DPI के जरिये लोगों को सशक्त कर रहा भारत बना दुनिया के लिए प्रेरणास्त्रोत

नई दिल्ली। भारत डिजिटल पब्लिक इंफ्रास्ट्रक्चर (डीपीआई) पर न केवल अपने नागरिकों को सशक्त कर रहा है, बल्कि वह दुनिया भर के अन्य देशों के लिए भी प्रेरणा का एक स्त्रोत बनकर उभरा है। इसकी झलक पिछले हफ्ते देखने को मिली, जब भारत ने डीपीआई पर अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन की मेजबानी की।

यह पहला मौका था, जब भारत सरकार ने संयुक्त राष्ट्र जैसे बड़े अंतरराष्ट्रीय मंच पर मेजबानी करते हुए डीपीआई में बढ़ते देश के कदमों को दुनिया के सामने रखा। संयुक्त राष्ट्र में भारत की स्थायी प्रतिनिधि रुचिरा कंबोज ने रविवार को सम्मेलन की मेजबानी पर खुशी जाहिर करते हुए सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर एक पोस्ट साझा की। उन्होंने लिखा डिजिटल सार्वजनिक अवसंरचना पर संयुक्त राष्ट्र के पहले अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में भारत के नेतृत्व का जश्न मना रहे हैं। हम वैश्विक एसडीजी को आगे बढ़ाने और समावेशिता को बढ़ावा देने के लिए डीपीआई का उपयोग कर रहे हैं।

केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव ने सम्मेलन को वर्चुअली संबोधित करते हुए कहा भारत ने यह सुनिश्चित करना एक नीतिगत उद्देश्य बना लिया है कि डिजिटल क्रांति का लाभ देश के विविध समाज के हर कोने तक पहुंचे। इस दृष्टिकोण ने ‘इंडिया स्टैक’ के विकास को जन्म दिया है, जो सभी के लिए सुलभ डिजिटल उपकरणों का एक गुलदस्ता है।

इस दौरान उन्होंने समावेशी विकास और समृद्धि को बढ़ावा देने के लिए डीपीआई की शक्ति का उपयोग करने में भारत की यात्रा को साझा किया। वैष्णव ने यूएन में कहा है कि भारत ‘DPI के जरिये लोगों को सशक्त बनाने की अपनी यात्रा इस उम्मीद से साझा कर रहा है कि वह अन्य देशों को प्रेरणा देगा, सभी से सीखेगा और अपने खुद की डिजिटल प्राथमिकताओं को निर्धारित करेगा।

इस सम्मेलन में राजदूत रुचिरा कंबोज के अलावा, भारत के जी20 शेरपा अमिताभ कांत, संयुक्त राष्ट्र महासभा के अध्यक्ष डेनिस फ्रांसिस और संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम के प्रशासक अचिम स्टेनर ने भी भाग लिया।

इस दौरान कांत ने ‘सिटीजन स्टैक का उपयोग करके डिजिटल फ्रंटियर को आगे बढ़ाना’ विषय पर एक मुख्य भाषण दिया, जिसके माध्यम से उन्होंने इस बात पर प्रकाश डाला कि भारत के डीपीआई ने वित्तीय समावेशन, शासन और सेवा वितरण में क्रांति ला दी है, जिससे डिजिटल सुधारों के माध्यम से सकल घरेलू उत्पाद में 1.1% की बचत हुई है। वहीं फ्रांसिस ने एक ट्वीट के जरिये डिजिटल बुनियादी ढांचे का विस्तार करने पर जोर दिया।

(रिपोर्ट. शाश्वत तिवारी)

Litreture National

बुझता दिया तेल की बूंदे पा गया !

के. विक्रम राव  आज (29 मई 2024, बुधवार) मेरे 85 बसंत पूरे हो गए। कई पतझड़ भी। कवि कबीर की पंक्ति सावधान करती है, जब वे माटी से घमंडी कुम्हार को कहलाते हैं : “एक दिन ऐसा आएगा, जब मैं रौंदूगी तोय।” चेतावनी है। मगर आस बंधाती है शायर साहिर की पंक्ति : “रात जितनी […]

Read More
National

ओमान में डिजिटाइज प्रोजेक्ट से भारतीय प्रवासियों के ऐतिहासिक दस्तावेज होंगे संग्रहित

नई दिल्ली। भारतीय प्रवासियों के ऐतिहासिक दस्तावेजों को संग्रहित करने के लिए ओमान की राजधानी मस्कट में पहली डिजिटलीकरण परियोजना शुरू हुई। मस्कट स्थित भारतीय दूतावास ने भारतीय राष्ट्रीय अभिलेखागार (एनएआई) के साथ मिलकर ओमान में भारतीय प्रवासियों की समृद्ध विरासत को संरक्षित करने के लिए यह अभूतपूर्व परियोजना शुरू की है। ‘ओमान संग्रह – […]

Read More
National

शांति रक्षक मेजर राधिका को मिला यूएन अवॉर्ड

शांति रक्षक मेजर राधिका को मिला यूएन अवॉर्ड संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र (यूएन) में भारत की स्थायी प्रतिनिधि रुचिरा कंबोज ने बुधवार को भारतीय संयुक्त राष्ट्र शांति सैनिकों की बहादुरी और समर्पण की प्रशंसा करते हुए वैश्विक शांति एवं सुरक्षा में भारत के उल्लेखनीय योगदान पर प्रकाश डाला। कंबोज ने अंतरराष्ट्रीय संयुक्त राष्ट्र शांति सैनिक […]

Read More