महाभारत के संजय बने DIG कारागार!

  • लखनऊ में बैठकर हो रही मेरठ, बरेली और गोरखपुर परिक्षेत्र के जेलों की निगरानी
  • एक-एक IPS के पास दो-दो जेल परिक्षेत्र की जिम्मेदारी

राकेश यादव

लखनऊ। प्रदेश कारागार विभाग के IPS, DIG महाभारत के संजय बन गए है। यह बात सुनने और पढ़ने में भले ही अटपटी लगे लेकिन सच है। विभाग के दो DIG जेल मुख्यालय में बैठकर मेरठ और बरेली परिक्षेत्र की करीब दो दर्जन जेलों की निगरानी कर रहे है। ऐसा तब है जब दोनों परिक्षेत्र में DIG कार्यालय बने हुए हैं। शासन ने कारागार विभाग में डीआईजी की संख्या कम होने की वजह से शासन ने जेल विभाग में चार IPS हेमंत कुटियाल, राजेश श्रीवास्तव, सुभाष शाक्य और कुंतल किशोर को बतौर DIG जेल तैनात किया गया है। इसमें दो IPS अधिकारियों को जेल परिक्षेत्र व मुख्यालय की जिम्मेदारी सौंपी गई है। सूत्रों के मुताबिक जेल मुख्यालय में तैनात IPS सुभाष शाक्य मुख्यालय के साथ मेरठ परिक्षेत्र की मेरठ, गाजियाबाद, नोएडा, बुलंदशहर, मुजफ्फरनगर, सहारनपुर, देवबंद और बागपत आठ जेलों की जिम्मेदारी संभाल रहे है। इसी प्रकार कुंतल किशोर बरेली परिक्षेत्र की सेंट्रल जेल बरेली, जिला जेल बरेली, बंदायु, शाहजहांपुर, पीलीभीत, मुरादाबाद, रामपुर और बिजनौर जेल की निगरानी कर रहे है।

यही नहीं DIG जेल मुख्यालय अरविंद कुमार सिंह लखनऊ परिक्षेत्र की आदर्श कारागार, जिला जेल लखनऊ, सीतापुर, रायबरेली, लखीमपुर, हरदोई के साथ गोरखपुर परिक्षेत्र की जिला जेल गोरखपुर, देवरिया, महाराजगंज, बस्ती, सिद्धार्थनगर, आजमगढ़, बलिया और मऊ जेल की लखनऊ में बैठकर निगरानी कर रहे है। इसी प्रकार प्रोन्नत आईपीएस राजेश श्रीवास्तव पुलिस के साथ प्रयागराज और वाराणसी जेल परिक्षेत्र की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं। IPS हेमंत कुटियाल को अयोध्या परिक्षेत्र का प्रभार सौंपा गया है। सूत्रों का कहना है कि जेल विभाग की कार्यप्रणाली काफी जटिल है। विभागीय DIG जिस काम को आसानी से निपटा लेते है, उन कार्यों को करने में आईपीएस अधिकारियों को काफी दिक्कतों का सामना भी करना पड़ता है। इस संबंध में जब महानिदेशक व प्रमुख सचिव कारागार राजेश कुमार सिंह से बात करने का प्रयास किया गया तो उनके निजी सचिव विनय सिंह ने उनके व्यस्त होने की बात कहते हुए बात कराने से मना कर दिया।

किसी भी मद का सरेंडर नहीं होना चाहिए बजट: प्रमुख सचिव

वित्तीय वर्ष समाप्त होने में अब चंद दिन ही शेष बचे हुए है। बजट को लेकर प्रमुख सचिव व महानिदेशक कारागार राजेश कुमार सिंह इनदिनों लगातार जेल मुख्यालय में अधिकारियों के साथ बैठक कर रहे है। सूत्र बताते है कि आए दिन हो रही इन बैठकों में अधिकारियों को साफ हिदायते दी गई है। कि निर्माण, आधुनिकीकरण, नजारत के आवंटित बजट को किसी भी स्थित में सरेंडर नहीं किया जाए। उन्होंने आधुनिकीकरण अनुभाग के अधिकारियों को फटकार लगाते हुए कहा कि बजट सरेंडर करने के बजाए उसका इस्तेमाल होना चाहिए। इस संबंध में जब DIG जेल मुख्यालय अरविंद कुमार सिंह से बात की गई तो उन्होंने बैठक होने की बात तो स्वीकार की लेकिन और कुछ भी बताने से साफ इंकार कर दिया।

Raj Dharm UP

अमीनाबाद में व्यापारियों ने किया योगी का स्वागत

लखनऊ। अमीनाबाद सभा में पहुंचे योगी आदित्यनाथ से मुलाकात करते अमीनाबाद संघर्ष समिति के सदस्य अमीनाबाद में राजनाथ सिंह के समर्थन में सभा में शामिल हुए उतर प्रदेश के मुख्य मंत्री योगी आदित्यनाथ  से मिले अमीनाबाद संघर्ष समिति के पदाधिकारियों के अनुसार योगी आदित्यनाथ से मिलकर पदाधिकारियों ने खुशी जाहिर की व अमीनाबाद आने पर […]

Read More
Raj Dharm UP

चार जून की प्रतीक्षा, माफिया की उसके बाद नहीं होगी रक्षा

सीएम योगी का बड़ा ऐलान, कहा- चार जून के बाद माफिया मुक्त राज्य घोषित होगा उत्तर प्रदेश अब मटियामेट करने की कसम खा ली है यूपी के सीएम ने, जो कहते हैं वो कर दिखाते हैं योगी ए. अहमद सौदागर लखनऊ। योगी आदित्यनाथ पर विपक्षी दल लगातार आरोप लगाते रहे कि उन्होंने अपने सजातीय अपराधियों […]

Read More
Raj Dharm UP

बड़ी घटना से पसरी सनसनी: पिता ने मां पत्नी सहित पांच लोगों को उतारा मौत के घाट

घटना को अंजाम देने के बाद खुद को गोली मारकर दी जान सीतापुर जिले के मथुरा थाना क्षेत्र के पाल्हापुर गांव में हुई यह घटना ए. अहमद सौदागर लखनऊ। सूबे में अपनों के हाथों अपनों का खून करने का सिलसिला थम नहीं रहा है। राजधानी लखनऊ, देवरिया और बाराबंकी जिले में हुई कई घटनाओं को […]

Read More