक्ति सावधान करती है, जब वे माटी से घमंडी कुम्हार को कहलाते हैं : “एक दिन ऐसा आएगा, जब मैं रौंदूगी तोय।” चेतावनी है। मगर आस बंधाती है शायर साहिर की पंक्ति : “रात जितनी […]

Read More
Litreture

लघु-कथाकार नोबेल विजेताः एलिस का चला जाना !

के. विक्रम राव साहित्य के प्रतिष्ठित नोबेल पुरस्कार की विजेता एलिस मुनरो का कल (15 मई 2024) कनाडाई नगर ओंतारियों में निधन हो गया। वे 92 वर्ष की थीं। मतिभ्रम से पीड़ित थीं। लघु-कथा लेखिका के रूप में मशहूर एलिस की समता भारतीय लघुकथाकार मुल्कराज आनंद और आरके नारायण से की जाती है। रूसी कथाकार […]

Read More