साथियों की जीत मोदी की हार, कैसे बनेगी सरकार

ए अहमद सौदागर

लखनऊ। लोकसभा चुनाव के पहले से ही सरकारी अमले और मीडिया ने मोदी जी के पक्ष में हवा बनानी शुरू कर दी थी।
सरकार ने यह तय मान लिया था कि मोदी जी प्रचंड बहुमत से जीत कर तीसरी बार सरकार बनाएंगे।
सरकार की इस धारणा को शंकराचार्य ने मतदाताओं पर थोपने के लिए एड़ी से चोटी तक का जोर लगा दिया और ओपिनियन पोल से लेकर एक्जिट पोल तक टीवी चैनलों पर शोर-शराबा और अखबारों में सत्ता पक्ष के कसीदे जिस तरह लिखे गए असल परिणाम उसके उलट आया।
यह सही है कि विपक्ष सरकार बनाने के आंकड़ों से बहुत पीछे रह गया और लोकसभा चुनाव की जीत में मोदी की हार छिपी हुई है।
एनडीए के घटक दल के नेता इसे बखूबी समझ रहे हैं।
दस साल के कार्यकाल में जनता को रिझाने वाला एक भी कार्य नजर न आते देख प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के एक बार फिर श्रीराम मंदिर के नाम पर चुनाव की रणनीति तैयार की थी।

भाजपा सरकार की योजनाओं को प्रदेश की जनता ने नकारा!

उन्होंने अधबने मंदिर में आनन-फानन में प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम संपन्न कराया।
सनातन धर्म गुरु शंकराचार्य तक को अपमानित करने में नहीं हिचके।
यहां से उनकी शिकस्त की राह पस्त होने लगी। अंधभक्तों के अलावा सनातन धर्म के अन्य अनुयाई को शंकराचार्य को अपमानित किया जाना बुरा लगा और उन्होंने मन ही मन मोदी जी के विकल्प को तलाश शुरू कर दी।
अयोध्या में भाजपा प्रत्याशी की करारी हार इसका उदाहरण है। अहंकार के खिलाफ सुलगती चिंगारी को राहुल गांधी, अखिलेश यादव, उद्धव ठाकरे, ममता बनर्जी और तेजस्वी यादव के न सिर्फ भांपा बल्कि हवा देनी शुरू कर दी।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उनके साथी नेता अंधभक्तों को ताली बजाते देख जीत के मुगालते में रहे, जबकि उनके खिलाफ असंतोष बढ़ता जा रहा था। बनारस की सीट पर शुरुआती दौर में प्रधानमंत्री मोदी को कांग्रेस प्रत्याशी पिछाड़ा और तमाम जद्दोजहद के बाद पौने दो लाख से कम वोटों से जीत उनके कद के मुताबिक हार ही मानी जायेगी।

ब्रांड मोदी हुआ खत्म : प्रधान सेवक से अवतरित होने तक का तिलस्म टूटा

भाजपा का बहुमत के आंकड़ों से दूर रहना इस बात को देव तक है कि देश की जनता ने नरेंद्र मोदी को विपक्ष में बैठने की दिशा तय की है।
घटक दलों के सहयोग से यानी एनडीए को बहुमत मिला है इससे स्पष्ट है कि देश की जनता प्रधानमंत्री की कुर्सी पर किसी अन्य को देखना चाहती है।
दस साल में किए गए क्रिया कलापों को छुपाने के लिए नरेंद्र मोदी यदि प्रधानमंत्री की कुर्सी पर आसीन होते हैं तो सरकार को आयु अल्प कालिक होगी।

Loksabha Ran

नई सरकार और परदे के पीछे की पूरी पटकथाः ऑफेंसिव डिफेंस के साथ एक बार फिर मोदी पूरी ताकत से एक्शन में

(शाश्वत तिवारी) जल्दबाजी में एक लाख रुपये का फैसला करना कांग्रेस को पड़ा भारी मुस्लिम महिलाओं ने रात में ही कर ली थी साढ़े आठ हजार लेने की तैयारी अखिलेश भी नहीं समझ पाए मोदी और शाह की चाल, फंस गए नीतीश और नायडु लोकसभा चुनाव के नतीजों के बाद यह स्पष्ट हुआ कि भाजपा […]

Read More
Loksabha Ran

विशेष लोकसभा चुनाव  2024: कमाल के निकले यूपी के शहजादे

अकेले पूरी भाजपा पर पड़े भारी, राहुल अखिलेश की जोड़ी से हारे भगवाई  यशोदा श्रीवास्तव उत्तर प्रदेश में भाजपा को क्यों झेलनी पड़ी शर्मनाक हार? वह भी तब जब मोदी के चार सौ पार के ऐलान में यूपी की 80 की 80 सीट भी शामिल थी। यहां अयोध्या भी है,काशी,मथुरा भी है और ये सबके […]

Read More
Loksabha Ran

अमित शाह के गेम प्लान के कारण BJP को इस लोकसभा चुनाव में हुआ बड़ा नुकसान

योगी आदित्यनाथ की बात न मानना आज पड़ गया महंगा विधानसभा चुनाव के पहले एक बार फिर से साथ आए संगठन और सरकार भारतीय जनता पार्टी (BJP)  ने उत्तर प्रदेश (UP) में 10 साल का सबसे खराब प्रदर्शन किया है। यहां न केवल सीटों में गिरावट आई, बल्कि वोट प्रतिशत भी पार्टी के पक्ष में […]

Read More