GDP आंकड़े और FPI के रुख से तय होगी बाजार की चाल

मुंबई। विश्व बाजार की तेजी से उत्साहित निवेशकों की लिवाली की बदौलत बीते सप्ताह करीब एक प्रतिशत मजबूत रहे सेंसेक्स और निफ्टी की चाल अगले सप्ताह चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही के सकल घरेलू उत्पाद (GDP), GST, IIP और PMI आंकड़े के साथ ही विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (FPI) के रुख से तय होगी। बीते सप्ताह बीएसई का तीस शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 716.16 अंक अर्थात 0.99 प्रतिशत की छलांग लगाकर सप्ताहांत पर 73142.80 अंक हो गया। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) का निफ्टी 172 अंक यानी 0.8 प्रतिशत उछलकर 22212.80 अंक पर रहा।

समीक्षाधीन सप्ताह में दिग्गज कंपनियों की तरह छोटी कंपनियों में भी लिवाली का जोर रहा। बीएसई का मिडकैप मामूली बढ़त के साथ सप्ताहांत पर 39934.21 अंक पर सपाट रहा। वहीं, स्मॉलकैप 374.17 अंक अर्थात 0.82 प्रतिशत की तेजी के साथ 46033.47 अंक पर पहुंच गया। विश्लेषकों के अनुसार, अगले सप्ताह वित्त वर्ष 2023-24 की दिसंबर में समाप्त हुए तीसरी तिमाही के GDP के आंकड़े आने वाले हैं। साथ ही वस्तु एवं सेवा कर, औद्योगिक उत्पादन के साथ ही विनिर्माण और सेवा क्षेत्र के PMI आंकड़े जारी होने वाले है। इन आंकड़ों का अगले सप्ताह बाजार की चाल निर्धारित करने में अहम भूमिका होगी।

वित्तीय एवं निवेश सलाह देने वाली कंपनी जीओजित फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार डॉ. वी. के. विजयकुमार ने कहा कि हाल ही में FPI की प्रवृत्ति की एक दिलचस्प विशेषता देखने को मिली कि अमेरिका में दस वर्ष के बांड यील्ड में तेजी के बावजूद FPI इक्विटी का निवेश प्रवाह में कमी आई है। आम तौर पर जब अमेरिका में 10-वर्षीय बांड की यील्ड 4.15 प्रतिशत से ऊपर बढ़ जाती है तो FPI भारी बिकवाली करते हैं लेकिन अब ऐसा नहीं हो रहा है। हालांकि DII, HNI और खुदरा निवेशक अब प्रमुख निवेशक हैं और उनकी निरंतर खरीददारी बाजार को नए रिकॉर्ड तक पहुंचा रही है।

FPI ने 23 फरवरी तक केवल 423 करोड़ रुपये की शुद्ध बिकवाली की, जो जनवरी के स्तर से काफी कम है। हालांकि बाजार का लचीलापन अमेरिका में आकर्षक बांड यील्ड के बावजूद FPI को आक्रामक बिकवाली से रोक रहा है। विश्व बाजार के मिलेजुले रुख के बीच स्थानीय स्तर पर दूरसंचार, यूटिलिटीज, कंज्यूमर डयूरेबल्स और सर्विसेज समेत सोलह समूहों में हुई दमदार लिवाली की बदौलत सोमवार को सेंसेक्स 281.52 अंक की तेजी के साथ 72,708.16 अंक और निफ्टी 81.55 अंक मजबूत होकर 22,122.25 अंक पर बंद हुआ। विदेशी बाजार के मिलेजुले रुख के बीच स्थानीय स्तर पर निजी क्षेत्र के HDFC बैंक, एक्सिस बैंक, कोटक बैंक, इंडसइंड बैंक और ICII बैंक की ढाई प्रतिशत से अधिक की तेजी से मंगलवार को सेंसेक्स 349.24 अंक की छलांग लगाकर 73,057.40 अंक और निफ्टी 74.70 अंक की बढ़त लेकर 22,196.95 अंक हो गया।

वहीं विश्व बाजार के मिलेजुले रुख के बीच स्थानीय स्तर पर ऊंचे मूल्य पर हुई मुनाफवासूली के दबाव में बुधवार को सेंसेक्स 434.31 अंक की गिरावट लेकर 72,623.09 अंक और निफ्टी 141.90 अंक टूटकर 22,055.05 अंक पर बंद हुआ। विदेशी बाजारों की तेजी से उत्साहित निवेशकों की स्थानीय स्तर पर हुई चौतरफा लिवाली की बदौलत गुरुवार को सेंसेक्स 535.15 अंक की छलांग लगाकर 73,158.24 अंक और निफ्टी 162.40 अंक की तेजी लेकर 22,217.45 अंक पर बंद हुआ। विश्व बाज़ार के मिलेजुले रुख के बीच स्थानीय स्तर पर एचसीएल टेक, मारुति, एसबीआई, टाटा स्टील और ICII बैंक समेत सत्रह दिग्गज कंपनियों में हुई बिकवाली से शुक्रवार को सेंसेक्स 15.44 अंक उतरकर 73,142.80 अंक और निफ्टी 4.75 अंक फिसलकर 22,212.70 अंक रह गया।(वार्ता)

Business

वरिष्ठ नागरिकों के लिए चुनिंदा श्रेणियों में ब्याज दरों में 60 बेसिस प्‍वॉइंट तक की बढ़ोतरी

  पुणे/मुंबई। देश के सबसे बड़े फाइनेंशियल सर्विसेज ग्रुप में शामिल, बजाज फिनसर्व की सहायक कंपनी बजाज फाइनेंस लिमिटेड ने अपने ज्यादातर अवधि वाले फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) की ब्याज दरों में बढ़ोतरी करने की घोषणा की है। कंपनी ने वरिष्ठ नागरिकों के लिए 25 से 35 महीने की अवधि की FD के लिए ब्याज दरों […]

Read More
Biz News

खुदरा महंगाई और तिमाही नतीजे से तय होगी बाजार की चाल

मुंबई। विश्व बाजार के मिलजुले रुख के बीच स्थानीय स्तर पर हुई लिवाली की बदौलत बीते सप्ताह आधे प्रतिशत से अधिक की तेजी में रहे घरेलू शेयर बाजार की अगले सप्ताह चाल अमेरिकी फेड रिजर्व के ब्याज दरों को लेकर रुख, खुदरा महंगाई और कंपनियों के तिमाही नतीजे से तय होगी। बीते सप्ताह बीएसई का […]

Read More
Business

RBI रेपो रेट स्थिरः डेवलपर्स ने कहा-RBI के फैसले से मार्केट में आएगा बूम

रेपो रेट में फिर बदलाव न होने से रियल एस्टेट सेक्टर ने किया स्वागत डेवलपर्स ने कहा-रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) के इस फैसले से मिलेगा बूस्ट विजय शंकर झा नई दिल्ली। रियल एस्टेट सेक्टर ने रेपो दरों को 6.5 फीसदी पर अपरिवर्तित रखने के भारतीय रिजर्व बैंक के फैसले का स्वागत किया है। इस […]

Read More