अब लखनऊ घूमने जाने पर अच्छी जगह ठहरने की चिंता खत्म

  • लखनऊ में छुट्टियाँ मनाने जा रहे हैं, तो अच्छी जगह ठहरने की चिंता छोड़ दीजिए

लखनऊ। बीते कुछ वर्षों में नवाबों के शहर, लखनऊ में पर्यटन काफी तेजी से बढ़ा है। ऐसे में, अपने शहर से बाहर जाने पर व्यक्ति यही चाहता है कि उसे ठहरने की उत्तम व्यवस्था मिले, जहाँ उसे बेहतर आराम मिले, जिसका प्रभाव कुछ ऐसा हो कि दोबारा भी वह उसी जगह पर ठहरे, और अपने परिचितों को भी समान सुझाव दे। ग्राहकों की इस जरुरत को अमल में लाते हुए, ओयो ने इस वर्ष लखनऊ में 25 सेल्फ-ऑपरेटेड होटल्स शुरू करने की घोषणा की है। शुरुआती चरण में चार होटल्स शुरू भी हो चुके हैं। ओयो रियल एस्टेट डेवलपर्स के साथ साझेदारी कर रहा है, ताकि होटल्स शुरू करने के लिए बेहतर क्षेत्रों और सम्पत्तियों का पता लगाया जा सके।

ओयो के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर वरुण जैन ने कहा कि हमारा उद्देश्य एक ऐसे आवास की स्थापना करना है, जिसमें ओयो, होटल ऑपरेटर्स और संपत्ति के मालिकों सहित ग्राहकों को भी फायदा पहुँचे। चाहे हमारे मेहमान अपनी व्यावसायिक यात्रा पर हों, पारिवारिक अवकाश पर अपने शहर से बाहर आए हों, या फिर अकेले ही एडवेंचर ट्रिप पर निकले हों, ओयो के माध्यम से उन्हें टॉप-रेटेड होटल्स में ठहरने के विभिन्न विकल्प मिलेंगे, जो न सिर्फ उनकी यात्रा को सुगम बनाएँगे, बल्कि उनके बजट के भी अनुरूप होंगे। इन होटल्स का संचालन ओयो के प्रोफेशनल होटल ऑपरेटर्स करेंगे। ऐसे में, संपत्ति के मालिक अपनी संपत्ति ओयो को पट्टे पर दे सकते हैं, जिसका उचित रख-रखाव और साफ-सफाई का जिम्मा ओयो का रहेगा। ये तमाम होटल्स ओयो की ऐप और वेबसाइट पर ‘सर्विस्ड बाए ओयो’ होटल्स के अंतर्गत शामिल होंगी।

ओयो ने शुरु किए 4 सेल्फ-ऑपरेटेड होटल्स; विशेष साझेदारी के तहत 2024 में 25 नए होटल्स खोलने का लक्ष्य

ग्लोबल हॉस्पिटैलिटी टेक्नोलॉजी कंपनी ओयो ने इस वर्ष लखनऊ में 25 सेल्फ-ऑपरेटेड होटल्स शुरू करने की घोषणा की है। अपने शुरुआती चरण के दौरान इस श्रेणी में ओयो पहले ही चार होटल शुरू कर चुका है। इनमें टाउनहाउस एमएस इन गोमती नगर सेक्टर-6, टाउनहाउस लैंडमार्क गोमती नगर मटियारी, ओयो नटराज इन नियर एसजीपीजीआई और कलेक्शन ओ ज़ारांग गोमती नगर मटियारी के नाम शामिल हैं। इसके अतिरिक्त, ओयो रियल एस्टेट डेवलपर्स के साथ साझेदारी करने के लिए प्रतिबद्ध है, ताकि विभिन्न क्षेत्रों में होटलों की स्थापना के लिए उचित सम्पत्तियाँ तलाशी और विकसित की जा सकें। इन होटलों का संचालन ओयो के प्रोफेशनल होटल ऑपरेटर्स करेंगे, जिससे उन्हें अपने व्यवसाय की वृद्धि और विस्तार के अवसर मिले सकेंगे।

उक्त विषय पर बोलते हुए चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर वरुण जैन ने कहा कि लखनऊ तेजी से एक प्रमुख पर्यटन स्थल के रूप में उभर रहा है, जो बड़ी संख्या में व्यवसाय के सिलसिले में और छुट्टियाँ मनाने आने वाले यात्रियों को आकर्षित कर रहा है। ऐसे में, शहर में बेहतर आवास की माँग भी तेजी से बढ़ रही है, जिसके चलते नए होटलों की तत्काल जरुरत है। होटल व्यवसायियों और संपत्ति मालिकों को इस पहल में शामिल करके, ओयो का लक्ष्य संपत्ति के मालिकों और प्रोफेशनल होटल ऑपरेटर्स के साथ-साथ यात्रियों को भी लाभ पहुँचाना है।

ये तमाम होटल्स ओयो की ऐप और वेबसाइट पर ‘सर्विस्ड बाए ओयो’ होटल्स के रूप में शामिल होंगे, ताकि उनके संचालन में ओयो की प्रत्यक्ष भागीदारी सुनिश्चित हो सके। ओयो की योजना रियल एस्टेट सेक्टर और स्थानीय जानकारी के साथ अपनी इनोवेटिव टेक्नोलॉजी और हॉस्पिटैलिटी  सॉल्यूशंस के माध्यम से इसका विस्तार करना है। इस पहल के माध्यम से, शीर्ष होटल भागीदार अतिरिक्त राजस्व कमा सकते हैं, वह भी पट्टे के जोखिम या नया होटल खोलने की लागत के बिना। इन ऑपरेटर्स को समर्पित रिलेशनशिप मैनेजर्स, ओयो के 15,000 से अधिक कॉर्पोरेट अकाउंट्स और 10,000 से अधिक ट्रैवल एजेंट्स के नेटवर्क तक पहुँच प्राप्त होगी।

इनमें से अधिकांश होटल्स कंपनी की प्रीमियम होटल पेशकशों का हिस्सा होंगे, जिनमें टाउनहाउस, टाउनहाउस ओक और कलेक्शन ओ जैसे नाम शामिल हैं। इस प्रक्रिया के तहत ओयो, संपत्ति या होटल मालिकों को अपनी संपत्ति किसी बड़े संगठन को पट्टे पर देने का अवसर प्रदान कर रहा है। इसके तहत वे अपनी संपत्ति के सुरक्षित रखरखाव के लिए निश्चित किराए, रेवेन्यू शेयरिंग या मैनेजमेंट कॉन्ट्रैक्ट का विकल्प चुन सकते हैं।

कंपनी इस बात पर कड़ी नजर रखेगी कि होटल का रखरखाव कितने अच्छे से किया जाता है और ग्राहकों के इसे लेकर क्या विचार हैं। यह तय करने के बाद कि कौन-से ऑपरेटर्स सबसे अच्छा काम कर रहे हैं, उन्हें ओयो द्वारा पुरस्कृत किया जाएगा। इस पहल का उद्देश्य एक ऐसे सहयोगी इकोसिस्टम की स्थापना करना है, जिसमें ओयो, होटल संचालक और संपत्ति के मालिक अतिथि-केंद्रित होटल संचालित करने के लिए एकजुट हों। यह साझेदारी के माध्यम से समुदायों में आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के कंपनी के लक्ष्य के अनुरूप है।

यह कार्यक्रम ओयो के समर्पण पर प्रकाश डालता है, जो ग्राहकों को बेहतर विकल्पों की पेशकश करने पर आधारित है। चाहे हमारे मेहमान अपनी व्यावसायिक यात्रा पर हों, पारिवारिक अवकाश पर अपने शहर से बाहर आए हों, या फिर अकेले ही एडवेंचर ट्रिप पर निकले हों, उन्हें टॉप-रेटेड होटल्स में ठहरने के विभिन्न विकल्प मिलेंगे, जो न सिर्फ उनकी यात्रा को सुगम बनाएँ, बल्कि उनकी शैली, बजट एवं प्राथमिकताओं के भी अनुरूप हों।

वहीं होटल लैंडमार्क के मालिक चमन गुप्ता ने कहा कि मेरे वेंचर के साथ-साथ होटल व्यवसाय का प्रबंधन, मेरे लिए बहुत बड़ी चुनौती थी। जब से मैंने ओयो की टीम को इसके प्रबंधन का कार्य सौंपा है, तब से मुझे इस समस्या से काफी राहत मिली है। मैं यह देखकर काफी खुश हूँ कि मेरी संपत्ति का उचित प्रकार रख-रखाव किया जा रहा है और इसे पूरी तरह साफ-सुथरा रखा जा रहा है। ओयो की टीम अपने वादों को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है और मैं इसकी सराहना करता हूँ, विशेष रूप से किराए की राशि अदा करने के संबंध में। इसे बेहद आसान, सुविधाजनक और परेशानी मुक्त बनाने की कोशिश रहेगी।

ओयो रूम्स ने अपने टेक स्टैक को और भी अधिक सरल, आधुनिक और डिजिटल बना दिया है, जिसका उद्देश्य इसके भागीदारों को अपनी पहुँच और राजस्व बढ़ाने में मदद करना है। इसके अपडेटेड टेक्नोलॉजी प्रोडक्ट्स, जैसे कि को-ओयो, भागीदारों को सशक्त बनाता है, जिससे वे ओयो की संख्या में वृद्धि हेतु स्वयं के प्रचार प्रस्ताव पेश कर सकते हैं और उनका उचित प्रकार प्रबंधन भी कर सकते हैं। वहीं, एआई-आधारित सेल्फ-ऑनबोर्डिंग टूल, ओयो 360, एक सहज टू-क्लिक प्लेटफॉर्म प्रदान करता है, जिसकी सहायता से भागीदार अपनी संपत्तियों को नामांकित कर सकते हैं। एक साधारण समीक्षा के रूप में, महज़ एक क्लिक से ये सम्पत्तियाँ सभी प्लेटफॉर्म्स पर केवल 30 मिनट में लाइव हो जाएँगी।

Central UP

चिनहट पुलिस की हकीकत: पुलिस मुठभेड़ में हिस्ट्रीशीटर घायल फिर गिरफ्तार, साथी फरार

पुलिस का दावा 32 बोर की पिस्टल बरामद, अन्य बदमाशों की तलाश चिनहट क्षेत्र में रविवार की रात हुई घटना का मामला ए अहमद सौदागर लखनऊ। तारीख 19 मई दिन रविवार। स्थान मटियारी ओवरब्रिज। लोकसभा चुनाव का माहौल और दूसरे दिन यानी सोमवार को मतदान होना था इसके मद्देनजर चप्पे-चप्पे पर भारी संख्या पुलिस बल […]

Read More
Central UP

जेल वार्डरों की मौत की घटनाओं को भी दबा गए अफसर!

बीते वर्ष लखनऊ जिला जेल में भी हो चुकी वार्डर की मौत शासन में सेटिंग गेटिंग रखने वाले अफसरों पर नहीं होती कोई कार्यवाही लखनऊ। बीते सप्ताह फतेहगढ़ जिला जेल में अवकाश नहीं मिलने की वजह से एक वार्डर की मौत हो गई। इस मौत से आक्रोशित जेल के दर्जनों वार्डरों ने जेल प्रशासन की […]

Read More
Central UP

जेटीएस में ट्रांजिट हास्टल निर्माण में करोड़ों का खेल!

 3.5 करोड़ भुगतान के बाद भी अभी तक नहीं शुरू हुआ कार्य शासन ने आवंटित धनराशि को 31 मार्च तक खर्च करने का दिया था आदेश शासन में बैठे आला अफसर लगा रहे सरकारी राजस्व को चूना जेल प्रशिक्षण संस्थान परिसर में ट्रांजिट हास्टल निर्माण में घोटाला राकेश यादव लखनऊ। यह फोटो जो आप देख […]

Read More