शिव-पार्वती: आदर्श गृहस्थ जीवन के संकेत

  • सती प्रसंग मेंं शिव की भूमिका
  • पार्वती की दृढ़ इच्छा शक्ति

बीके मणि त्रिपाठी

शिव और पार्वती के गृहस्थ जीवन को संकेत कर हमें गृहस्थी के बहुत सारे रहस्य समझा दिया गये। जो हमें जीवन भर काम आएं। शिव की पत्नी सती दक्ष प्रजापति की कन्या थी वह भी बड़ी धूम धाम से हुई। शिव सती बड़े प्रेम से रहते थे। पर ससुर दक्ष दामाद से सम्मान चाहते थे। इसलिए जब ब्रह्म सभा मे उनके आने पर शिव सम्मान के लिए नहीं खड़े हुए,इस पर वे झल्ला गए और बहुत कुछ बुरा भला कहा। यह द्वेष पाले रहे और जब यज्ञ आयोजित किया तो सब बेटी दामादों को बुलाया पर शिव- पार्वती( बेटी -दामाद) को नहीं बुलाया। जब बेटी पिता के घर को अपना समझ कर गई तो शिव (पति) का अपमान उसे बरदाश्त नहीं हुआ। परिणाम स्वरुप योगाग्नि मे भस्म होगई। दक्ष को भी शिव गणो ने दंड दिया। बाद मे सास के अनुनय पर शिव ने बकरे का मस्तक उनके धड़ पर लगाया।

हिमांचल विनम्र थे। पार्वती का विवाह धूम धाम से हुआ। मैना,पार्वती की मां, पहले तो शिव का अघोरी रूप देख घबराई। फिर देवर्षि के समझाने पर शांत हुई तो आजीवन बेटी- दामाद का सम्मान किया। शिव पार्वती की गृहस्थी बिना किसी गतिरोध के प्रेम पूर्वक चली। सती ने राम के वनवास के समय सीता की खोज करते हुए रोते देख जो संशय व्यक्त किया था,उसका निराकरण शिव ने सती के अगले जन्म मे किया। सती ही पार्वती के रूप मे जन्मी थी। यह रहस्य शिव जानते थे। राम कथा सुनने की पार्वती की जिज्ञासा का शिव ने कथा सुना कर शमन किया। बाद मे अनेक ऐसे प्रसंग आए जब देवी पार्वती के दश महाविद्या के रूप मे और अन्नपूर्णा के रूप मे विविध रूप देखने को मिले। मां का सौम्य हो या उग्र रूप सबके लिए आराध्य और मनोकामनायें पूरी करने वाला सिद्ध हुआ।

लोकोपकार के लिए शिव का गरलपान करने और उसे कंठ मे धारण करने के प्रसंग मार्मिक हैं। संतान भी उन्होंने लोकोपकार के लिए ही उत्पन्न किया। षड़ानन और गणेश का अवतरण विशेष प्रयोजन से हुआ। यह सबको विदित है‌। माता पिता की सेवा कर गणेश आदिदेव बने। जो परम बुद्धिमान सिद्ध हुए.. और माता पिता के आशीर्वाद से ऋद्धि- सिद्धि के स्वामी बने। यह आने वाले हर युगों में संतानो के लिए आदर्श है। षडानन देवताओं के सेनापति के रूप मे उग्र थे। पिता से अटस रखते थे। उसके कारण उनकी गृहस्थी नहीं सजी।

Religion

चेतना डेंटल व नंदी इंटरप्राइजेज के भंडारे में उमड़ी भक्तों की भीड़

जेष्ठ माह के अंतिम मंगलवार को आशियाना में जगह जगह लगे भंडारे अधिकांश स्थानों पर सुंदरकांड पाठ के बाद हुआ भंडारा लखनऊ। जेष्ठ माह के अंतिम मंगलवार के अवसर पर आशियाना और आसपास क्षेत्रों में जगह जगह सुंदर कांड पाठ और भंडारे का आयोजन किया गया। इन आयोजनों में श्रद्धालुओ की जमकर भीड़ उमड़ी। बजरंगबली […]

Read More
Analysis Religion

पांच महीने में 2.86 करोड़ भक्तों ने बाबा के दरबार में लगाई हाजिरी

2023 के पांच महीने के सापेक्ष 2024 में लगभग 50 प्रतिशत अधिक भक्त पहुंच दरबार बाबा की आय में भी 33 फीसदी की हुई वृद्धि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था श्री काशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण, 16 जून 2024 तक 16.46 करोड़ से अधिक भक्तों ने बाबा के चौखट पर नवाया शीश योगी सरकार […]

Read More
Religion

श्री जन कल्याणेश्वर मंदिर, सैनिक नगर प्रबंध समिति द्वारा मेधावी छात्र/छात्राओं का सम्मान समारोह

सैनिक नगर, लखनऊ स्थित श्री जन कल्याणेश्वर मंदिर प्रबंध समिति के द्वारा ज्येष्ठ माह के आख़िरी मंगल के शुभ अवसर पर सुंदर काण्ड पाठ के उपरांत 21 मेधावी छात्र/ छात्राओं को उनके उत्कृष्ट परीक्षा परिणाम के लिये प्रशस्ति पत्र व मेडल के साथ सम्मानित किया गया। मंदिर प्रबंध समिति के अध्यक्ष कर्नल आदि शंकर ने […]

Read More