स्वतंत्रता दिवस पर आजादी का जश्न मनायें

डॉ ऋषि कुमार मणि त्रिपाठी
डॉ ऋषि कुमार मणि त्रिपाठी

आजादी का जश्न मनायें,

सब मिल कर जनगणमन गायें।।

जिसके लिए शहीद हो गए,लाखो युवा वीर बलिदानी।

जिसके लिए  सड़क पर निकले पंडित मुल्ला ज्ञानी ध्यानी।।

 

बना फौज आजादहिंद का,वीर सुबास इधर टकराये।

छक्के तुड़ा दिए वीरों ने लिये बम फेंके पिस्टल लहराये।।

जेल गए,फांसी पर झूले झंडा कभी न झुकने पाया।

भारत माता की जय बोले,हिम्मत कभी न डिगने पाया।।

गांधी जी ने सत्याग्रह का ऐसा बुना जाल  चरखे से।

सत्ता का सिंहासन डोला,मांग उठी हर गांव शहर से।।

 

सत्य अहिंसा ब्रह्मचर्य अपरिग्रह को ही ढाल बनाया।

आधी धोती पहन के निकले इस फकीर ने अलख जगाया।।

सभी जाति सब धर्म जोड कर,भिड़े ब्रिटिश शासन से बापू।

सत्याग्रह को शस्त्र बना कर ,सत्ता से टकराये बापू।।

चली गोलियां घोडे दौड़े ,सत्याग्रही न डिगे रंच भर।

जेल गए,लाठियां चली जब ,सिर फूटे तब गिरे भूमि पर।।

 

लहुलुहान हुए ,पर झंडा लिए लगाते जयहिंद नारे।

भीड़ उमड़ आती पीछे से,अंग्रेजों के सैनिक हारे।।

गजब अहिंसक आंदोलन था, क्रूर ब्रिटिश के माथे ठनके।

बार बार  टकराहट होती,बार बार जेलों को भरते।।

 आखिर सत्ता ने झुक कर के आजादी की स्वीकृति दे दी।

वह दिन था पंद्रह अगस्त का,भारत मां की बेड़ी टूटी।।

Litreture

प्रवासी भारतीय सुरेश चंद्र शुक्ल ‘ शरद आलोक’ नार्वे के ओस्लो शहर मे रहते है। भारत की हर राजनैतिक सामगजिक गतिविधियों पर इनकी नजर रहती है।

प्रवासी भारतीय सुरेश चंद्र शुक्ल ‘ शरद आलोक’ नार्वे के ओस्लो शहर मे रहते है। भारत की हर राजनैतिक सामगजिक गतिविधियों पर इनकी नजर रहती है। शिक्षक,पत्रकार,संपादक,कवि,कहानी कार है। इनके सद्य:प्रकाशित काव्य संग्रह ” जन मन के गांधी पर समीक्षा भारतीय समालोचक डॉ ऋषि कुमार मणि त्रिपाठी ने किया। जन मन के गांधी:कवि-सुरेशचंद्र शुक्ल’ शरद […]

Read More
Litreture National

बुझता दिया तेल की बूंदे पा गया !

के. विक्रम राव  आज (29 मई 2024, बुधवार) मेरे 85 बसंत पूरे हो गए। कई पतझड़ भी। कवि कबीर की पंक्ति सावधान करती है, जब वे माटी से घमंडी कुम्हार को कहलाते हैं : “एक दिन ऐसा आएगा, जब मैं रौंदूगी तोय।” चेतावनी है। मगर आस बंधाती है शायर साहिर की पंक्ति : “रात जितनी […]

Read More
Litreture

लघु-कथाकार नोबेल विजेताः एलिस का चला जाना !

के. विक्रम राव साहित्य के प्रतिष्ठित नोबेल पुरस्कार की विजेता एलिस मुनरो का कल (15 मई 2024) कनाडाई नगर ओंतारियों में निधन हो गया। वे 92 वर्ष की थीं। मतिभ्रम से पीड़ित थीं। लघु-कथा लेखिका के रूप में मशहूर एलिस की समता भारतीय लघुकथाकार मुल्कराज आनंद और आरके नारायण से की जाती है। रूसी कथाकार […]

Read More