अभिजित मुहूर्त 11.45 से 12.45 राहुकाल 02:14 से 03:48 जानें आज का हिन्दू पंचांग

डॉ उमाशंकर मिश्रा


हर दिन कुछ खास लेकर आता है। इस दिन क्या पर्व है और क्या तिथि है, इस बारे में जान लेने से हमें कई फायदे होते हैं। एक दिन के अंदर एक बार राहुकाल आता है, जो हमें कहता है कि इस समय आपको थोड़ी सावधानी बरतनी है। साथ ही पंचाग हमें ये भी बताता है कि आज किस दिशा की ओर दिशाशूल है। यदि हमें मजबूरन यात्रा भी करनी है, तो वह उसका निदान भी बताता है। इसलिए नया लुक आपको नित्य पंचाग देता है, देखिए और लाभ लीजिए।


दिन –                                       गुरूवार

विक्रम संवत –                        2080 (गुजरात – 2079)

शक संवत –                             1945

अयन –                                   उत्तरायण

ऋतु –                                     वसंत ॠतु

मास –                                     वैशाख (गुजरात एवं महाराष्ट्र के अनुसार चैत्र मास)

पक्ष –                                     कृष्ण

तिथि –                                   अष्टमी रात्रि 25:34 तक तत्पश्चात नवमी

नक्षत्र –                                  पूर्वाषाढा सुबह 10:43 तक तत्पश्चात उत्तराषाढा

योग –                                    शिव दोपहर 12:34 तक तत्पश्चात सिद्ध

राहुकाल-                                 दोपहर 14:14 से शाम 15:48 तक

सूर्योदय-                                 06:22

सूर्यास्त-                                 18:55

दिशाशूल-                                दक्षिण दिशा में

व्रत पर्व विवरण –                       शीतलाष्टमी, कालाष्टमी ।

विशेष – अष्टमी को नारियल का फल खाने से बुद्धि का नाश होता है। (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)

Religion

किन-किन राशियों के लिए शुभ है आज का दिन, पढ़ें आज का राशिफल और जानें आज का पंचांग

आज का राशिफल व पंचांगः 24 मई, 2024, शुक्रवार कई राशियों के लिए भाग्योदय लेकर आ रहा है आज का दिन राजेन्द्र गुप्ता, ज्योतिषी और हस्तरेखाविद आज और कल का दिन खास 24 मई 2024 : नारद जयंती / वीणा दान आज। 24 मई 2024 : नौतपा आज से। 24 मई 2024 : राष्ट्र मंडल दिवस […]

Read More
Religion

जानिए देवियों में शक्ति की सबसे उग्र देवी छिन्नमस्ता के बारे में, कब है जयंती, कथा और महत्व

देवी छिन्नमस्ता जयंती, देवी पार्वती का यह सबसे उग्र रूप तंत्र पूजा में सबसे ज्यादा होती है देवी के इस रूप की साधना और आराधना  राजेंद्र गुप्ता हिन्दू धर्म में देवी छिन्नमस्ता तांत्रिक विद्याओं की साधना की देवी मानी जाती हैं। उनका नाम सामने आते हैं, एक शीश (सिर) विहीन देवी का दिव्य स्वरुप आंखों […]

Read More
Religion

परशुराम द्वादशीः एक ऐसा कठोर व्रत जो है बहुत फलदायी

परशुराम द्वादशी आज, जानें पूजा विधि एवं महत्व राजेन्द्र गुप्ता, ज्योतिषी और हस्तरेखाविद हिन्दू पंचांग के अनुसार हर वर्ष वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की द्वादशी तिथि को परशुराम द्वादशी के रूप में मनाया जाता है। इस दिन भगवान विष्णु के छठवें अवतार परशुराम जी की पूजा की जाती है। परशुराम द्वादशी व्रत भगवान विष्णु […]

Read More