नीतिगत दरें यथावत, किस्तों में नहीं होगी वृद्धि

मुंबई। महंगाई को लक्षित दायरे में रखने के लक्ष्य पर नजर टिकाये रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति ने आज विकास अनुमान को यथावत बनाये रखने और महंगाई के अनुमान को बढ़ाते हुये नीतिगत दरों में कोई बदलाव नहीं करने का निर्णय लिया, जिससे आम लोगों के घर, कार और अन्य प्रकार के ऋणों की किस्तों में बढोतरी नहीं होगी। समिति ने रेपो दर को 6.5 प्रतिशत पर यथावत रखने का निर्णय लिया है। चालू वित्त वर्ष में तीसरी द्विमासिक तीन दिवसीय बैठक के बाद आज जारी बयान में यह घोषणा की गयी है। रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने यह घोषणा करते हुये कहा कि वैश्विक और घरेलू अर्थव्यवस्था का उल्लेख करते हुये कहा कि फिलहाल नीतिगत दरों में कोई बदलाव नहीं की जा रही है लेकिन नीतिगत दरों को यथावत बनाये रखने के बीच समिति ने समयोजन वाले रूख से पीछे हटने का निर्णय लिया है।

समिति के इस निर्णय के बाद फिलहाल नीतिगत दरों में बढोतरी नहीं होगी। रेपो दर 6.5 प्रतिशत, स्टैंडर्ड जमा सुविधा दर (SDFR) 6.25 प्रतिशत, मार्जिनल स्टैंडिंग सुविधा दर (MSFR) 6.75 प्रतिशत, बैंक दर 6.75 प्रतिशत, फिक्स्ड रिजर्व रेपो दर 3.35 प्रतिशत, नकद आरक्षित अनुपात 4.50 प्रतिशत, वैधानिक तरलता अनुपात 18 प्रतिशत पर यथावत है। दास ने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था और वित्तीय क्षेत्र वैश्विक आर्थिक गतिविधियों में आयी सुस्ती के बीच सशक्त और मजबूत बना हुआ और यह महंगाई को काबू में करने में सक्षम है। उन्होंने कहा कि चालू वित्त वर्ष में विकास अनुमान को 6.5 प्रतिशत पर यथावत रखा गया है। इसके आधार पर चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में यह 8.1 प्रतिशत, दूसरी तिमाही में 6.5 प्रतिशत, तीसरी तिमाही में छह प्रतिशत और चौथी तिमाही में यह 5.7 प्रतिशत रह सकती है। अगले वित्त वर्ष की पहली तिमाही में यह 6.6 प्रतिशत रह सकती है।

उन्होंने कहा कि रिजर्व बैंक पूरा ध्यान महंगाई को चार प्रतिशत के लक्षित दायरे में लाने का है। उन्होंने कहा कि टमाटर की कीमतों में उछाल के साथ ही अनाज और दालों की कीमतों में आयी तेजी से महंगाई बढ़ी है लेकिन अब सब्जियों की कीमतों में कमी आने का पूरी उम्मीद है। उन्होंने कहा कि इसके मद्देनजर चालू वित्त वर्ष में खुदरा महंगाई के अनुमान को 5.1 प्रतिशत से बढ़ाकर 5.4 प्रतिशत कर दिया गया है। दूसरी तिमाही में यह 6.2 प्रतिशत, तीसरी तिमाही में 5.7 प्रतिशत और चौथी तिमाही में 5.2 प्रतिशत रहने का अनुमान है। अगले वित्त वर्ष की पहली तिमाही में यह 5.2 प्रतिशत रह सकती है। दास ने कहा कि समिति ने आम सहमति से रेपो दर को 6.5 प्रतिशत पर रखने का निर्णय लिया है। दास ने कहा कि यह निर्णय खुदरा महंगाई को रिजर्व बैंक के चार प्रतिशत के दायरे में रखने के लक्ष्य के अनुरूप लिया गया है। यह निर्णय विकास को गति देने का काम करेगा। उन्होंने कहा कि रिजर्व बैंक महंगाई और विकास पर करीबी नजर रखे हुये है।

उन्होंने कहा कि खरीफ की बुआई में तेजी आयी है और मानसून सामान्य रहने पर महंगाई आगे लक्षित दायरे की ओर आ सकती है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में रोजमर्रा की उपभोक्ता वस्तुओं की मांग आने लगी है। उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में सब्जियों की कीमतों में नरमी आने का अनुमान है लेकिन अगस्त में अलनीनो के प्रभाव भी देखने को मिल सकता है। उन्होंने कहा कि 2023-24 की पहली तिमाही में खुदरा मुद्रास्फीति में 4.6 प्रतिशत की कमी आयी है लेकिन खाद्य मुद्रास्फीति में बढ़ोतरी के कारण जून में मुद्रास्फीति 4.8 प्रतिशत हो गई। हालांकि सकारात्मक पक्ष यह रहा है कि खाद्य और ईंधन को छोड़कर मुद्रास्फीति 100 आधार से अधिक कम हो गई है। मुख्यतः सब्जियों के कारण खाद्य मुद्रास्फीति में वृद्धि हुयी। टमाटर की कीमतों उछाल और अनाज तथा दालों की कीमतों में और वृद्धि ने महंगाई को बढ़ाने का काम किया। परिणामस्वरूप, निकट अवधि में खुदरा मुद्रास्फीति में वृद्धि होने का अनुमान है। (वार्ता)

Biz News Business

भारत-नेपाल सीमा पर लाखों रुपये मूल्य की तस्करी का 102 बोरी चीनी लहसुन बरामद, तस्कर फरार

उमेश चन्द्र त्रिपाठी निचलौल महराजगंज। नेपाल सीमा पर मंगलवार को निचलौल कस्टम और एसएसबी की संयुक्त टीम ने मुखबिर की सूचना पर तस्करी कर भारत लाई जा रही एक ट्रॉली पर लदी 102 बोरी चीनी लहसुन जब्त की हालांकि तस्करी के आरोपी फरार हो गए। टीम लहसुन और वाहन कब्जे में लेकर आगे की कार्रवाई […]

Read More
Business

वालमार्ट वृद्धि ने 58,000 से ज्यादा एमएसएमई को किया सशक्त: डिजिटल प्रशिक्षण, मार्केटप्लेस एवं ग्राहकों तक आसान पहुंच से कारोबार को मिली मजबूती

वालमार्ट वृद्धि के माध्यम से 58,000 से ज्यादा एमएसएमई को डिजिटल प्रशिक्षण प्राप्त हुआ है, जिससे उन्हें ऑनलाइन एवं ऑफलाइन दोनों माध्यमों पर कारोबार के विस्तार एवं विकास में मदद मिली है 14,500 से ज्यादा एमएसएमई फ्लिपकार्ट मार्केटप्लेस के माध्यम से खिलौने, कपड़े, घरेलू उत्पाद, हस्तशिल्प और पर्यावरण के अनुकूल (इको फ्रेंडली) ऑफिस एवं होम […]

Read More
Biz News Business

डिजिटल पेमेंट सर्विस को बेहतर बनाने के लिए विदेश मंत्रालय _एसबीआई के बीच करार

  (रिपोर्ट. शाश्वत तिवारी) नई दिल्ली। विदेश मंत्रालय और भारतीय स्टेट बैंक (NSVACBAI) के बीच भारतीय प्रवासी श्रमिकों, भर्ती एजेंटों (RA) और ई-माइग्रेट पोर्टल के अन्य यूजर्स को एसबीआईई-पे नामक भुगतान गेटवे के माध्यम से एसबीआई की अतिरिक्त डिजिटल भुगतान सेवाएं प्रदान करने के लिए एक समझौता ज्ञापन (MOU) पर हस्ताक्षर किए गए हैं। विदेश […]

Read More