किसी भी राजनीतिक दल के साथ ‘दंगल’ के पक्ष में नहीं : महबूबा मुफ्ती

श्रीनगर। पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (PDP) की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने रविवार को कहा कि वह किसी भी राजनीतिक दल के साथ किसी भी तरह का ‘दंगल’ नहीं चाहती हैं। पीपुल्स अलायंस फॉर गुपकर डिक्लेरेशन (पीएजीडी) में दरार का जिक्र करते हुए सुश्री महबूबा ने कहा कि उन्होंने वर्ष 2019 से पहले और उसके बाद भी सभी राजनीतिक दलों को एक साथ लाने की कोशिश की। सुश्री महबूबा ने करीमाबाद के एक प्रमुख सामाजिक कार्यकर्ता मोहम्मद रफीक पंडित के पार्टी में शामिल होने के दौरान मीडियाकर्मियों से कहा, “मुझे कोई दंगल नहीं चाहिए। यह कोई बात नहीं थी कि एक सीट एक या दूसरे को आवंटित की जा सकती थी, यह सिर्फ उन ताकतों के खिलाफ हमारी ताकत का प्रदर्शन था जो हमारी पहचान, भूमि और हमारी नौकरियों को कमजोर करना चाहते हैं।

उन्होंने कहा, कि चुनाव जीतना या हारना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन विरोधियों को दिखाने के लिए जम्मू-कश्मीर के सभी लोगों की संयुक्त आवाज है कि हम अपने अधिकारों के लिए लोकतांत्रिक तरीके से लड़ सकते हैं। जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, ‘…लेकिन दुर्भाग्य से ऐसा नहीं हो सका और मेरा किसी को दोष देने का कोई इरादा नहीं है। उन्होंने कहा, “हमें जम्मू-कश्मीर को बचाना है और अगर कोई नदी में डूबता है तो उसे चुपचाप नहीं देखना चाहिए, बल्कि उसे बचाने के लिए आवाज उठानी चाहिए।

PDP अध्यक्ष ने कहा “मेरी लड़ाई कुर्सी पाने के लिए नहीं है। गांवों और शहरों में कोई घर नहीं है जहां उनके परिजन भारत की जेलों में बंद हैं और उनकी देखभाल करने वाला कोई नहीं है। जम्मू-कश्मीर के लोग काफी पीड़ित हैं। लोग अपने रिश्तेदारों की रिहाई के लिए जम्मू-कश्मीर के बाहर की जेलों में जाने के लिए अपनी जमीन बेच रहे हैं, लेकिन वहां के वकील उनके मामले लेने से इनकार कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि उन्हें उन आरोपों पर जेलों में बंद किया गया है जो अब तक साबित नहीं हुए हैं।कुछ जेलों में, उनकी रिहाई के लिए अदालत के आदेशों के बाद बंदियों का राशन बंद कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर में अधिकारी गहरी नींद में हैं और उन्हें इस बात की कोई चिंता नहीं है कि बाहरी जेलों में बंद किसी को रिहा किया गया है और उसे वापस यहां लाया जा सकता है। उन्होंने आरोप लगाया कि पत्रकार भी खुलकर अपनी बात नहीं रख पा रहे हैं। उन्होंने लोगों से समर्थन मांगा ताकि भारत में असहाय लोगों पर हो रहे अत्याचारों के खिलाफ आवाज उठाई जा सके। (वार्ता)

Litreture National

बुझता दिया तेल की बूंदे पा गया !

के. विक्रम राव  आज (29 मई 2024, बुधवार) मेरे 85 बसंत पूरे हो गए। कई पतझड़ भी। कवि कबीर की पंक्ति सावधान करती है, जब वे माटी से घमंडी कुम्हार को कहलाते हैं : “एक दिन ऐसा आएगा, जब मैं रौंदूगी तोय।” चेतावनी है। मगर आस बंधाती है शायर साहिर की पंक्ति : “रात जितनी […]

Read More
National

ओमान में डिजिटाइज प्रोजेक्ट से भारतीय प्रवासियों के ऐतिहासिक दस्तावेज होंगे संग्रहित

नई दिल्ली। भारतीय प्रवासियों के ऐतिहासिक दस्तावेजों को संग्रहित करने के लिए ओमान की राजधानी मस्कट में पहली डिजिटलीकरण परियोजना शुरू हुई। मस्कट स्थित भारतीय दूतावास ने भारतीय राष्ट्रीय अभिलेखागार (एनएआई) के साथ मिलकर ओमान में भारतीय प्रवासियों की समृद्ध विरासत को संरक्षित करने के लिए यह अभूतपूर्व परियोजना शुरू की है। ‘ओमान संग्रह – […]

Read More
National

शांति रक्षक मेजर राधिका को मिला यूएन अवॉर्ड

शांति रक्षक मेजर राधिका को मिला यूएन अवॉर्ड संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र (यूएन) में भारत की स्थायी प्रतिनिधि रुचिरा कंबोज ने बुधवार को भारतीय संयुक्त राष्ट्र शांति सैनिकों की बहादुरी और समर्पण की प्रशंसा करते हुए वैश्विक शांति एवं सुरक्षा में भारत के उल्लेखनीय योगदान पर प्रकाश डाला। कंबोज ने अंतरराष्ट्रीय संयुक्त राष्ट्र शांति सैनिक […]

Read More