राम लखन सिय सहित विराजति

कर्नल आदि शंकर मिश्र
कर्नल आदि शंकर मिश्र,

प्राणिमात्र कर स्वारथ येहू,
राम चरण पद पंकज नेहू।

रामु सनेहु मन वचन कर्म से,
राम भगति अतिशय विवेक से।

नर तनु यहु पावन करि लेहू,
रघुपति नाम सदा जपि लेहू।

मोहि परम प्रिय हैं सिय रामू,
यह तनु सौंपि दीन्ह तिन्ह नामू।

तनु बिन भाव भजन नहिं होहीं,
वेद पाठ श्रुति ज्ञान नहिं पाहीं।

रामविमुख सुख दुःख कत नाना,
जनु कृत कर्म निरर्थक जाना ।

दोहा: कोशल पुर कृत युग कर,
आदित्य परमधाम अभिराम।
नाना भाँति जहँ अवध पुर,
सजि धजि सेवहिं श्रीराम॥ ‎

राम लला पर सत्य सनेहू,
सनातनी हरि हर कर गेहू।

प्राण प्रतिष्ठा प्रभु करि होइहि,
शिव विरंचि मिलि देहिं अशीषहि।

देव दनुज धरि मनुज शरीरा,
देख़िहहिं राम लला कर क्रीड़ा।

अवध पुरी अति पुरी सुहावनि,
उत्तर दिशि बह सरयू पावनि।

भरत भूमि सानन्द सजग अति,
राम लखन सिय सहित विराजति।

पंचशतक वरस कर जो वन वासू,
निर्जन निशि दिन छतहीन निवासू।

दोहा : दुई सहस्र चौबीस सन्,
सम्वत् दुई सहस्र अस्सी।
आदित्य श्रीराम कर गेहु यह,
निर्मित वासर सोम सहर्सी॥ ‎

 

Litreture

नारायण जो हर पल रचते नई कहानी

है अनंत आकाश हमारा घर आंगन. मै चिडिया बन उड़ता रहा गगन में सब दिन| अपने तो मिल सके नहीं पूरे जीवन भर, मै सपने मे सबको अपना मान चुका था ||1|| टूट गया भ्रम जब देखी मैने सच्चाई यहां कागजी नावें चलती हर दरिया में | कश्ती कब पानी मे डूबी समझ न पाया, […]

Read More
Litreture

तुम्हीं बता दो मेरे ईश्वर

बड़ी कृपा है उस ईश्वर की। बीत गया यह भी दिन बेहतर। पिछला हफ्ता रहा सुखद ही। अगला दिन जाने कैसा हो? दुख सुख के अंतर्द्वद्वों मे। भारी कौन पड़े क्या कम हो? बतला पाना कठिन बंधुवर! प्रति दिन है भूगोल बदलता।। कौन गया है बचा कौन अब। उंगली पर नित नित मैं गिनता।। जो […]

Read More
Litreture

पुस्तक समीक्षा-संजना,उपन्यास

लेखक : सूर्य नारायण शुक्ल समीक्षक  : बीकेमणित्रिपाठी एक भौतिक विज्ञान के अध्येता का उपन्यासकार होना आश्चर्यजनक है। इनके प्रकाशित चौथे उपन्यास ‘संजना’ को मैने पढ़ा,एक बारगी में पढ़ गया। पुस्तक के शीर्षक की सार्थकता प्रमाणित है,क्योकि समूचा उपन्यास ‘संजना’ नाम की पात्रा के ही इर्दगिर्द घूमता है। उपन्यास में पाठको मे अगला वृत्तांत जानने […]

Read More