फेड के ब्याज दर में कटौती की संभावनाओं पर रहेगी बाजार की नजर

मुंबई । अमेरिका में खुदरा बिक्री में भारी गिरावट आने से जून में ब्याज दरों में कटौती होने की संभावना बढ़ने से विश्व बाजार में आई तेजी से उत्साहित निवेशकों की स्थानीय स्तर पर हुई मजबूत लिवाली की बदौलत बीते सप्ताह एक प्रतिशत से अधिक चढ़े घरेलू शेयर बाजार की अगले सप्ताह नीतिगत दरों को लेकर अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व के रुख पर नजर रहेगी। बीते सप्ताह बीएसई का तीस शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 831.15 अंक अर्थात 1.2 प्रतिशत की छलांग लगाकर सप्ताहांत पर 72 हजार अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर के पार 7242664 अंक पर बंद हुआ। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 258.2 अंक यानी 1.2 प्रतिशत उछलकर 22 हजार अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर से ऊपर 22040.70 अंक पर पहुंच गया।

समीक्षाधीन सप्ताह में दिग्गज कंपनियों की तरह बीएसई की मझौली और छोटी कंपनियों में भी तेजी का रुख रहा। इससे मिडकैप 360.51 अंक अर्थात 0.9 प्रतिशत की मजबूती के साथ 39930.08 अंक हो गया। हालांकि स्मॉलकैप में लिवाली की रफ्तार धीमी रही और वह महज नौ अंक बढ़कर 45659.30 अंक पर रहा।
विश्लेषकों के अनुसार, बैंकिंग क्षेत्र में भारी लिवाली ने सेंसेक्स और निफ्टी को नई ऊंचाइयों की ओर बढ़ने में मदद की, जिससे ऊंचे मूल्यांकन और उच्च विनिमय मार्जिन जरूरतों पर चिंताओं के कारण बीते सप्ताह कारोबार की धीमी शुरुआत हुई। अन्य एशियाई बाजारों के विपरीत अमेरिका के अपेक्षा से कमजोर महंगाई आंकड़ों से उत्साहित सूचकांकों ने अपनी तेजी जारी रखी। अमेरिका में खुदरा बिक्री में गिरावट के कारण फेड रिजर्व के ब्याज दर में कटौती की निवेशकों की उम्मीदों को बल मिला। इसके अलावा यूरोज़ोन में अवस्फीति की प्रवृत्ति और नए साल की छुट्टियों के बाद चीन में खपत बढ़ने की उम्मीद ने बाजार को और समर्थन प्रदान दिया।

उम्मीद के अनुरूप उच्च मांग और अनुकूल आय परिदृश्य के कारण भारतीय ऑटो क्षेत्र के लिए बीता सप्ताह मजबूत रहा। संपत्ति की गुणवत्ता में सुधार और राजकोषीय समझदारी पर सरकार के फोकस से लाभान्वित होकर सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक निवेशकों को आकर्षित कर रहे हैं। दिग्गज कंपनियों में तेजी आई लेकिन मूल्यांकन में अंतर के कारण मिड और स्मॉलकैप में मुनाफावसूली का दबाव रहा। वित्तीय सलाहकार कंपनी जीओजित फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने बताया, “उच्च मूल्यांकन जोखिमों के कारण अगले सप्ताह सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में करेक्शन की संभावना है। इस बीच धातु, एफएमसीजी और कैपिटल गुड्स जैसे क्षेत्रों में मजबूत निर्माण मांग, ऑर्डर बैकलॉग, ग्रामीण पुनरुद्धार की संभावनाओं और भारत के कम होते व्यापार घाटे के कारण गति बढ़ने की उम्मीद है। इसे जिंसों की कीमतों में नरमी और सरकार के नेतृत्व वाली विनिर्माण पहलों से बढ़ावा मिला है।

बीते सप्ताह बाजार में चार दिन तेजी जबकि एक दिन गिरावट का रुख रहा। वैश्विक स्तर के मिश्रित संकेतों के साथ ही घरेलू स्तर पर हुई चौतरफा बिकवाली के दबाव में सोमवार को सेंसेक्स 523 अंक टूटकर 71072.49 अंक और निफ्टी 166.45 अंक गिरकर 21616.05 अंक पर रहा। वहीं, अमेरिका में महंगाई आंकड़े जारी होने से पहले विश्व बाजार के मिलेजुले रूख के बीच स्थानीय स्तर पर ऊर्जा, वित्तीय सेवाएं, बैंकिंग और सेवाएं समेत सत्रह समूहों में हुई लिवाली की बदौलत मंगलवार को सेंसेक्स 482.70 अंक की छलांग लगाकर 71,555.19 अंक और निफ्टी 127.20 अंक चढ़कर 21,743.25 अंक पर बंद हुआ। विश्व बाजार के सकारात्मक रुझान से उत्साहित निवेशकों की स्थानीय स्तर पर तेल एवं गैस, ऊर्जा, यूटिलिटीज, धातु और पावर समेत सत्रह समूहों के 3.61 प्रतिशत तक चढ़ने से बुधवार को सेंसेक्स 267.64 अंक की छलांग लगाकर 71,822.83 अंक और निफ्टी 96.80 अंक की तेजी के साथ 21,840.05 अंक हो गया।

विश्व बाजार के सकारात्मक रुझान से उत्साहित निवेशकों की स्थानीय स्तर पर ऊर्जा, यूटिलिटीज, तेल एवं गैस और पावर समेत अठारह समूहों में हुई दमदार लिवाली की बदौलत गुरुवार को सेंसेक्स 227.55 अंक मजबूत होकर एक सप्ताह बाद 72 हजार अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर के पार पहुंच गया। साथ ही निफ्टी भी 70.70 अंक की तेजी के साथ 21,910.75 अंक पर रहा। इसी तरह अमेरिका में खुदरा बिक्री में भारी गिरावट आने से जून में ब्याज दरों में कटौती होने की संभावना बढ़ने से विश्व बाजार में आई तेजी से उत्साहित निवेशकों की स्थानीय स्तर पर हुई चौतरफा लिवाली की बदौलत शुक्रवार को सेंसेक्स 376.26 अंक की तेजी के साथ 72,426.64 अंक और निफ्टी 129.95 अंक मजबूत होकर 22,040.70 अंक हो गया। (वार्ता)

Business

वरिष्ठ नागरिकों के लिए चुनिंदा श्रेणियों में ब्याज दरों में 60 बेसिस प्‍वॉइंट तक की बढ़ोतरी

  पुणे/मुंबई। देश के सबसे बड़े फाइनेंशियल सर्विसेज ग्रुप में शामिल, बजाज फिनसर्व की सहायक कंपनी बजाज फाइनेंस लिमिटेड ने अपने ज्यादातर अवधि वाले फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) की ब्याज दरों में बढ़ोतरी करने की घोषणा की है। कंपनी ने वरिष्ठ नागरिकों के लिए 25 से 35 महीने की अवधि की FD के लिए ब्याज दरों […]

Read More
Biz News

खुदरा महंगाई और तिमाही नतीजे से तय होगी बाजार की चाल

मुंबई। विश्व बाजार के मिलजुले रुख के बीच स्थानीय स्तर पर हुई लिवाली की बदौलत बीते सप्ताह आधे प्रतिशत से अधिक की तेजी में रहे घरेलू शेयर बाजार की अगले सप्ताह चाल अमेरिकी फेड रिजर्व के ब्याज दरों को लेकर रुख, खुदरा महंगाई और कंपनियों के तिमाही नतीजे से तय होगी। बीते सप्ताह बीएसई का […]

Read More
Business

RBI रेपो रेट स्थिरः डेवलपर्स ने कहा-RBI के फैसले से मार्केट में आएगा बूम

रेपो रेट में फिर बदलाव न होने से रियल एस्टेट सेक्टर ने किया स्वागत डेवलपर्स ने कहा-रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) के इस फैसले से मिलेगा बूस्ट विजय शंकर झा नई दिल्ली। रियल एस्टेट सेक्टर ने रेपो दरों को 6.5 फीसदी पर अपरिवर्तित रखने के भारतीय रिजर्व बैंक के फैसले का स्वागत किया है। इस […]

Read More