अफ़साना जीने का कितना अजीब है,

कर्नल आदि शंकर मिश्र
कर्नल आदि शंकर मिश्र

हृदय के अच्छे लोग अक़्लमंद होने
के बावजूद भी गच्चा खा जाते हैं,
इसलिये कि वे सभी पर हृदय से
अच्छा होने का विश्वास कर लेते हैं।

मैने कभी नहीं सोचा,मैं प्रसिद्धि पाऊँ,
आप चार दोस्त मुझे पहचानते हो,
मेरे लिए बस इतना ही काफी है कि
आप अच्छे से मेरी परवाह करते हो ।

अच्छे के साथ अच्छा, बुरे के साथ
भी अच्छा करूँ यही फ़ितरत मेरी है,
हाँ, जिसकी जितनी जरूरत है उतना
पहचाना मुझे, यह फ़ितरत उनकी है।

अफ़साना जीने का कितना अजीब है,
दिन गुज़ारना तो मुश्किल हो रहा है,
पर साल दर साल बीतते जा रहे हैं,
हर बर्थडे पर उम्र के पल घट जाते हैं।

कितनी अजीब सी है यह जिन्दगी,
कभी हों क़ायल, कभी हो दिल्लगी,
सफलता मिलने से कुछ पीछे छूटते,
और न मिले तो खुद पीछे छूट जाते।

जमीं पर अक्सर बैठना आता मुझे,
अपनी क्षमता का पता जो है मुझे,
सागर ने सिखाया जीने का तरीक़ा,
शांत स्थिर रहकर लहरों में बहना।

जीवन में ग़लतियाँ किससे नहीं होती
ऐसा भी नहीं मुझसे गलती नहीं होती
पर यह सत्य है मैं धोखा नहीं देता,
फरेब नहीं कोई यही ख़ासियत मेरी।

क्यों जलते हैं कुछ लोग यूँ मुझसे,
मुझे नहीं मालूम कि मेरे अंदाज से,
या उनके मन में कोई स्पर्धा है मुझसे,
जीवन में और कितना बदलूँ खुद से।

कहाँ सुकून मिलता है इस दुनिया में,
सोचता हूँ सुकून की बात ही न करूँ,
क्योंकि जीवन की इस आपाधापी में
वक्त के साथ सुकून कहाँ से पाऊँ ।

सोचता हूँ एक समय था बचपन का,
जब हँसकर उठते थे हर सुबह और
अब तो अक्सर प्रतिदिन बिना हँसे ही
सुबह, दोपहर और शाम हो जाती है।

दोस्ती निभाते हुये कहाँ आ गये हम
स्वयं को भूल ही गये अपनों को पाते,
कुछ लोग हैं जो हम पर हैं मुस्कुराते
आदित्य हम तो थक गए दर्द छुपाते।

 

Litreture

नारायण जो हर पल रचते नई कहानी

है अनंत आकाश हमारा घर आंगन. मै चिडिया बन उड़ता रहा गगन में सब दिन| अपने तो मिल सके नहीं पूरे जीवन भर, मै सपने मे सबको अपना मान चुका था ||1|| टूट गया भ्रम जब देखी मैने सच्चाई यहां कागजी नावें चलती हर दरिया में | कश्ती कब पानी मे डूबी समझ न पाया, […]

Read More
Litreture

तुम्हीं बता दो मेरे ईश्वर

बड़ी कृपा है उस ईश्वर की। बीत गया यह भी दिन बेहतर। पिछला हफ्ता रहा सुखद ही। अगला दिन जाने कैसा हो? दुख सुख के अंतर्द्वद्वों मे। भारी कौन पड़े क्या कम हो? बतला पाना कठिन बंधुवर! प्रति दिन है भूगोल बदलता।। कौन गया है बचा कौन अब। उंगली पर नित नित मैं गिनता।। जो […]

Read More
Litreture

पुस्तक समीक्षा-संजना,उपन्यास

लेखक : सूर्य नारायण शुक्ल समीक्षक  : बीकेमणित्रिपाठी एक भौतिक विज्ञान के अध्येता का उपन्यासकार होना आश्चर्यजनक है। इनके प्रकाशित चौथे उपन्यास ‘संजना’ को मैने पढ़ा,एक बारगी में पढ़ गया। पुस्तक के शीर्षक की सार्थकता प्रमाणित है,क्योकि समूचा उपन्यास ‘संजना’ नाम की पात्रा के ही इर्दगिर्द घूमता है। उपन्यास में पाठको मे अगला वृत्तांत जानने […]

Read More