कभी बड़े थे सूरमा, आज करारी हार: खुद की सीट भी नही बचा पाए ये स्टार प्रचारक

  • कभी बड़े थे सूरमा, आज करारी हार: खुद की सीट भी नही बचा पाए ये स्टार प्रचारक
  • इस बार कई केंद्रीय मंत्रियों ने गंवा दी अपनी सीट, दो ने बचाई लाज
  1. यूपी बीजेपी के सदर रहे और केंद्रीय काबीना मंत्री डॉ. महेंद्र पांडे अपने निकटतम प्रतिद्वंदी चौधरी वीरेंद्र सिंह से चुनाव हार गए हैं।
  2. केंद्रीय कैबिनेट मंत्री और कांग्रेस के सदर राहुल गांधी को हराकर चर्चा में आईं स्मृति ईरानी आज कांग्रेस के ‘मुंशी’ किशोरी लाल शर्मा से चुनाव हार गईं।
  3. राजधानी लखनऊ से सटे मोहनलालगंज लोकसभा सीट से केंद्रीय राज्य मंत्री रहे कौशल किशोर को करारी हार का सामना करना पड़ा।
  4. जाट लैंड के बड़े नेता और हिंदूवादी छवि के लिए मशहूर केंद्रीय राज्यमंत्री संजीव बालियान भी अपने सीट नहीं बचा सके।
  5. फतेहपुर सांसद और केंद्र में यूपी के महिलाओं की नुमाइंदगी करने वाली केंद्रीय राज्यमंत्री साध्वी निरंजन ज्योति भी सपा के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल से हार गईं।
  6. बुंदेलखंड के दूसरे मंत्री भानु प्रताप सिंह वर्मा भी अपनी सीट नहीं बचा सके। उन्हें नारायण अहिरवार ने करारी शिकस्त दी।
  7. लखीमपुर सांसद और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र ‘टेनी” भी समाजवादी पार्टी के उत्कर्ष वर्मा से चुनाव हार गए

भाजपा सरकार की योजनाओं को प्रदेश की जनता ने नकारा!

ये पार्टी के स्टार प्रचारक थे। केंद्र में मंत्री थे और इनकी गिनती BJP के कद्दावर नेताओं में होती थी।
अपने आसपास की सीटों के साथ-साथ सजातीय जनों से लबरेज लोकसभा सीट पर बैठा जीत की ज़िम्मेदारी भी इन्ही के कंधे पर थी। लेकिन ये अपनी सीट नहीं बचा पाए, इन्हें करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा। 18वीं लोकसभा चुनाव का परिणाम सबके सामने है। हालांकि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) ने बहुमत का आंकड़ा पार कर लिया है। लेकिन BJP खुद बहुमत से करीब 31 कदम दूर रह गई है। राजनीति के जानकार कहते हैं कि जिस पार्टी के दो काबीना मंत्री और चार राज्य मंत्री चुनाव हार जाएं उसकी समीक्षा करने के लिए कहां कुछ बचा है। केवल इतना कहा जा सकता है कि इसकी ज़िम्मेदारी भाजपा के बड़े नेताओं को लेना चाहिए। उन्हें चिंतन मनन करना चाहिए कि ये गति क्यों हुई?
बात डॉक्टर महेंद्र पांडे की चर्चा करें तो प्रदेश अध्यक्ष रहते हुए विराट जीत दर्ज करने वाले पांडे पिछले 10 बरसों से सांसद हैं। बतौर मंत्री जनता से न जुड़ पाने का खामियाजा उन्हें भुगतना पड़ा। वहीं अमेठी से हारने वाली केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी के हार का कारण वहां की जनता उनकी बदजुबानी को ठहरा रही है। वहीं कुछ लोगों ने उनकी हार का ठीकरा भाजपा के अंदरखाने चल रही अंतर्कलह को ठहराया।
इन दो मंत्रियों के अलावा चार राज्य मंत्री भी अपनी सीट नहीं बचा सके। संजीव बालियान अपने वोटरों को सहेज नहीं पाए तो अजय मिश्र टेनी सरदारों के खिलाफ पसरे आक्रोश को समेट नही पाए और खुद हार गए। इसी तरह साध्वी निरंजन ज्योति और भानु प्रताप सिंह वर्मा भी जनता से कनेक्ट न होने के आराम अपना चुनाव हार गए।

जाति-जाति का शोर मचाते केवल कायर क्रूर… अनुप्रिया, निषाद और राजभर को करारी शिकस्त

लाज बचा ले गए दो मंत्री
यूपी से दो राज्य मंत्री पंकज चौधरी और अनुप्रिया पटेल ने अपनी सीट जीतकर भाजपा और मोदी के नेतृत्व का सम्मान जनता के सामने बचाए रखा।

Loksabha Ran

नई सरकार और परदे के पीछे की पूरी पटकथाः ऑफेंसिव डिफेंस के साथ एक बार फिर मोदी पूरी ताकत से एक्शन में

(शाश्वत तिवारी) जल्दबाजी में एक लाख रुपये का फैसला करना कांग्रेस को पड़ा भारी मुस्लिम महिलाओं ने रात में ही कर ली थी साढ़े आठ हजार लेने की तैयारी अखिलेश भी नहीं समझ पाए मोदी और शाह की चाल, फंस गए नीतीश और नायडु लोकसभा चुनाव के नतीजों के बाद यह स्पष्ट हुआ कि भाजपा […]

Read More
Loksabha Ran

विशेष लोकसभा चुनाव  2024: कमाल के निकले यूपी के शहजादे

अकेले पूरी भाजपा पर पड़े भारी, राहुल अखिलेश की जोड़ी से हारे भगवाई  यशोदा श्रीवास्तव उत्तर प्रदेश में भाजपा को क्यों झेलनी पड़ी शर्मनाक हार? वह भी तब जब मोदी के चार सौ पार के ऐलान में यूपी की 80 की 80 सीट भी शामिल थी। यहां अयोध्या भी है,काशी,मथुरा भी है और ये सबके […]

Read More
Loksabha Ran

अमित शाह के गेम प्लान के कारण BJP को इस लोकसभा चुनाव में हुआ बड़ा नुकसान

योगी आदित्यनाथ की बात न मानना आज पड़ गया महंगा विधानसभा चुनाव के पहले एक बार फिर से साथ आए संगठन और सरकार भारतीय जनता पार्टी (BJP)  ने उत्तर प्रदेश (UP) में 10 साल का सबसे खराब प्रदर्शन किया है। यहां न केवल सीटों में गिरावट आई, बल्कि वोट प्रतिशत भी पार्टी के पक्ष में […]

Read More