जानिए हवन को पूर्ण करने की विधि, क्या होता है दशांश हवन?

जयपुर से राजेंद्र गुप्ता

यदि आप किसी मंत्र का जाप कर रहे हैं या उसे सिद्ध करना चाहते हैं तो आपको यह भी जानना होगा कि किसी भी मंत्र को पूर्ण करने के लिए उसके दशांश हवन की आवश्यकता पड़ती है। हवन करना शास्त्रों में बहुत ही महत्वपूर्ण माना गया है। भारतीय परम्पराओ में हवन अथवा यज्ञ को बहुत महत्व बताया गया है।

दशांश हवन प्रत्येक मंत्रो को सिद्ध करने के बाद किया जाता है। जिसके अंतर्गत मन्त्र जप का दसवा हिस्सा आहुतियों के माद्यम से सिद्ध किया जाता है। मान लीजिये हमने 125000 जप किये है तो हमें कुल के दसवां भाग 12500 जप का हवन करना होता है। इसको समझने के लिए हम तालिका का प्रयोग करेंगे :

क्र. जप संख्या कर्म विधान

1 125000 कुल मंत्र जप

2 125000/10= 12500 हवन आहुतियां

3 12500/10 = 1250 तर्पण

4. 1250/10 = 125 मार्जन

5 125/10 = 12 ब्रह्म या कन्या भोज

दशांश हवन: उपरोक्त दी गई तालिका के माद्यम से हम समझ सकते है कि सपूर्ण दशांश हवन कैसे किया जाये। यदि किसी कारणवश तर्पण ,मार्जन या कन्या भोज में असमर्थ है तो आप उससे दुगना जप करके भी सिद्ध मान सकते है। लेकिन कुछ मतानुसार हवन कर्म करने से देवताओ को शक्ति मिलती है अर्थात मंत्र हवन से अधिक लाभ मिलता है।

दशांश हवन: हवन से पहले हमें सामग्री की आवश्यकता पड़ेगी। सर्वप्रथम सामग्री पर विचार कर लेते है :

कुण्ड : अगर हम जमीन पर बना रहे है तो अति उत्तम माना जाता है। अगर किसी कारण से जमीन पर नहीं बनाया जा सके तो आप किसी भी पात्र का चयन कर सकते है। 12500 आहुतियों के लिए लगभग 2X2 कि लम्बाई चोड़ाई होना चाहिए तथा गहराइ 1.6 इंच लगभग होना चाहिए।\

आसन: कुश का आसन हो तो बहुत ही अच्छा है अन्यथा आप कोई भी ऊनि आसन का प्रयोग कर सकते है।

जलपात्र : आपको ताम्बे का लोटा तथा एक बड़ा पात्र जिसमे 1-2 लीटर पानी आ जाये तर्पण ,मार्जन के लिए आवश्यकता पड़ेगी।

हवन लकड़ी/समिधा : अधिकांशतः आम की लकड़ी का प्रयोग किया जाता है क्योंकि यह आसानी से उपलब्द हो जाता है। शास्त्रों में अन्य लकड़ियों को भी विवरण मिलता है। गृह शांति के लिए गृह अनुसार भी लकड़ी प्रयोग में लाई जाती है। सूर्य: मदार, चन्द्र: पलाश, मंगल : खैर, बुध: चिड़चिड, बृहस्पति: पीपल, शुक्र: गूलर, शनि: शमी, राहु: दूर्वा केतु: कुशा की लकड़ी उपयोगी है।

नारियल गोला/बाटकी: पूर्ण आहुति के लिए नारियल की बाटकी की आवश्यकता पड़ेगी।

हविष्य या आहुति सामग्री: सर्वप्रथम हमें घी लेकर आ जाये। अलग अलग प्रकार के हवन में अलग अलग सामग्री उपयोग में लाई जाती है। सामान्यतः पांच तरह की सामग्री मिलाकर पंचांग धुप बना सकते है : 100 ग्राम तिल, 80 ग्राम मिश्री , 50 ग्राम जों , 25 ग्राम चावल, 25 नारियल बूरा। आप मार्केट से भी सामग्री ला सकते है। लक्ष्मी जी के दशांश हवन के लिए आप सिर्फ कमलगट्टे और घी से भी आहुतियाँ दे सकते है।

सामान्य पंचोपचार पूजन सामग्री। नवग्रह लकड़ी, कपूर,शक्कर,फल ,मेवा आदि।

Religion

चेतना डेंटल व नंदी इंटरप्राइजेज के भंडारे में उमड़ी भक्तों की भीड़

जेष्ठ माह के अंतिम मंगलवार को आशियाना में जगह जगह लगे भंडारे अधिकांश स्थानों पर सुंदरकांड पाठ के बाद हुआ भंडारा लखनऊ। जेष्ठ माह के अंतिम मंगलवार के अवसर पर आशियाना और आसपास क्षेत्रों में जगह जगह सुंदर कांड पाठ और भंडारे का आयोजन किया गया। इन आयोजनों में श्रद्धालुओ की जमकर भीड़ उमड़ी। बजरंगबली […]

Read More
Analysis Religion

पांच महीने में 2.86 करोड़ भक्तों ने बाबा के दरबार में लगाई हाजिरी

2023 के पांच महीने के सापेक्ष 2024 में लगभग 50 प्रतिशत अधिक भक्त पहुंच दरबार बाबा की आय में भी 33 फीसदी की हुई वृद्धि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था श्री काशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण, 16 जून 2024 तक 16.46 करोड़ से अधिक भक्तों ने बाबा के चौखट पर नवाया शीश योगी सरकार […]

Read More
Religion

श्री जन कल्याणेश्वर मंदिर, सैनिक नगर प्रबंध समिति द्वारा मेधावी छात्र/छात्राओं का सम्मान समारोह

सैनिक नगर, लखनऊ स्थित श्री जन कल्याणेश्वर मंदिर प्रबंध समिति के द्वारा ज्येष्ठ माह के आख़िरी मंगल के शुभ अवसर पर सुंदर काण्ड पाठ के उपरांत 21 मेधावी छात्र/ छात्राओं को उनके उत्कृष्ट परीक्षा परिणाम के लिये प्रशस्ति पत्र व मेडल के साथ सम्मानित किया गया। मंदिर प्रबंध समिति के अध्यक्ष कर्नल आदि शंकर ने […]

Read More