प्रतिदिन भगवान सूर्य को दे अर्घ्य, इन नियमों का पालन करने से मिलेगा शुभ लाभ

लखनऊ। भगवान सूर्य को सभी ग्रहों का स्वामी माना जाता है। अगर सूर्यदेव प्रसन्न हो जाएं तो बाकी के ग्रह अपने आप कृपा बरसाते हैं। पुराणों में सूर्य को सभी रोगों को दूर करने वाला बताया गया है। कहा जाता है कि सूर्य को जल अर्पित करने से जीवन में संतुलन बना रहता है।  भगवान सूर्य के 21 नामों का पाठ करने से मनुष्य को सहस्त्र नाम के पाठ का फल प्राप्त होता है। यह नाम अतिशय पवित्र माने गए हैं।

भगवान सूर्य द्वारा दिन, रात्रि, मास, ऋतु, वर्ष आदि का विभाजन होता है। वह दिशाओं के भी विभाजक हैं। पृथ्वी पर जीवन तभी तक है जब तक सूर्य है। जीवन की सार्थकता सूर्य की किरणों में ही समाहित है। सूर्य को जल अर्पित कर पानी की धारा के बीच उगते हुए सूरज को देखना चाहिए। ऐसा करने से नेत्र ज्योति में वृद्धि होती है। अगर आर्थिक तंगी से परेशान हैं और बीमारियों ने घर में डेरा डाल लिया है तो सूर्य को जल अर्पित करें।

पुराणों में कहा गया है कि सूर्य को अर्घ्य दिए बिना भोजन करना पाप है। सूर्य उपासना में रविवार का व्रत अनिवार्य है। व्रत के दिन भोजन में नमक का उपयोग न करें। भगवान ब्रह्मा, विष्णु, महेश आदि का बिना साधना से दर्शन होना संभव नहीं। भगवान सूर्य नित्य सभी को प्रत्यक्ष दर्शन देते हैं। इसलिए प्रत्यक्ष देव भगवान सूर्य की नित्य उपासना करनी चाहिए।

 

Religion

देवशयनी एकादशी का व्रत आजः अब सो जाएंगे श्रीहरि भगवान विष्णु

आइए जानते हैं कि इस साल देवशयनी एकादशी का व्रत कब रखा जाएगा और पूजा मुहूर्त से लेकर पारण का समय क्या रहेगा हरिशयनी, पद्मनाभा और योगनिद्रा एकादशी के नाम से भी जानी जाती है यह तिथि देवशयनी एकादशी के चार माह के बाद भगवान विष्णु देवउठनी एकादशी के दिन जागते हैं जयपुर से राजेंद्र […]

Read More
Religion

मोहर्रम के जुलूस में ना फहराये फिलिस्तीन का झंडा: मौलाना शहाबुद्दीन बरेलवी

अजय कुमार लखनऊ मुहर्रम का महीना चल रहा है. इस दौरान जगह-जगह जुलूस निकाले जाते हैं. ये जुलूस इस्लाम-ए-पैगंबर के सबसे छोटे नवासे हजरत इमाम हुसैन और उनके साथियों की याद में जुलूस निकाला जाता है. ऐसे में इस बार जुलूस में फिलिस्तीन देश का झंडा भी देखने को मिला है, जिसको लेकर आल इंडिया […]

Read More
Religion

जैन धर्म के लिए विशेषः चौमासी अष्टान्हिका विधान आज से प्रारम्भ

राजेन्द्र गुप्ता, ज्योतिषी और हस्तरेखाविद जैन धर्मावलंबियों का महान पर्व पर्यूषण के बाद दूसरा अष्टान्हिका महापर्व कार्तिक, फाल्गुन एवं आषाढ़ के अंतिम आठ दिनों में मनाया जाता है। आषाढ़ माह का यह पर्व अधिकतर जैन मंदिरों में आज से मनाया जाएगा। 8 दिन तक मंदिरों में सिद्ध चक्र महामण्डल विधान, नंदीश्वर द्वीप की पूजा एवं […]

Read More