जेल अफसर खा रहे कैदियों की सब्जी!

  • सब्जी खरीद की अनुमति के लिए जेलों से वसूला जा रहा नजराना
  • प्रदेश की करीब एक दर्जन से अधिक नई जेलों में नहीं कृषि भूमि

राकेश यादव

लखनऊ। कारागार विभाग में सब्जी खरीद में भी जमकर गोलमाल किया जा रहा है। जेल अफसरों को पहले सब्जी की खरीद के लिए नजराना देना पड़ता है। फिर खरीदी गई अच्छी सब्जी जेल अफसरों के घरों पर जाती है और बची हुई घटिया सब्जी कैदियों को परोस दी जाती है। दिलचस्प बात यह है कि विभाग में सब्जी खरीद के लिए न कोई मानक निर्धारित किए गए है और न ही इसके कोई दाम निर्धारित किए गए है। हकीकत यह है कि जेल अफसर बंदियों के नाम पर सब्जी की खरीद फरोख्त में प्रतिमाह लाखों के वारे न्यारे कर जेब भरने में जुटे हुए है।

वर्तमान समय में प्रदेश में 74 जेल है। इसमें छह केंद्रीय कारागार और 68 जिला जेल है। केंद्रीय कारागार में सजायाफ्ता कैदी और जिला जेल में विचाराधीन बंदियों को रखा जाता है। मिली जानकारी के मुताबिक प्रदेश की जिन जेलों में कृषि भूमि है। वह जेल बगैर कृषि भूमि वाली जेलों में सब्जी आपूर्ति की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है। इसके तहत कृषि भूमि वाली जेल अपने निकट की जेलों को सब्जी की आपूर्ति करेंगी। नई जेलों के निर्माण के बाद यह व्यवस्था अस्त व्यस्त होकर कागजों में ही सिमट कर रह गई है।

मिली जानकारी के अनुसार प्रदेश की करीब एक दर्जन से अधिक जेल ऐसी है जिसमे कृषि भूमि नहीं है। इन जेलों में सब्जी खरीद करने की अनुमति जेल मुख्यालय प्रदान करता है। सूत्रों का कहना है यह जेलें सब्जी की खरीद में कमाई करने के लिए आसपास की जेलों से सब्जी लेने के बजाए जेल मुख्यालय से सब्जी की खरीद की अनुमति लेकर प्रतिमाह लाखों का गोलमाल कर रहे है। सब्जी खरीद की अनुमति के लिए कृषि प्रभारी अधिकारी जेलों से मोटी रकम वसूल कर अनुमति प्रदान कर रहे है। यही नहीं विभाग में सब्जी खरीद करने का न कोई मानक निर्धारित और न ही सब्जी के दाम तय किए गए है। आलम यह है कि इन गैर कृषि भूमि वाली जेलों में अनाप शनाप दामों में खरीदी गई सब्जी में अच्छी सब्जी जेल अफसरों के घरों पर चली जाती है और घटिया सब्जी कैदियों को परोसी जा रही है।

कृषि अनुभाग की प्रशासनिक अधिकारी को नहीं कोई जानकारी

प्रदेश की कितनी जेलों में कृषि भूमि नहीं है और प्रदेश में कितनी जेलों को सब्जी खरीदने की अनुमति प्रदान की गई है के संबंध में जब मुख्यालय की कृषि प्रभारी अधिकारी प्रतिमा त्रिपाठी से बातचीत की गई तो वह कोई संतोषजनक जवाब देने के बजाय उन्होंने कहा कि यह जिम्मेदारी डीआईजी मुख्यालय की है। सब्जी खरीद के लिए सुविधा शुल्क लिए जाने और खरीद का मानक और दाम तय होने के सवाल पर उन्होंने चुप्पी साध ली। उधर डीआईजी मुख्यालय अरविंद कुमार सिंह ने करीब एक दर्जन जेलों में कृषि भूमि नहीं होने की पुष्टि तो की लेकिन अन्य सवालों के जवाब के लिए कृषि प्रभारी से संपर्क करने की बात कहकर मामले को टाल दिया।

Raj Dharm UP

और तगड़ी होगी सीएम योगी की सुरक्षा व्यवस्था

– मुख्यमंत्री के साथ ही राज्यपाल और अति विशिष्ट लोगों की सुरक्षा को पुख्ता बनाने के लिए अत्याधुनिक उपकरण खरीदेगी यूपी पुलिस – एक करोड़ रुपये से अधिक के उपकरण खरीदेगी यूपी पुलिस, सुरक्षा में इस्तेमाल होंगे 91 नये अत्याधुनिक उपकरण – प्रदेश भ्रमण, रैलियों, धार्मिक स्थलों, कुंभ मेला सहित महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों की सुरक्षा को […]

Read More
Raj Dharm UP

भगवान बुद्ध की असाधारण जीवन यात्रा के संस्मरणों को प्रदर्शित करेगी योगी सरकार

–उत्तर प्रदेश के बौद्ध विरासत स्थलों के माध्यम से भगवान बुद्ध की स्मृति में ‘द बोधि यात्रा 2024’ का नई दिल्ली में होगा आयोजन -बौद्ध तीर्थयात्रियों को उत्तर प्रदेश में आकर्षित करने की मंशा से एक दिनी इंटरैक्टिव व कल्चरल सेशन का हो रहा है आयोजन -सीएम योगी की मंशा अनुसार उ.प्र पर्यटन विभाग ने […]

Read More
Raj Dharm UP

कृषक उत्पादक सेल गठित करेगी योगी सरकार, मिशन मोड में चलाएगी अभियान

-उत्तर प्रदेश में सक्रिय किसान उत्पादक संगठनों को सुदृढ़ करने और उन्हें ओएनडीसी तथा ई-नाम से जोड़ने की प्रक्रिया को मिलेगी गति -सीएम योगी की मंशा के अनुरूप तैयार की गई विस्तृत कार्ययोजना को किया गया क्रियान्वित, 3 महीने बड़े स्तर पर आयोजित होगा अभियान -एफपीओ को इक्विटी ग्रांट, इनपुट लाइसेंस, बीज लाइसेंस, एनएससी सीड […]

Read More