टीबी क्लीनिक से अंजली को मिली नई जिंदगी

गले के टीबी के प्रति थीं लापरवाह

चिकित्सक की सलाह मानी तो मिली टीबी से मुक्ति

अब दूसरों का बढ़ा रही हैं हौसला


सिद्धार्थनगर। नौगढ़ शहर के रामनगर वार्ड निवासी अंजली (19) के गले में वर्ष 2018 से गिल्टी (लिम्फ नोड) था। इस बीमारी को अच्छे चिकित्सक को दिखाकर उपचार कराने की बजाय वह लापरवाह बनी रहीं। लगभग तीन साल की लापरवाही के बाद दिक्कत बढ़ी तो महराजगंज जिले के एक चिकित्सक की सलाह पर उन्होंने उपचार प्रारंभ किया। इस बीच अंजली के शरीर का खून कम होता चला गया और शरीर भी काला पड़ने लगा। परेशान हालात में वह जिला अस्पताल पहुंची तो चिकित्सक ने टीबी की आशंका जताते हुए उन्हें टीबी क्लिनिक भेज दिया। जांच में टीबी की पुष्टि हुई और फिर इलाज शुरू हुआ।

स्वस्थ हो चुकी अंजली अब दूसरे टीबी रोगियों का मनोबल बढ़ाती हैं और उनकी मदद करती हैं। अंजली बताती हैं कि वह गले में गिल्टी होने के बाद भी लापरवाह बनी रहीं। वह कभी दवा करातीं तो कभी-कभी दवा सेवन छोड़ देती थी। दवा खाने का कोई समय निर्धारित नहीं था। दिसंबर 2020 में महराजगंज जिले के कोल्हुई में निवास कर रही उनकी दीदी ने एक चिकित्सक को दिखाया। चिकित्सक को टीबी का संदेह हुआ तो उन्होंने दवा चलाया,  लेकिन उन्हें टीबी होने की जानकारी नहीं दी गई। वह बताती हैं कि इस दौरान दीदी ने भी परहेज की जानकारी देकर दवा खाने की सलाह दी। अंजली बताती हैं कि इस बीच उनके शरीर का खून कम होने लगा और शरीर काला पड़ने लगा। इससे वह परेशान हो उठीं। जिला अस्पताल के चिकित्सक की सलाह पर टीबी क्लिनिक पहुंची तो जांच कराई गई। मार्च 2021 में हुई जांच में टीबी की पुष्टि हुई। इसके बाद छह माह के नियमित दवा सेवन से उन्होंने टीबी को मात दिया है। अब वह टीबी चैंपियन बनकर टीबी क्लिनिक में आने वाले मरीजों को अपना उदाहरण देकर बीमारी से लड़ने का साहस दे रही हैं।

खिलाती हैं तीन मरीजों को दवा

टीबी चैंपियन अंजली ने टीबी क्लिनिक में मरीजों को बीमारी से लड़ने के लिए प्रोत्साहित करने के साथ-साथ तीन मरीजों को नियमित दवा का सेवन कराने का बीड़ा उठाया है। नौगढ़ शहर के निवासी तीनों मरीजों को वह हर 15 दिन पर दवा देकर सेवन करने की सलाह देती हैं। 15 दिनों के बाद मरीज के पहुंचने पर बातचीत कर सेहत का हाल जानती हैं, फिर अगले 15 दिनों का दवा देकर खाने के लिए प्रोत्साहित करती हैं।

चैंपियन करती हैं प्रोत्साहित

नौगढ़ शहर के कृष्णानगर निवासी काजू (बदला नाम) टीबी मरीज हैं। वह बताते हैं कि टीबी क्लिनिक में चैंपियन अंजली से उन्हें हर 15 दिन पर दवा मिलता है। वह नियमित दवा सेवन के लिए प्रोत्साहित करती रहती हैं और समझाती हैं कि दवा के सेवन से टीबी जड़ से खत्म हो जाएगी।

Purvanchal

दुकान बंद होने पर हो जाएगी सील तो बढ़ेगी समस्या

राजेश जायसवाल नौतनवां/ महराजगंज । स्टेट GST की टीम इन दिनों दुकानों की जांच करने में जुटी है। इससे व्यापारियों को बढ़ाने की जरूरत नहीं है। देखा जा रहा है कि GST  टीम से डरकर लोग अपनी दुकानें बंद किए हुए हैं। दुकान बंद रखने का मतलब कहां न कहीं आप कुछ गड़बड़ कर रहे […]

Read More
Purvanchal

अधिशासी अभियंता से मिले वाहन चालक, समस्या निदान की मांग

सिद्धार्थनगर। राजकीय वाहन चालक महासंघ का एक प्रतिनिधिमंडल अधिशासी अभियंता लोक निर्माण विभाग प्रांतीय खंड से मुलाकात की। इस मौके पर पूर्व में सौंपे गए मांगपत्र पर सहमति के बाद भी अब तक कोई कार्रवाई न होने पर रोष जताया। साथ ही लंबित समेत अन्य समस्याओं का निस्तारण की मांग की। महासंघ के जिला मंत्री […]

Read More
Purvanchal

दलों ने नहीं खोले पत्ते, चुनाव लड़ने वालों की धड़कनें तेज

विभिन्न दलों में टिकट मांगने वाले अध्यक्ष से लेकर सभासदों की लंबी कतार जिले में है दो नगर पालिका व नौ नगर पंचायत सिद्धार्थनगर। जिले में होने वाले नगर निकाय चुनाव के लिए अध्यक्ष व सभासदों की आरक्षण सूची जारी हो चुकी है। हर दल में अध्यक्ष व सभासद का टिकट मांगने वालों की लंबी […]

Read More