DM के नेतृत्व में कृषि वैज्ञानिकों ने निचलौल में गोसदन मधवलिया का किया स्थलीय निरीक्षण

  • उगाए जाएंगे नये प्रजाति के घास, गायों को पूरे साल मिलेगा हरा चारा

उमेश चन्द्र त्रिपाठी

महराजगंज। महराजगंज जिले में गोसदन मधवलिया को स्वावलंबी बनाने और जनपद के गोआश्रय स्थलों को हरे चारे की आपूर्ति सुनिश्चित करने हेतु जिलाधिकारी श्री अनुनय झा ने भारतीय चरागाह एवं चारा अनुसंधान संस्थान झांसी के वैज्ञानिकों के साथ गोसदन मधवलिया का स्थलीय निरीक्षण किया और उनके साथ विस्तृत चर्चा की। जिलाधिकारी ने भारतीय चरागाह एवं चारा अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिकों से गोसदन को चारा उत्पादन में और चारा बीज विकास की दृष्टि से स्वावलंबी बनाने पर विस्तार से चर्चा करते हुए उनके विचारों को सुना। जिलाधिकारी ने मुख्य पशु चिकित्साधिकारी को अनुसंधान केंद्र की स्थापना हेतु जल्द से जल्द प्रस्ताव बनाकर शासन को भेजने का निर्देश दिया। उन्होंने चारा उत्पादन हेतु आवश्यक भूमि को तैयार करने हेतु भूमि संरक्षण अधिकारी को भी डीपीआर भेजने का निर्देश दिया। तत्काल चारा उत्पादन हेतु भूमि की जुताई करने के लिए कृषि विभाग को निर्देशित किया। जिलाधिकारी ने कहा कि सभी आवश्यक कार्य मार्च के अंत तक संबंधित अधिकारी पूर्ण करना सुनिश्चित करें।

इससे पूर्व कृषि वैज्ञानिकों ने बताया कि आरंभिक तौर गोसदन मधवालिया में एमपी चरी,गिनी घास,नेपियर हाइब्रिड,दशरथ घास आदि बहुवर्षीय घास का उत्पादन लगभग 35 एकड़ में किया जाएगा साथ ही शासन द्वारा स्वीकृत होने के उपरांत यहां पर चारा अनुसंधान केंद्र की भी स्थापना होगी, जो पौष्टिक चारे के उत्पादन हेतु शोध का कार्य करेगी। इस हेतु डिप्टी सीवीओ निचलौल और जिला कृषि अधिकारी को आवश्यक प्रशिक्षण हेतु भारतीय चरागाह एवं चारा अनुसंधान संस्थान झांसी भेजा जाएगा। जिलाधिकारी ने कहा कि इससे न सिर्फ गोसदन मधवलिया बल्कि जनपद के अन्य गोआश्रय स्थलों को भी पौष्टिक चारे की आपूर्ति सुनिश्चित हो सकेगी। साथ ही विपरीत ऋतुओं में भी हरे चारे की उपलब्धता को साइलेज के माध्यम से सुनिश्चित किया जा सकेगा।

भारतीय चारागाह एवं चारा अनुसंधान संस्थान झांसी के वैज्ञानिक डॉ अवनींद्र कुमार सिंह ने बताया कि IGFRI झांसी पूरी परियोजना में वैज्ञानिक और तकनीकी सलाहकार का कार्य करेगा। उन्होंने कहा कि गोसदन मधवलिया में न सिर्फ जनपद की चारा आवश्यकता बल्कि सम्पूर्ण पूर्वांचल की चारा आवश्यकता को पूरा करने की क्षमता रखता है। जिला प्रशासन की यह पहल बेहद सराहनीय है और निश्चित जनपद सहित प्रदेश में गो संरक्षण और संवर्द्धन की दिशा में यह मील का पत्थर साबित होगा। बैठक में मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डॉ यूएन सिंह, IGFRI के कृषि वैज्ञानिक डॉ आर.बी. कुमार व डॉ एस.के. सिंह, उपनिदेशक कृषि रामशिष्ट, जिला कृषि अधिकारी वीरेंद्र कुमार, एसडीएम निचलौल मुकेश कुमार सिंह, बीडीओ निचलौल शमा सिंह सहित अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

Central UP homeslider Purvanchal Raj Dharm UP Uttar Pradesh

लो.. जी! जिसका डर था, वो हो गया… UP POLICE  भर्ती परीक्षा निरस्त

अब छह बाद होगी पुलिस भर्ती परीक्षा, निशुल्क बसें उपलब्ध कराएगी सरकार पेपर लीक मामले में जी का जंजाल बनी परीक्षा, सकते में पुलिस विभाग देवेंद्र मिश्र लखनऊ। यूं तो चुनाव के पहले बेरोजगारी के सवाल को पटरी से हर सरकार उतारना चाहती है। उसी तर्ज पर उत्तर प्रदेश में महंत आदित्यनाथ की अगुआई वाली […]

Read More
Central UP Purvanchal Uttar Pradesh

कासगंज में ट्रेक्टरी ट्रॉली के पलटने से 15 श्रद्धालुओं की मौत, कई घायल

कासगंज। उत्तर प्रदेश में कासगंज जिले के थाना पटियाली क्षेत्र में दरियावगंज के पास शनिवार को माघ पूर्णिमा के दिन कादरगंज गंगा घाट पर गंगा स्नान करने जाते हुये श्रद्धालुओं से भरी ट्रेक्टर ट्रॉंली के तालाब में गिरने से 15 श्रद्धालुओं की मौत हो गयी और कई अन्य घायल हो गए। पुलिस सूत्रों के अनुसार […]

Read More
Purvanchal

क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी ने निरंजना होटल को 60 वर्ष के लिए जगदीश गुप्त को सौंपा हस्तांतरण पत्र

उमेश चन्द्र त्रिपाठी सोनौली/महराजगंज। भारत नेपाल बॉर्डर पर स्थित सोनौली कस्बे में राही पर्यटक आवास गृह (निरंजना होटल) को पर्यटन अनुभाग उत्तर प्रदेश शासन द्वारा लुंबिनी विजिट प्राइवेट लिमिटेड को लीज पर दे दिया है। आज शुक्रवार को क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी गोरखपुर रवि कांत मिश्रा ने सोनौली पहुंच कर लुंबिनी विजिट प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक […]

Read More