‘पुकार- दिल से दिल तक’ में मुख्य भूमिका निभाएंगी सायली सालुंखे

  • एक मां और दो बेटियों के जीवन की नई कहानी को देखकर रह जाएंगे दंग

मुंबई। सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविज़न अपने आगामी शो ‘पुकार दिल से दिल तक’ के साथ दर्शकों का दिल जीतनेके लिए तैयार है, जो प्यार, नुकसान, और मुक्ति की सम्मोहक कहानी है। यह शो जयपुर की पृष्ठभूमि परआधारित है, जहां आधुनिकता परंपरा में समाहित है। यह शो एक मां और उसकी दो बेटियों के जीवन की कहानी है, जिन्हें एक भयावह योजना ने क्रूरतापूर्वक अलग कर दिया है। इसमें सायली सालुंखे को वेदिका की मुख्य भूमिका निभाने के लिए चुना गया है, जो स्वतंत्र, धार्मिक और दृढ़निश्चयी आधुनिक युवती की भूमिका है।

सायली सालुंखे पुकार दिल से दिल तक में वेदिका का किरदार निभाने के लिए उत्साहित हैं। उन्होंने कहा, यह मनोरंजक कहानी निश्चित रूप से दर्शकों को टीवी के सामने बांधे रखेगी, जैसा कि कहानी सुनते समय मेरे साथ हुआ था। एक मां और उसकी दो बेटियों का सफर, जो उतार-चढ़ाव से भरा हुआ है, उनके अतीतके रहस्यों को प्रदर्शित करेगा, साथ उन्हें उस बॉन्ड को फिर से बनाना होगा जो कभी टूट गया था, जिससे यह शोज़रूर देखने योग्य बन जाता है। मैं पहली बार किसी वकील का किरदार निभा रही हूं, और न्याय को लेकर उसकीमजबूत भावना मुझे प्रभावित करती है। वेदिका के किरदार और सफर को दिलचस्प बनाने वाली बात यह है किकिस तरह से वह अपनी अंदरूनी लड़ाई लड़ते हुए अपने वर्तमान और अतीत का सामना करेगी। एक अभिनेत्रीके रूप में, विभिन्न शेड्स वाले नए किरदारों को निभाने से मुझे चुनौती मिलती है; स्क्रीन पर हर पल आत्म-चिंतन और विकास का सफर है और मुझे उम्मीद है कि मेरे फैंस इस नई भूमिका में मेरा समर्थन करेंगे। यह शो जल्द ही सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविज़न पर प्रसारित होगा।

Entertainment

संजय बिश्नोई की फिल्म संतोष का काँस फिल्म फेस्टिवल में हुआ ऑफिसियल सिलेक्शन

एमी-विनिंग  सीरीज़ दिल्ली क्राइम और 12वीं फेल का हिस्सा बनने के बाद, संजय बिश्नोई ने अपने नाम में एक और उपलब्धि जोड़ ली है हालही में चल रहे 77वें कान्स फिल्म फेस्टिवल में उन्हें  भारत का प्रतिनिधित्व करने का मौका मिला। अभिनेता की फिल्म संतोष को अन सर्टन रिगार्ड कैटेगरी  में प्रतिष्ठित मंच पर प्रदर्शित […]

Read More
Entertainment

बात फिल्म इंड्रिस्ट्री के पहले “एंटी-हीरो” अशोक कुमार की….

शाश्वत तिवारी कलकत्ता से वकालत पढ़े अशोक कुमार को फिल्में देखना बहुत पसंद था। वो क्लास के बाद वे अपने दोस्तों के साथ थियेटर चले जाते थे। तब आई हीरो के. एल. सहगल की दो फिल्मों से वे बहुत प्रभावित हुए – ‘पूरण भगत’ (1933) और ‘चंडीदास’ (1934)। वे तत्कालीन बंगाल में आने वाले भागलपुर […]

Read More
Entertainment

पुण्यतिथि पर विशेषः जब नौशाद ने मुगल-ए-आजम का संगीत देने से कर दिया था मना

पांच मई को दुनिया से रुखसत हुए थे, 25 दिसम्बर 1919 को जन्मे थे नौशाद मुंबई। वर्ष 1960 में प्रदर्शित महान शाहकार मुगल-ए-आजम के मधुर संगीत को आज की पीढ़ी भी गुनगुनाती है लेकिन इसके गीत को संगीतबद्ध करने वाले संगीत सम्राट नौशाद ने पहले मुगल-ए-आजम का संगीत निर्देशन करने से इंकार कर दिया था। […]

Read More