शहर में बुज़ुर्गों की लाठी बनकर वर्षों से बखूबी उनका पदभार संभाल रहा आनंदम सीनियर सिटीजन सेंटर

लखनऊ। जीवन का छठा दशक पूरा कर लेने के बाद व्यक्ति की सबसे अधिक मंशा होती है अपने किसी हमउम्र का साथ पाने की। एक ऐसा हमउम्र जिसके साथ पचपन की इस उम्र को बिता देने के बाद भी बचपन वाला जीवन जीने में कोई संकोच या हिचकिचाहट न हो.. एक ऐसा हमउम्र, जो हमउम्र कम और दोस्त अधिक हो.. एक ऐसा हमउम्र, जिसके सामने अपने मन की बात रखने से पहले कुछ भी सोचना न पड़े.. और सबसे खास बात अपने उस हमउम्र के साथ अपनी दिनचर्या का कुछ हिस्सा हँसी-खुशी बिताने का मौका मिल सके। इन बुज़ुर्गों को अपने हमउम्र का साथ देने के साथ ही उनकी लाठी का पदभार एक दशक से बखूबी संभालता आ रहा है शहर का सबसे अद्भुत डे केयर सेंटर, जो आनंदम सीनियर सिटीजन सेंटर के नाम से मशहूर है। शहर में आनंदम अपनी एक अलग पहचान रखता है, जिसके कई कारण हैं। सिर्फ बुज़ुर्गों तक ही खुद को सीमित रखने से परे आनंदम सभी जरूरतमंदों के चेहरों पर खुशियाँ बिखेरने की चाह रखता है।

दस वर्षों से मजबूत बनी हुई है बुज़ुर्गों की यह लाठी

शहर की जानी-मानी समाजसेवी संस्था, आनंदम सीनियर सिटीजन सेंटर एक या दो नहीं, बल्कि विगत दस वर्षों से समाज के हित में पूर्ण समर्पण की भावना से कार्य करती आ रही है। आनन्दम की स्थापना वर्ष 2013 में वरिष्ठ नागरिकों के कल्याण के लिए की गई थी। आनन्दम के ट्रस्टी श्री हरमिंदर सिंह भाटिया के सानिध्य में फलती-फूलती इस संस्था से 200 से अधिक सदस्य जुड़े हुए हैं, जो प्रतिदिन अपनी दिनचर्या का कुछ समय अपने हमउम्रों के साथ बिताते हैं और विभिन्न गतिविधियों में हिस्सा लेते हैं, जिनमें इनडोर गेम्स आदि शामिल हैं। वहीं अध्यक्ष श्री नरेंद्र सिंह और सचिव श्री एस बी खंडेलवाल निःस्वार्थ भाव और अथक समर्पण से इसका संचालन करते आ रहे हैं।

मालिश देती है जोड़ों के दर्द से राहत

बुज़ुर्ग यदि किसी समस्या से सबसे अधिक ग्रसित रहते हैं, तो वह है जोड़ों की समस्या। परिवार आदि की जिम्मेदारियाँ निभाने और बच्चों को सर्वोत्तम जीवन देने की भागदौड़ के साथ उम्र के इस पड़ाव तक आते-आते जोड़ों की समस्या होना आम बात है, जिसे आनंदम बखूबी समझता है। उन्हें इससे निजात दिलाने के लिए उन्हें सेंटर पर मालिश की सुविधा भी उपलब्ध कराई जाती है, जो कि पूरी तरह निःशुल्क है। हफ्ते में एक दिन इस सुविधा का लाभ सेंटर के सदस्य लेते हैं और जोड़ों की अपनी समस्या से निजात पाते हैं।

मेधावी बालिकाओं को छात्रवृत्ति

आज आनन्दम सिर्फ वरिष्ठ नागरिकों के कल्याण तक ही सीमित नहीं है, इसके द्वारा समाज कल्याण के लिए विभिन्न योजनाओं का कुशलतापूर्वक संचालन हो रहा है। इसमें गरीब वर्ग की मेधावी बालिकाओं की शिक्षा हेतु छात्रवृत्ति की योजना ‘विद्या’ सबसे प्रमुख है। आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों से ताल्लुक करने और वित्तीय संसाधनों की कमी के कारण कई बुद्धिमान और मेधावी बालिकाएँ उचित शिक्षा प्राप्त करने से वंचित रह जाती हैं। उनकी इस आवश्यकता और अपनी सामाजिक जिम्मेदारी को ध्यान में रखते हुए, आनंदम ने 15 जून, 2016 को अपने गर्ल्स स्कॉलरशिप प्रोग्राम ‘विद्या’ की शुरुआत की। आनन्दम की समाज कल्याण की इस फ्लैगशिप योजना के तहत अब तक 535 बालिकाओं को 24.92 लाख रुपए की आर्थिक सहायता दी जा चुकी है। शिक्षा में बालिकाओं के कदम न रुकें, इसके लिए यह पहल भी निरंतर रूप से उनके साथ-साथ चलती रहेगी, जिसको और अधिक विस्तार देने की योजना है।

 

गायन में भी किसी से पीछे नहीं : कई बुज़ुर्गों के पास विशेष प्रतिभा होती है, जिन्हें कभी-भी दुनिया के सामने लाने का मौका ही नहीं मिल पाता। ऐसे में वह उम्र के सबसे महत्वपूर्ण पड़ाव के आने तक भी दबकर कहीं रह जाती है। उनकी इस प्रतिभा को बाहर लाने और खुलकर दुनिया के सामने उसे पेश करने का मौका देता है आनंदम सीनियर सिटिज़न सेंटर। वॉइस ऑफ सीनियर सिटीजन के नाम से प्रसिद्ध यह गायन प्रतियोगिता अपने एक या दो नहीं, बल्कि पाँच सफल संस्करण पूरे कर चुकी है। आनंदम ने इंदौर शहर के 60 वर्ष से अधिक उम्र के वरिष्ठ नागरिकों को अपनी गायन प्रतिभा प्रदर्शित करने के लिए एक मंच प्रदान करने के उद्देश्य से फरवरी, 2018 के महीने में एक अनूठे कार्यक्रम ‘वॉइस ऑफ सीनियर्स’ की नींव रखी। तब से लेकर अब तक हर संस्करण के साथ इसका बोलबाला बढ़ता ही जा रहा है। सरगम कार्यक्रम और भजन कार्यक्रम का आयोजन हर हफ्ते सेंटर में किया जाता है, जिसका सभी सदस्य भरपूर आनंद लेते हैं।

 

स्वास्थ्य है सर्वोपरि : संस्था से जुड़े सदस्यों का स्वास्थ्य हमेशा बेहतर रहे, इसके लिए निश्चित समय अंतराल में हेल्थ चेक-अप्स कराए जाते हैं। इससे न सिर्फ मौजूदा समस्याओं से उन्हें निजात मिलता है, बल्कि स्वास्थ्य को लेकर आत्मविश्वास का सृजन भी होता है।  बेहतर स्वास्थ्य बनाए रखने और उम्र संबंधी विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं की रोकथाम और इलाज के लिए सदस्यों के बीच जागरूकता पैदा करने के लिए समय-समय पर विशेषज्ञ डॉक्टर्स के सेशन आयोजित किए जाते हैं। सेंटर द्वारा विविध हॉस्पिटल्स और खुद आनंदम में विभिन्न निःशुल्क हेल्थ चेक-अप कैम्प्स आयोजित किए जा चुके हैं। साथ ही, डिस्काउंट व्यवस्था के रूप में आनंदम अपोलो, मेदांता, शाल्बी हॉस्पिटल, सीएचएल हॉस्पिटल, सेंटर फॉर साइट, कॉन्टैकेयर आई हॉस्पिटल जैसे सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल्स और डॉ. लाल पैथोलॉजी जैसे प्रतिष्ठित पैथोलॉजी के साथ कुछ अन्य हॉस्पिटल्स के साथ जुड़ा हुआ है।

अन्य गतिविधियों में भी सबसे आगे

आनंदम एक और शानदार पहल कर चुकी है, जिसमें मलिन बस्तियों के बच्चों की प्राथमिक शिक्षा हेतु विशाल प्रगति सोसाइटी को मासिक आर्थिक अनुदान प्रदान किया जाता है। इसके अतिरिक्त अनुभूति विज़न के मल्टी डिसेबिलिटी वाले बच्चों के लिए 10 विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम द्वारा नियमित स्वास्थ्य जाँच को आनंदम द्वारा संचालित किया जाता है। इसके अतिरिक्त, शारदा मठ और जन शिक्षण सेवा संस्थान (एक अखिल भारतीय संस्थान) के सहयोग से, समाज के आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों की 35 वर्ष से कम उम्र की महिलाओं के लिए सिलाई में व्यावसायिक प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किए जा चुके हैं, जिसमें हर चार महीनों में लगभग 40 महिलाओं ने सिलाई में प्रशिक्षण लिया। यह कार्यक्रम 3 वर्षों से अधिक समय तक संचालित हुआ।

National

नेपाली महिला ने कोलकाता में बनवाया फर्जी पासपोर्ट, खुल गया फर्जीवाड़ा

हंगरी जाने के चक्कर में मुंबई एयरपोर्ट पर गिरफ्तार उमेश चन्द्र त्रिपाठी नई दिल्‍ली! विदेश जाने के लिए लोग कई तरह के हथकंडे अपनाते हैं। कोई फर्जी डॉक्‍यूमेंट्स के सहारे किसी देश में घुसना चाहता है तो कोई और जाल बुनता है। नेपाल की एक महिला ने भी विदेश जाने को फर्जी पहचान का सहारा […]

Read More
National

भारत-IORA क्रूज पर्यटन सम्मेलन संपन्न, रोजगार सृजन पर रहा जोर

रोजगार के अवसरों को बढ़ाने से लेकर महिलाओं की भागीदारी मजबूत करने पर हुई चर्चा नई दिल्ली। भारत-आईओआरए क्रूज पर्यटन सम्मेलन शुक्रवार को नई दिल्ली में संपन्न हुआ। दो दिवसीय सम्मेलन में भारत के अलावा हिंद महासागर रिम एसोसिएशन (आईओआरए) के सदस्य देशों के अधिकारियों और विशेषज्ञों ने भाग लिया। विदेश मंत्रालय की ओर से […]

Read More
National

विदेश मंत्रालय के सचिव ने पूर्वी एशिया समिट में लिया हिस्सा

विदेश मंत्रालय के सचिव ने पूर्वी एशिया समिट में लिया हिस्सा नई दिल्ली। विदेश मंत्रालय के सचिव (पूर्व) जयदीप मजूमदार ने 7-8 जून को वियनतियाने, लाओ पीडीआर में पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक (ईएएस एसओएम) और आसियान क्षेत्रीय मंच वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक (एआरएफ एसओएम) में भारत का प्रतिनिधित्व किया। इस दौरान […]

Read More