किताबों के बीच लुभा रहा बच्चों का रंगीला संसार

लखनऊ । नया साहित्य तो अपनी जगह है ही, पुस्तक मेला हर बार बहुत कुछ नया लेकर आता है। इस बार भी बच्चों और नवयुवाओं के लिए यहां बहुत कुछ नयी उपयोगी और प्रेरक सामग्री है। नयी तरह के पोस्टर, कार्ड्स और इस्तेमाल करने के बाद मिट्टी में डालने पर गुलाब के पौधे में बदल जाने वाले पेन और वैज्ञानिक उपकरण बलरामपुर गार्डन में कल से प्रारम्भ हुए पुस्तक मेले में बच्चों के साथ बड़ों को भी आकर्षित कर रहे हैं।

‘ज्ञान कुंभ’ की थीम पर केटी फाउंडेशन और फोर्स वन बुक्स द्वारा मुफ्त प्रवेश वाले बीसवें राष्ट्रीय पुस्तक मेले का आयोजन दो अक्टूबर तक किया जा रहा है। मेले में हर किताब पर कम से कम 10 प्रतिशत की छूट दी जा रही है। मेले में आज दिन शनिवार के दिन सुबह से ही पुस्तक प्रेमी उमड़ने लगे थे। शाम होते-होते पूरे परिवार और बच्चों के संग आने वालों की तादाद भी खूब रही। मेले के लगभग हर स्टाल पर बच्चों की किताबें हैं। प्रकाशन विभाग के स्टाल पर बच्चों की कथाओं की किताबों के संग क्रान्तिकारियों और लोक साहित्य प्रचुर मात्रा में है। हिन्दी संस्थान के स्टाल पर प्रेमचन्द की कहानियों की किताबें बहुत ही कम मूल्य पर उपलब्ध हैं। मुक्ता बुक्स के स्टाल पर विम्पी किड शृंखला की कार्टून और कहानियों के मिले जुले रूप वाली किताबें भी बच्चों को लुभा रही हैं।

लेंस-दूरबीन आदि वैज्ञानिक उपकरणों के साथ ही दिमागी कसरत वाले खिलौने भी बच्चों को भा रहे हैं। बहुत से स्टालों पर कलरिंग बुक जैसी बच्चों की किताबें मात्र 20 रुपये में उपलब्ध हैं। पुस्तक मेले में आज से साहित्यिक आयोजनों का दौर भी आरम्भ हो गया। सुबह से ही कविताओं के स्वर गूंजते रहे। सुबह अनागत साहित्य संस्थान की ओर से पुस्तक लोकार्पण के बाद काव्य समारोह में काव्य रस धार बही तो अपराजिता जज्बा जीत का संस्था की ओर से हुए काव्य समरोह में नये रचनाकारों के संग ही मुकुल महान जैसे स्थापित कवियों ने रचनाएं पढ़ीं। राजकमल प्रकाशन की ओर से मनोज के संयोजन में चले कार्यक्रम में प्रो.सूर्यप्रसाद दीक्षित, डॉ.पवन अग्रवाल, कृष्णाजी श्रीवास्तव, डॉ.योगेशप्रताप सिंह, डॉ.अरविंद मिश्र और गोण्डा के शैलेन्द्रनाथ मिश्र ने विभिन्न साहित्यिक संदर्भों में विचार व्यक्त किये। देर शाम तकी मीर फाउण्डेशन का काव्य समारोह और सम्मान समारोह आयोजित हुआ।

मेले में कुछ स्टाल ऐसे भी हैं जो पहली बार या बहुत समय बाद यहां आए हैं। इनके अलावा दिव्यांश प्रकाशन, राजकमल, वाणी प्रकाशन, भारतीय ज्ञानपीठ, राजपाल, लोकभारती, प्रभात प्रकाशन, हिंद युग्म, सामायिक, सेतु, सम्यक, प्रकाशन संस्थान, प्रकाशन विभाग, केन्द्रीय सूचना एवं प्रसारण विभाग, हिंदी संस्थान आदि के स्टाल प्रमुख होंगे। संगीत नाटक अकादमी नई दिल्ली, रामपुर रज़ा लाइब्रेरी पब्लिशर्स, तिरुमाला, यशिका, एंजेल और कई अन्य प्रकाशक और वितरक भाग ले रहे हैं। पुस्तक विमोचन, लेखक से मिलें, कवि सम्मेलन, मुशायरा जैसे विविध कार्यक्रमों का आयोजन पुस्तक मेला मंच पर नियमित होगा। बच्चों के कार्यक्रम भी होंगे। नेशनल बुक फेयर के सहयोगी रेडियो सिटी, विजय स्टूडियो, बुबचिक, ऑरिजिंस, स्टार टेक्नोलॉजीज, रेट्रोबी, ऑप्टिकुंभ, मैगजीन पार्टनर्स सिटी एसेंस और ट्रेड मित्र हैं।

Purvanchal

देवरिया में खाद्य विभाग की बड़ी कार्यवाही, मचा हड़कंप

देवरिया में खाद्य विभाग की बड़ी कार्यवाही, मचा हड़कंप खाद्य सचल दल की दो टीमों ने चलाया अभियानग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र खाद्य सचल दल ने ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र में कुल पांच नमूने किए एकत्रित नन्हे खान देवरिया । जिलाधिकारी द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुपालन में आज खेसारी दाल के अपमिश्रण में कार्यवाही के […]

Read More
Analysis Central UP

इस माह के अंत तक तैयार हो जाएगा गोरखपुर लिंक एक्सप्रेसवे

इस माह के अंत तक तैयार हो जाएगा गोरखपुर लिंक एक्सप्रेसवे शानदार रोड इंफ्रास्ट्रक्चर की लगातार सौगात दे रही है योगी सरकार * एक्सप्रेसवे का अब तक 97 प्रतिशत से अधिक कार्य पूरा पूर्वांचल एक्सप्रेसवे से कनेक्ट होगा लिंक एक्सप्रेसवे गोरखपुर, 13 जून। उत्तर प्रदेश में रोड कनेक्टिविटी को सुदृढ़ करने पर लगातार काम कर […]

Read More
Purvanchal

नेपाल के तिनाऊ नदी में डूबने से तीन भारतीय पर्यटकों की मौत

नेपाल के तिनाऊ नदी में डूबने से तीन भारतीय पर्यटकों की मौत उमेश चन्द्र त्रिपाठी सोनौली महराजगंज! भारतीय सीमा से सटे नेपाल के रूपंदेही जिले के व्यापारिक महत्व के शहर बुटवल के समीप तिनाऊ नदी में 3 दिन में 3 भारतीय पर्यटकों की डूबने से मौत हो गई। इस संबंध में पाल्पा पुलिस के सूचनाधिकारी […]

Read More