भारत ने यूएन के आतंकवाद रोधी कोष में दिए 5 लाख डॉलर

संयुक्त राष्ट्र। भारत ने संयुक्त राष्ट्र आतंकवाद निरोधक ट्रस्ट फंड में 5 लाख डॉलर का योगदान दिया है। यह कदम आतंकवाद के खिलाफ वैश्विक लड़ाई में बहुपक्षीय प्रयासों का समर्थन करने की भारत की अटूट प्रतिबद्धता को दर्शाता है।
संयुक्त राष्ट्र में भारत की स्थायी प्रतिनिधि रुचिरा कंबोज ने मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र आतंकवाद निरोधक कार्यालय (यूएनओसीटी) के अवर महासचिव व्लादिमीर वोरोनकोव को संयुक्त राष्ट्र आतंकवाद निरोधक ट्रस्ट फंड (सीटीटीएफ) के लिए देश के स्वैच्छिक वित्तीय योगदान के रूप में पांच लाख अमेरिकी डॉलर सौंपे।
संयुक्त राष्ट्र, न्यूयॉर्क में भारत के स्थायी मिशन के आधिकारिक ‘एक्स’ अकाउंट पर एक पोस्ट में इसकी जानकारी दी गई है। पोस्ट में लिखा है भारत ने वैश्विक आतंकवाद-रोधी पहलों के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को सुदृढ़ किया है तथा संयुक्त राष्ट्र आतंकवाद-रोधी ट्रस्ट कोष में 500,000 अमेरिकी डॉलर का योगदान देकर, विशेष रूप से अफ्रीका में आतंकवाद से निपटने के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को प्रदर्शित किया है।


मिशन की ओर से जारी बयान में कहा गया है भारत आतंकवाद के खतरे से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए सदस्य देशों की क्षमता निर्माण में संयुक्त राष्ट्र आतंकवाद निरोधक कार्यालय द्वारा किए गए कार्य और अधिदेश को बहुत महत्व देता है। नवीनतम योगदान आतंकवाद के खिलाफ वैश्विक लड़ाई में संयुक्त राष्ट्र के नेतृत्व में बहुपक्षीय प्रयासों का समर्थन करने के लिए भारत की अटूट प्रतिबद्धता की पुष्टि करता है।
बयान में कहा गया है कि भारत का योगदान यूएनओसीटी के वैश्विक कार्यक्रमों- मुख्य रूप से आतंकवाद के वित्तपोषण का मुकाबला (सीएफटी) और आतंकवादी यात्रा कार्यक्रम का मुकाबला (सीटीटीपी)- को समर्थन देगा।
बता दें कि अफ्रीका में आतंकवाद के बढ़ते खतरे के मुद्दे से निपटना पिछले कुछ वर्षों से भारत की आतंकवाद-रोधी प्राथमिकताओं में से एक रहा है। विदेश मंत्री डॉ. एस. जयशंकर ने अक्टूबर 2022 में भारत की अध्यक्षता में नई दिल्ली में आयोजित आतंकवाद रोधी समिति की विशेष बैठक के दौरान ट्रस्ट फंड में योगदान देने प्रतिबद्धता जताई थी।
(रिपोर्ट. शाश्वत तिवारी)

Litreture National

बुझता दिया तेल की बूंदे पा गया !

के. विक्रम राव  आज (29 मई 2024, बुधवार) मेरे 85 बसंत पूरे हो गए। कई पतझड़ भी। कवि कबीर की पंक्ति सावधान करती है, जब वे माटी से घमंडी कुम्हार को कहलाते हैं : “एक दिन ऐसा आएगा, जब मैं रौंदूगी तोय।” चेतावनी है। मगर आस बंधाती है शायर साहिर की पंक्ति : “रात जितनी […]

Read More
National

ओमान में डिजिटाइज प्रोजेक्ट से भारतीय प्रवासियों के ऐतिहासिक दस्तावेज होंगे संग्रहित

नई दिल्ली। भारतीय प्रवासियों के ऐतिहासिक दस्तावेजों को संग्रहित करने के लिए ओमान की राजधानी मस्कट में पहली डिजिटलीकरण परियोजना शुरू हुई। मस्कट स्थित भारतीय दूतावास ने भारतीय राष्ट्रीय अभिलेखागार (एनएआई) के साथ मिलकर ओमान में भारतीय प्रवासियों की समृद्ध विरासत को संरक्षित करने के लिए यह अभूतपूर्व परियोजना शुरू की है। ‘ओमान संग्रह – […]

Read More
National

शांति रक्षक मेजर राधिका को मिला यूएन अवॉर्ड

शांति रक्षक मेजर राधिका को मिला यूएन अवॉर्ड संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र (यूएन) में भारत की स्थायी प्रतिनिधि रुचिरा कंबोज ने बुधवार को भारतीय संयुक्त राष्ट्र शांति सैनिकों की बहादुरी और समर्पण की प्रशंसा करते हुए वैश्विक शांति एवं सुरक्षा में भारत के उल्लेखनीय योगदान पर प्रकाश डाला। कंबोज ने अंतरराष्ट्रीय संयुक्त राष्ट्र शांति सैनिक […]

Read More