घरेलू कामवाली की  व्यथा-कथा का मंचन !!

के. विक्रम राव


नाटकाकार भाई प्रदीप घोष (मो. : 9453414604) एक स्पर्शमणि हैं जो किसी भी कलारूपी धातु को छूते ही कंचन रूप दे देते हैं। उनका यह हूनर है, नैपुण्य भी। अमेरिका (हार्वर्ड) में शिक्षित साहित्यकार कृष्ण बलदेव वैद्य के उपन्यास “एक नौकरानी की डायरी” का यह नाटक रूपांतर है। स्वयं एक श्रमजीवी के नाते मुझे इसका लखनऊ के मंच पर प्रस्तुतीकरण बड़ा नीक और मनभावन लगा। इसमें घरेलू श्रमिकों के संघर्ष, जीने की कामना, रोजाना जूझना, फिर भी कार्यरत कुशलता से रहना इत्यादि का उम्दा चित्रण है। प्रदीप बाबू की कुशाग्र सोच और दक्ष नजर की यह देन है। यूं लंबे, भटकते उपन्यास का सार निचोड़कर पात्रों द्वारा जीवंत करना बड़ा दुश्वारी भरा है। मगर प्रदीप बाबू ने अपनी अर्हता और सूझबूझ से इस कष्टसाध्य कृति को बोध गम्य बना ही दिया। मसलन मंच की सादगी लुभा गई। कोई टीमटॉम झमेला नहीं था। क्या सुगमता रही ? सब कुछ ससम्मान पेश किया गया था।

पूरी पटकथा अस्सी मिनट तक एक घरेलू नौकरानी के इर्द-गिर्द घूमती है। नीशु सिंह हैं मुख्य कलाकार जिन्होंने अन्य पात्रों की वेशभूषा को भी डिजाइन किया था। निशु के अभिनय में खुद पर अपार भरोसा दिखा, संवाद बोलने की निर्बाध कला भी। नाटक का सारा दारोमदार उन्हीं की अदाकारी पर आश्रित है। बाकी पात्र नौकरानी के इर्द गिर्द ही मंडराते रहते हैं। खासकर निशु का स्वगत भाषण (एकालाप) अत्यंत सटीक रहा। दर्शकों ने खूब सराहा भी। संत गाडगे हाल (गोमती नगर, लखनऊ) खचाखच भरा था। नाटक की कला के प्रति बढ़ती रूचि देखने में आह्लादमयी लगी। पर अधिकतर आमंत्रित थे। कब वह घड़ी आएगी जब मुंबई, बड़ौदा, सूरत आदि की भांति हिंदी नाटक के टिकट भी एडवांस बुकिंग से पाए जाएंगे ?

पेपरवाला साहब (पत्रकार) की भूमिका में नरेंद्र पंजवानी तथा मां (कीर्तिका श्रीवास्तव) की किरदारी भा गई। मगर मिसेज वर्मा (ज्योति नंदा) और ललिता (अनन्या सिंह) के नारी सुलभ लटके-झटके अंत तक पर्याप्त मनोरंजन करते ही रहे। अन्य कलाकारों में सीबू पदो चौधरी, कृष्ण कुमार पांडे, रोहित सिंह, वैभव पांडे आदि थे। निर्देशक और परिकल्पना करने वाले प्रदीप घोष ने भी बताया कि : “इस उपन्यास का रूपांतरण एक ऐसा विषय था जिसकी हर एक घटना और उस पर शानो (मुख्य पात्र) का सोचना तथा उसके विश्लेषण को छोड़ कर आगे बढ़ जाना बड़ा कठिन था। यह भी संभव नहीं कि इतने बड़े उपन्यास के समस्त बिंदुओं पर काम किया जा सके। अतः यह मेरे लिए कठिन काम था।” फिलहाल लेखनी के मर्म को प्रदीप घोष समझने और पेश करने के प्रयास में बड़े कामयाब रहे। यह अपने किस्म का अनूठी पेशकश रही।

Analysis

आस्था से खिल्ली न करें ! संवेदना से फूहड़पन होगा!!

के. विक्रम राव  मान्य अवधारणा है की दैवी नाम केवल मनुष्यों को ही दिए जाते हैं। मगर सिलिगुड़ी वन्यप्राणी उद्यान में शेर और शेरनी का नाम अकबर और मां सीता पर रख दिया गया। भला ऐसी बेजा हरकत किस इशोपासक को गवारा होगी ? अतः स्वाभाविक है कि सनातन के रक्षक विश्व हिंदू परिषद ने […]

Read More
Analysis

स्मृति शेष : हिंदी के वैश्विक उद्घोषक, बहुत याद आयेंगे अमीन सयानी

संजय तिवारी (21 दिसंबर 1932 – 20 फरवरी 2024) विश्व में हिंदी के लोकप्रिय रेडियो उद्घोषक अमीन सयानी अब नहीं रहे। अपनी आवाज में यादों का सागर छोड़ कर उन्होंने विदा ले ली है। उन्होंने पूरे भारतीय उपमहाद्वीप में प्रसिद्धि और लोकप्रियता हासिल की जब उन्होंने रेडियो सीलोन के प्रसारण पर अपने बिनाका गीतमाला कार्यक्रम […]

Read More
Analysis

गुलजार को मंडित करके विद्यापीठ ऊंचा हो गया!

के. विक्रम राव मुकफ्फा (अनुप्रास) विधा के लिए मशहूर सिख शायर, पाकिस्तान से भारत आए, एक बंगभाषिनी अदाकारा राखी के पति सरदार संपूरण सिंह कालरा उर्फ गुलजार को प्रतिष्ठित पुरस्कार देकर श्रेष्ठ संस्था भारतीय ज्ञानपीठ ने हर कलाप्रेमी को गौरवान्वित किया है। भारतीयों को इस पर नाज है। वस्तुतः हर पुरस्कार गुलजार के पास आते […]

Read More