कालापानी, लिम्पियाधुरा और लिपुलेख को चीन ने भी माना भारत का हिस्सा, फिर भड़का नेपाल, PM प्रचंड ने कहा चीन में उठाएंगे मुद्दा

उमेश तिवारी

काठमांडू/नेपाल। चीन द्वारा जारी किए गए नए नक्शे को लेकर उठा विवाद बढ़ता ही जा रहा है। चीन ने इस नक्शे में भारत के अरुणाचल प्रदेश और अक्साई चीन को अपना हिस्सा दिखाया है। साथ ही वह वियतनाम, मलेशिया और फिलीपींस के भी कुछ हिस्से को अपना बताया है। इससे ये सभी देश चीन पर भड़क गए हैं। मगर यहां नेपाल की अलग समस्या है। भारत-चीन बॉर्डर से लगे भारतीय क्षेत्र कालापानी, लिम्पियाधुरा और लिपुलेख को चीन ने भी हिंदुस्तान का ही हिस्सा माना है। चीन ने इन क्षेत्रों को नक्शे में भारत के ही क्षेत्र के तौर पर दर्शाया है। मगर नेपाल इन क्षेत्रों को अपना बताते हुए चीन से नाराजगी जाहिर की है।

नेपाल के प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहाल ‘‘प्रचंड’’ अपनी आगामी चीन यात्रा के दौरान पड़ोसी देश की ओर से जारी किये गये नये मानचित्र से संबंधित मामला उठायेंगे जिसमें कालापानी, लिम्पियाधुरा और लिपुलेख को भारतीय क्षेत्रों के रूप में दिखाया गया है। सत्तारूढ़ गठबंधन सहयोगी सीपीएन-माओवादी सेंटर के एक वरिष्ठ नेता ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। सीपीएन-माओवादी सेंटर के प्रवक्ता अग्नि सापकोटा ने कहा कि इस सप्ताह चीन की ओर से जारी किये गये मानचित्र से संबंधित मामले को यात्रा के दौरान राजनयिक माध्यम से उठाने की जरूरत है। प्रधानमंत्री प्रचंड 15 सितंबर को अमेरिका और बाद में चीन की यात्रा के लिए काठमांडू से रवाना होंगे।

प्रचंड ने कहा-चीन में उठाएंगे मुद्दा

प्रधानमंत्री और पार्टी अध्यक्ष पुष्प कमल दहाल प्रचंड ने कहा कि अपनी आगामी चीन यात्रा के दौरान चीनी नेतृत्व के साथ इस मामले पर चर्चा करेंगे। यात्रा के दौरान चीन द्वारा जारी किये गये मानचित्र से संबंधित मामले को राजनयिक माध्यम से उठाने की जरूरत है। नेपाल द्वारा 2020 में एक नया राजनीतिक मानचित्र प्रकाशित करने के बाद भारत और नेपाल के बीच संबंध कई मौकों पर तनावपूर्ण हो गए थे, जिसमें तीन भारतीय क्षेत्रों लिम्पियाधुरा, कालापानी और लिपुलेख को नेपाल के हिस्से के रूप में दिखाया गया था। भारत ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए इसे एकतरफा कार्रवाई बताया था और नेपाल को आगाह किया था कि क्षेत्रीय दावों का ऐसा कृत्रिम विस्तार उसे स्वीकार्य नहीं होगा।

चीन के नक्शे को भारत समेत ये देश कर चुके खारिज

चीन ने सोमवार को अपने राष्ट्रीय मानचित्र का नया संस्करण जारी किया जिसे भारत, मलेशिया, वियतनाम और ताइवान समेत कई देशों ने खारिज कर दिया था। भारत ने मंगलवार को चीन के तथाकथित ‘मानक मानचित्र’ पर कड़ा विरोध दर्ज कराया था, जिसमें अरुणाचल प्रदेश और अक्साई चिन पर दावा किया गया है। भारत ने कहा था कि इस तरह के कदम सीमा विवाद के समाधान को केवल जटिल बनाते हैं। विदेश मंत्रालय ने भी चीन के दावों को आधारहीन बताते हुए खारिज कर दिया था।

International

ओली सरकार की वापसी से चीन की होगी ‘बल्ले-बल्ले ‘ या भारत से और करीब आएगा नेपाल

नेपाल के मौजूदा प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहाल प्रचंड संसद में विश्वास प्रस्ताव के दौरान बहुमत हासिल करने में असफल रहे हैं। प्रचंड ने विश्वास प्रस्ताव में बहुमत न मिलने की वजह से अपने पद से इस्तीफा भी दे दिया है। अब केपी शर्मा ओली का प्रधानमंत्री बनना तय है। उमेश चन्द्र त्रिपाठी काठमांडू। नेपाल में […]

Read More
International

बिहार की 2,600 साल पुरानी संरचना राजगीर की साइक्लोपियन दीवार ढही

रंजन कुमार सिंह चीन की दीवार से भी प्राचीन है यह दीवार महाभारत काल में राजा बृहद्रथ ने रखी थी इस दीवार की नींव बिहार में भारी बारिश के कारण राजगीर में स्थित देश की सबसे पुरानी साइक्लोपियन दीवार के कुछ हिस्से ढह गए हैं, जिससे 2,600 वर्ष पुरानी इस संरचना के रखरखाव पर प्रश्नचिह्न […]

Read More
International

नेपाल के गृहसचिव ने आज एक भव्य समारोह में भारत-नेपाल सीमा पर स्थित नेपाल के बेलहिया में इंट्रीग्रेटेड चेक प्वाइंट का फीता काटकर किया भव्य उद्घाटन

उमेश चन्द्र त्रिपाठी भैरहवा नेपाल । भारतीय सीमा से सटे नेपाल के बेलहिया में आज नेपाल के गृहसचिव एक नारायण आर्याल ने आज नवनिर्मित इंट्रीग्रेटेड चेक प्वाइंट का फीता काटकर भव्य उद्घाटन किया। समारोह की अध्यक्षता रूपंदेही जिले के प्रमुख जिलाधिकारी गणेश आर्याल ने की। इस अवसर पर डीआईजी कुबेर कांडयात, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक राजेश […]

Read More