लाइफ में बैलेंस बनाना चाहती है आलिया भट्ट

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेत्री आलिया भट्ट का कहना है कि वह अपने लाइफ में बैलेंस बनाना चाहती है। आलिया भट्ट ने बताया है कि एक समय ऐसा भी था जब वह काम के लिए अपना फैमिली टाइम और नींद तक के लिए समझौता करने को तैयार थीं। लेकिन, अब वह ऐसा नहीं सोचती हैं। जैसे-जैसे मैंने सिनेमा में एक दशक पार किया, चीजें डेवलप होती गईं।

हालांकि इस दशक में मेरी जिंदगी में काफी बदलाव आया है। मुझे लगता है कि एक समय था जब मैं हर तरह के सेक्रिफाइस करने के लिए तैयार थी। नींद का, अपने परिवार के साथ समय का। उस वक्त मेरे जीवन में बस दो चीजें काम करना और शूटिंग करना थीं। आलिया ने कहा, अब मेरा एक परिवार है…मेरी एक बेटी है। मेरा एक पति है। मुझे ऐसा लगता है कि 10 साल मैंने अपने माता-पिता, अपनी बहन और अपने दोस्तों के साथ नहीं बिताए। लेकिन अब मैं चाहती हूं कि ऐसा कर सकूं।बेशक काम करना कभी न छोड़ें, लेकिन कोशिश करें और लाइफ में बैलेंस लाएं। (वार्ता)

Entertainment

संजय बिश्नोई की फिल्म संतोष का काँस फिल्म फेस्टिवल में हुआ ऑफिसियल सिलेक्शन

एमी-विनिंग  सीरीज़ दिल्ली क्राइम और 12वीं फेल का हिस्सा बनने के बाद, संजय बिश्नोई ने अपने नाम में एक और उपलब्धि जोड़ ली है हालही में चल रहे 77वें कान्स फिल्म फेस्टिवल में उन्हें  भारत का प्रतिनिधित्व करने का मौका मिला। अभिनेता की फिल्म संतोष को अन सर्टन रिगार्ड कैटेगरी  में प्रतिष्ठित मंच पर प्रदर्शित […]

Read More
Entertainment

बात फिल्म इंड्रिस्ट्री के पहले “एंटी-हीरो” अशोक कुमार की….

शाश्वत तिवारी कलकत्ता से वकालत पढ़े अशोक कुमार को फिल्में देखना बहुत पसंद था। वो क्लास के बाद वे अपने दोस्तों के साथ थियेटर चले जाते थे। तब आई हीरो के. एल. सहगल की दो फिल्मों से वे बहुत प्रभावित हुए – ‘पूरण भगत’ (1933) और ‘चंडीदास’ (1934)। वे तत्कालीन बंगाल में आने वाले भागलपुर […]

Read More
Entertainment

पुण्यतिथि पर विशेषः जब नौशाद ने मुगल-ए-आजम का संगीत देने से कर दिया था मना

पांच मई को दुनिया से रुखसत हुए थे, 25 दिसम्बर 1919 को जन्मे थे नौशाद मुंबई। वर्ष 1960 में प्रदर्शित महान शाहकार मुगल-ए-आजम के मधुर संगीत को आज की पीढ़ी भी गुनगुनाती है लेकिन इसके गीत को संगीतबद्ध करने वाले संगीत सम्राट नौशाद ने पहले मुगल-ए-आजम का संगीत निर्देशन करने से इंकार कर दिया था। […]

Read More