CAA : देश को बांटने का एक और औज़ार

राम पुनियानी

जिस समय इलेक्टोरल बॉण्ड से जुड़ा बड़ा घोटाला परत-दर-परत देश के सामने उजागर हो रहा था, ठीक उसी समय केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) लागू करने के लिए नियमों और प्रक्रिया की घोषणा कर दी। यह अधिनियम करीब चार साल पहले संसद द्वारा पारित किया गया था। इसे लागू करने की घोषणा उस समय की गई जब इलेक्टोरल बॉण्ड घोटाला सामने आ रहा था और आम चुनाव नज़दीक थे। BJP की राजनीति के रंग-ढंग देखते हुए घोषणा के किए यह समय चुने जाने का उद्देश्य स्पष्ट है।

असम में राष्ट्रीय नागरिकता पंजी (NRC) से संबंधित कवायद के बाद CAA पारित किया गया था। NRC के अंतर्गत असम के लोगों से कहा गया था कि वे अपनी नागरिकता साबित करने के लिए दस्तावेज प्रस्तुत करें। बताया यह जा रहा था कि असम में करीब 1।5 करोड़ बांग्लादेशी मुसलमानों ने घुसपैठ कर ली है और NRC के जरिए सरकार उनकी पहचान कर उन्हें देश से बाहर निकाल सकेगी। कथित बांग्लादेशी घुसपैठियों को दीमक की संज्ञा दी गई और उनके लिए हिरासत केन्द्र बनाए जाने लगे। मगर एनआरएसी के नतीजे आश्चर्यजनक साबित हुए। जिन करीब 19 लाख लोगों के पास अपनी नागरिकता को साबित करने के लिए दस्तावेज नहीं थे उनमें से 12 लाख हिन्दू निकले। जाहिर है कि 1।5 करोड़ बांग्लादेशी मुसलमानों के असम में होने के दावे एकदम गलत साबित हुए। इस शर्मिंदगी को ढांपने के लिए CAA लाया गया।

CAA के अंतर्गत दिसंबर 2014 के पहले अफगानिस्तान, पाकिस्तान और बांग्लादेश से भारत में आए हिन्दुओं, ईसाईयों, सिक्खों, बौद्धों और जैनियों को भारत की नागरिकता दी जा सकती है। ज्ञातव्य है कि BJP की सरकार जून 2014 में केन्द्र में सत्ता में आई थी। CAA के अंतर्गत जिन धर्मों के लोगों को भारत की नागरिकता दी जा सकती है, उनमें इस्लाम शामिल नहीं है। इस मुद्दे पर पूरे देश में विरोध प्रदर्शन हुए। इनमें से अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय और जामिला मिल्लिया इस्लामिया में हुए प्रदर्शनों को बेरहमी से कुचल दिया गया। इसके बाद स्वतंत्र भारत के सबसे बड़े आंदोलनों में से एक की शुरूआत हुई जिसे शाहीन बाग आंदोलन कहा जाता है। यह महत्वपूर्ण है कि शाहीन बाग़ आन्दोलन का नेतृत्व मुस्लिम महिलाओं ने किया। उनके हाथों में भारत का संविधान था और दिल में महात्मा गाँधी का जज़्बा।

तत्समय BJP सांसद प्रवेश साहिब सिंह वर्मा ने कहा कि यह आन्दोलन हिन्दुओं के लिए खतरा हैं क्योंकि प्रदर्शनकारी हिन्दुओं के घरों में घुसकर महिलाओं के साथ बलात्कार कर सकते हैं। BJP के ही कपिल शर्मा ने प्रदर्शनकारियों को धमकी दी थी कि या तो वे स्वयं अपने-अपने घर चले जाएं वरना पुलिस उन्हें जबरदस्ती हटा देगी। इसी संदर्भ में केन्द्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने “गोली मारो।।।” का नारा दिया था। इसके कुछ समय पश्चात दिल्ली में सांप्रदायिक हिंसा हुई जिसमें 51 लोग मारे गए। इनमें से 38 मुसलमान थे। तब से CAA ठंडे बस्ते में था। अब अचानक इसे फिर से जिंदा कर दिया गया है। इसके अंतर्गत पड़ोसी देशों में प्रताड़ित किये जा रहे लोगों को भारत में शरण दिये जाने की व्यवस्था और प्रक्रिया निर्धारित की गई है। जानीमानी वकील इंदिरा जय सिंह कहती हैं “हमारा संविधान जन्म, वंश और देश में अप्रवास के आधार पर नागरिकता देता है। इसमें धर्म की कोई भूमिका नहीं है। नागरिकता अधिनियम 1955 संसद द्वारा इसलिए बनाया गया था ताकि नागरिकता देने और समाप्त करने की प्रक्रिया निर्धारित की जा सके। इस अधिनियम में नागरिकता प्रदान करने के लिए धर्म को पात्रता की शर्तों में शामिल नहीं किया गया था। मगर CAA के अंतर्गत यहाँ रह रहे लोगों को केवल धर्म के आधार पर नागरिकता दी जाएगी।

इस तरह नागरिकता संशोधन विधेयक संविधान के अनुच्छेद-14 का उल्लंघन करता है, जिसके अंतर्गत सभी  को विधि के समक्ष समानता और विधि की समान सुरक्षा की गारंटी दी गई है। इसके तहत व्यक्ति के धर्म का कोई महत्व नहीं है। अनुच्छेद-14 देश के नागरिकों पर ही नहीं वरन यहाँ रह रहे सभी व्यक्तियों पर लागू होता है। परन्तु CAA के अंतर्गत मुसलमानों को नागरिकता देने की प्रक्रिया को फास्ट ट्रेक नहीं किया जा सकता। इसके अतिरिक्त, CAA  में पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश को छोड़कर अन्य देशों से भारत आने वाले लोगों के लिए कोई व्यवस्था नहीं की गई है। पाकिस्तान में अहमदिया मुसलमानों पर किस तरह के जुल्म होते हैं यह जगजाहिर है। मगर CAA के अंतर्गत उन्हें भारत की नागरिकता नहीं दी जा सकती।

केन्द्र सरकार का तर्क है कि CAA इसलिए लागू किया गया है कि ताकि पड़ोसी देशों में प्रताड़ित किए जा रहे अल्पसंख्यकों को बिना किसी परेशानी के भारत की नागरिकता मिल सके। मगर न तो इस कानून में और न इसके अंतर्गत बनाए गए नियमों में प्रताड़ना की चर्चा है। नागरिकता प्रदान करने से पहले सम्बन्धित व्यक्ति के लिए यह भी आवश्यक नहीं है कि वह अपनी प्रताड़ना का कोई सुबूत प्रस्तुत करे। CAA के नियमों के अंतर्गत इन तीन देशों के प्रवासियों को केवल अपना धर्म, भारत में प्रवेश करने की तिथि, अपने मूल देश और एक भारतीय भाषा का ज्ञान साबित करना है। यहाँ तक कि मूल देश को प्रमाणित करने संबंधी नियमों को काफी नरम बना दिया गया है। पहले भारत द्वारा जारी वैध निवास परमिट और पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश द्वारा जारी वैध पासपोर्ट नागरिकता हासिल करने के लिए आवश्यक थे। अब इनकी आवश्यकता नहीं है। इसी तरह प्रताड़ना का कोई सुबूत प्रस्तुत करना ज़रूरी नहीं है। पूरी प्रक्रिया को फास्टट्रेक कर दिया गया है।

तर्क यह दिया जा रहा है कि अन्य देशों में प्रताड़ित किये जा रहे मुसलमानों के लिए अनेक देशों के द्वार खुले हैं लेकिन हिन्दू केवल भारत ही आ सकते हैं। यह तर्क ठीक नहीं है। पाकिस्तान में ही हिन्दुओं और ईसाईयों के अलावा अहमदियाओं और कादियानों को भी जमकर प्रताड़ित किया जाता है। जब हम किसी प्रताड़ित समुदाय के लोगों को शरण देने की बात करते हैं तो दरअसल हम मानवता की बात कर रहे होते हैं। पिछले कुछ सालों में जो समुदाय सबसे अधिक प्रताड़ित हुए हैं उनमें श्रीलंका के हिन्दू तमिल और म्यांमार के रोहिंग्या मुसलमान शामिल  हैं। इन दोनों समुदायों को CAA से बाहर क्यों रखा गया है? CAA के पारित होने के समय से ही कई संगठनों और व्यक्तियों ने विभिन्न आधारों पर अदालतों में इसे चुनौतियाँ दी हैं। इन चुनौतियों का मुख्य आधार भारत के संविधान के प्रावधान हैं। ये याचिकाएँ अदालतों में लंबित हैं। हम केवल उम्मीद कर सकते हैं कि इनकी सुनवाई जल्द से जल्द होगी। यह बहुत साफ है कि BJP अपनी विघटनकारी राजनीति के अंतर्गत इस मुद्दे को उठा रही है। पड़ोसी देशों में धार्मिक अल्पसंख्यकों की प्रताड़ना से निपटने का यह तरीका उचित और कारगर नहीं है। यह एक और मुद्दा है जिसका इस्तेमाल मुस्लिम समुदाय को अलग-थलग करने के लिए किया जायेगा। मुसलमान पहले से ही कम परेशानियाँ नहीं झेल रहे हैं। उन्हें नफरत और हिंसा का सामना करना पड़ रहा है।

 

BJP लगातार भावनात्मक और बाँटने वाले मुद्दों को उठाकर चुनावों में जीत हासिल करती आई है। CAA को जिस तरह से लाया गया है उससे मुस्लिम समुदाय स्वयं को और असुरक्षित अनुभव करेगा। चुनाव पर इसका क्या प्रभाव होगा यह अंदाज़ा लगाना मुश्किल नहीं है क्योंकि इसी तरह के मुद्दों का उपयोग BJP साम्प्रदायिक धु्रवीकरण करने के लिए करती आई है। यह सुखद समाचार है कि ममता बेनर्जी और पिनाराई विजयन जैसे मुख्यमंत्रियों ने घोषणा की है कि वे CAA को अपने राज्यों में लागू नहीं होने देंगे। यह आशा की जानी चाहिए कि सामाजिक और राजनीकि स्तर पर हम उस पार्टी से मुकाबला कर पायेंगे जिसका मुख्य लक्ष्य बाँटने वाले मुद्दों को उछालना है। और अगर सुप्रीम कोर्ट इस मामले में अपना निर्णय जल्द से जल्द सुना दे तो इससे अच्छा कुछ हो ही नहीं सकता।

Raj Dharm UP

भगवान बुद्ध की असाधारण जीवन यात्रा के संस्मरणों को प्रदर्शित करेगी योगी सरकार

–उत्तर प्रदेश के बौद्ध विरासत स्थलों के माध्यम से भगवान बुद्ध की स्मृति में ‘द बोधि यात्रा 2024’ का नई दिल्ली में होगा आयोजन -बौद्ध तीर्थयात्रियों को उत्तर प्रदेश में आकर्षित करने की मंशा से एक दिनी इंटरैक्टिव व कल्चरल सेशन का हो रहा है आयोजन -सीएम योगी की मंशा अनुसार उ.प्र पर्यटन विभाग ने […]

Read More
Raj Dharm UP

कृषक उत्पादक सेल गठित करेगी योगी सरकार, मिशन मोड में चलाएगी अभियान

-उत्तर प्रदेश में सक्रिय किसान उत्पादक संगठनों को सुदृढ़ करने और उन्हें ओएनडीसी तथा ई-नाम से जोड़ने की प्रक्रिया को मिलेगी गति -सीएम योगी की मंशा के अनुरूप तैयार की गई विस्तृत कार्ययोजना को किया गया क्रियान्वित, 3 महीने बड़े स्तर पर आयोजित होगा अभियान -एफपीओ को इक्विटी ग्रांट, इनपुट लाइसेंस, बीज लाइसेंस, एनएससी सीड […]

Read More
Raj Dharm UP

‘राष्ट्र प्रेरणा स्थल’ के निर्माण व विकास कार्यों को गति देगी योगी सरकार

-लखनऊ के बसंत कुंज योजना सेक्टर-जे में गोमती नदी किनारे मास्टर प्लान ग्रीन में राष्ट्र प्रेरणा स्थल परियोजना को दिया जाएगा मूर्त रूप -सीएम योगी की मंशा अनुसार परियोजना को पूर्ण करने के लिए विस्तृत कार्ययोजना को क्रियान्वित करने की प्रक्रिया हुई शुरू -लखनऊ विकास प्राधिकरण को दिया गया निर्देश, निर्माण व विकास कार्यों को […]

Read More