हम सीनियर सिटिजन हैं,

बलराम कुमार मणि त्रिपाठी

#सीनियर_सिटिजन शब्द आज का आदर सूचक शब्द है। क्यों कि हम वृद्ध कहलाना पसंद नहीं करते। बाल रंगा लें,नया दांत लगवा लें। हृदय की धड़कन चलती रहे अत; रिंग डलवा ले या पेसमेकर लगवा लें। झुर्रियो को ढकने के तरह तरह के रंग रोगन लगा लें। बेहतरीन फोटो अलग अलग पोज मे खिंचा लें। अपने को पार्क मे लेजाकर अन्य हम उम्रों के साथ हा हा हू हू करलें। पर सत्य यही है कि शरीर मे एक तरह से कुछ समय तक बैठ जायं तो गर्दन मे दर्द, तो किसी को शरीर मे पीड़ा होने से उठना बैठना कठिन होरहा। अधिकांश को सायटिका ने जकड़ रखा है‌। पैदल चल नहीं सकते। शुगर के कारण फीकी चाय और खाने मे रोटी साग,लौकी, टमाटर ,नेनुआ आदि ही मिल रहा।

कभी कभी बच्चों की जिद मे दादा जी को समोसा, जलेबी मैगी,मोमो,पिज्जा,बर्गर, पाश्ता आदि पेश किये जारहे। दादा जी सबका मन रखने के लिए एक दो लुक्मा खाकर हंस देते है और बच्चे ताली बजाने लगते हैं। मनोरंजन के ये पल अनमोल होते हैं। दादा और दादी जी वे भाग्यशाली माने जाते है ,जो पैतालिसवीं या उससे अधिक वर्षों की अपने शादी की वर्षगांठ(वेडिंग एनीवर्सरी) मनाते हैं। पचासवीं और उससे अधिक शादी की वर्ष गांठ मनाने वाले तो अतिशय धन्य धन्य है । उन्हें इंसान नही ऊपर ( स्वर्ग) के देवता भी शुभकामना देते हुए गंधर्वों से मंगल गान कराते हैं। एक दूसरे का ख्याल करने वाले सभी बच्चों के लिए अभ्युदय की कामना करने वाले सहज मित्र और निगाहों मे हर पल बेटी -बेटों का फिक्र करने वाले सीनियर सिटिजन जोड़े अब दुर्लभ ही होते जारहे हैं। ऐसे लोगों के लिए ही वैदिक ऋचाओं ने गान करते हुए कहा-

*जीवेम शरद: शतम् श्रृणुयाम शरद: शतम् प्रब्रवाम शरद: शतम् अदीना: स्याम शरद: शतम् भूयश्च शरद: शतात्।

हे प्रभो! हम सो वर्ष तक जियें ( पर रोगी और दीन बिकलांग होकर नहींं) सोवर्ष तक सुनाई पड़े,सो वर्षों तक दिखाई पड़े, सौ वर्षों तक चलते फिरते रहें, बिना किसी के सामने हाथ फैलाये जियें, ऐसा सौ वर्ष तक जीना पड़े तो सौ बार हो… तो हमारे लिए सोभाग्य की बात होगी।

Analysis

आस्था से खिल्ली न करें ! संवेदना से फूहड़पन होगा!!

के. विक्रम राव  मान्य अवधारणा है की दैवी नाम केवल मनुष्यों को ही दिए जाते हैं। मगर सिलिगुड़ी वन्यप्राणी उद्यान में शेर और शेरनी का नाम अकबर और मां सीता पर रख दिया गया। भला ऐसी बेजा हरकत किस इशोपासक को गवारा होगी ? अतः स्वाभाविक है कि सनातन के रक्षक विश्व हिंदू परिषद ने […]

Read More
Analysis

स्मृति शेष : हिंदी के वैश्विक उद्घोषक, बहुत याद आयेंगे अमीन सयानी

संजय तिवारी (21 दिसंबर 1932 – 20 फरवरी 2024) विश्व में हिंदी के लोकप्रिय रेडियो उद्घोषक अमीन सयानी अब नहीं रहे। अपनी आवाज में यादों का सागर छोड़ कर उन्होंने विदा ले ली है। उन्होंने पूरे भारतीय उपमहाद्वीप में प्रसिद्धि और लोकप्रियता हासिल की जब उन्होंने रेडियो सीलोन के प्रसारण पर अपने बिनाका गीतमाला कार्यक्रम […]

Read More
Analysis

गुलजार को मंडित करके विद्यापीठ ऊंचा हो गया!

के. विक्रम राव मुकफ्फा (अनुप्रास) विधा के लिए मशहूर सिख शायर, पाकिस्तान से भारत आए, एक बंगभाषिनी अदाकारा राखी के पति सरदार संपूरण सिंह कालरा उर्फ गुलजार को प्रतिष्ठित पुरस्कार देकर श्रेष्ठ संस्था भारतीय ज्ञानपीठ ने हर कलाप्रेमी को गौरवान्वित किया है। भारतीयों को इस पर नाज है। वस्तुतः हर पुरस्कार गुलजार के पास आते […]

Read More