हाथरस कांड में एसडीएम,सीओ और तहसीलदार सहित छहः अधिकारी सस्पेंड

अजय कुमार,लखनऊ

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के जिला हाथरस में बीते दो जुलाई को सत्संग के दौरान घटित दुर्घटना में करीब 121 लोगों की मौत के मामले के तत्काल बाद गठित एडीजी जोन आगरा और मंडलायुक्त अलीगढ़ की एसआईटी ने तीन दिन घटनास्थल का निरीक्षण करने के बाद जो जांच रिपोर्ट तैयार करने के अलावा प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों के साथ आम जनता और प्रत्यक्षदर्शियों का बयान भी लिया था उसके आधार पर एसडीएम,सीओं और तहसीलदार सहित छहः अधिकारी सस्पेंड कर दिये गये हैं। इसके अलावा, घटना के संबंध में प्रकाशित समाचार की प्रतियां, स्थलीय विडियोग्राफी, छायाचित्र, विडियो क्लिपिंग का संज्ञान लिया गया।
एसआईटी ने अपनी प्रारंभिक जांच में चश्मदीद गवाहों व अन्य साक्ष्यों के आधार पर दुर्घटना के लिए कार्यक्रम आयोजकों को मुख्य रूप से जिम्मेदार माना है। जांच समिति ने अब तक हुई जांच व कार्यवाही के आधार पर हादसे के पीछे किसी बड़ी साजिश से भी इंकार नहीं किया है और गहन जांच की जरूरत बताई है। जांच समिति ने कार्यक्रम आयोजक तथा तहसील स्तरीय पुलिस व प्रशासन को भी दोषी पाया है। जांच में कहा गया कि स्थानीय एसडीएम, सीओ, तहसीलदार, इंस्पेक्टर, चैकी इंचार्ज द्वारा अपने दायित्व का निर्वहन करने में लापरवाही के जिम्मेदार हैं। उप जिला मजिस्ट्रेट सिकन्दराराऊ द्वारा बिना कार्यक्रम स्थल का मुआयना किये आयोजन की अनुमति प्रदान कर दी गई और वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत भी नहीं कराया।
एसआईटी के अनुसार उक्त अधिकारियों द्वारा कार्यक्रम को गंभीरता से नहीं लिया गया और वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत भी नहीं कराया गया। एसआईटी ने संबंधित अधिकारियों के विरुद्ध कार्रवाई की संस्तुति की है। तदक्रम में, उप जिला मजिस्ट्रेट सिकन्दराराऊ, पुलिस क्षेत्राधिकारी सिकन्दराराऊ, थानाध्यक्ष सिकन्दराराऊ, तहसीलदार सिकन्दराराऊ, चौकी इंचार्ज कचैरा एवं चौकी इंचार्ज पोरा को शासन द्वारा निलंबित कर दिया गया है। वहीं आयोजकों ने तथ्यों को छिपाकर कार्यक्रम के आयोजन की अनुमति ली। अनुमति के लिए लागू शर्तों का अनुपालन नहीं किया गया। आयोजकों द्वारा अप्रत्याशित भीड़ को आमंत्रित कर पर्याप्त एवं सुचारु व्यवस्था नहीं की गई। न ही कार्यक्रम के लिए स्थानीय प्रशासन द्वारा दी गई अनुमति की शर्तों का पालन किया गया। आयोजक मंडल से जुड़े लोग अव्यवस्था फैलाने के दोषी पाए गए हैं। इनके द्वारा जिन लोगों को बिना विधिवत पुलिस वेरिफिकेशन के जोड़ा गया, उनसे अव्यवस्था फैली।आयोजक मंडल द्वारा पुलिस के साथ दुर्व्यवहार किया गया। स्थानीय पुलिस को कार्यक्रम स्थल पर निरीक्षण से रोकने का प्रयास किया गया।सत्संगकर्ता और भीड़ को बिना सुरक्षा प्रबंध के आपस में मिलने की छूट दी गई। भारी भीड़ के दृष्टिगत यहां किसी प्रकार की बैरीकेटिंग अथवा पैसेज की व्यवस्था नहीं बनाई गई थी और दुर्घटना घटित होने पर आयोजक मंडल के सदस्य घटना स्थल से भाग गए।

Purvanchal

मोहर्रम पर सुरक्षा के मद्देनजर जुलूस के दौरान अर्धसैनिक बलों का रहेगा घेरा

संवेदनशील इलाकों में हर शख्स पर रहेगी कैमरे की नज़र चप्पे-चप्पे पर भारी पुलिस बल तैनात ए अहमद सौदागर लखनऊ। मोहर्रम पर शांति-व्यवस्था कायम रखने के द्रष्टिगत जुलूस को शांतिपूर्ण ढंग से निपटाने के लिए कमिश्नरेट पुलिस ने कमर कस ली है। पुराने लखनऊ में संवेदनशील व अतिसंवेदनशील इलाकों में जुलूस के दौरान अर्धसैनिक बलों […]

Read More
Purvanchal

खुले में मांस/मुर्गा बेंच रहे लोगो को हटाने की मांग

विश्व हिंदू परिषद के नेता ने लिखा मुख्यमंत्री को पत्र फुटपाथ पर मांस कटने से आने जाने वालों को हो रही तमाम दिक्कते लखनऊ। फुटपाथ और सड़क के किनारे खुले में बिक रहे मांस और मुर्गा की दुकानों को तत्काल हटवाया जाए। इनकी बिक्री पक्की दुकानों पर पर्दा इत्यादि लगाकर कराई जानी चाहिए। यह मांग […]

Read More
Purvanchal

बिजली विभाग की लापरवाही के शिकार हो रहे विभाग के लाइनमैन

देवांशू जायसवाल नौतनवां,महराजगंज। जिला महाराजगंज के नौतनवां तहसील के अंतर्गत नौतनवा नगर पालिका वार्ड नंबर 8 मधुबन नगर में एक बहुत ही हृदय विदारक घटना घटी जिसमें एक लाइट मैन की जान चली गई। बताते चलें की घटना स्थल पर लाइनमैन एक घर के ऊपर हाई टेंशन तार को सही करने के लिए पोल पर […]

Read More