एक तरफ ‘स्वार्थ का परिवार’ है तो दूसरी तरफ ‘मोदी का परिवार’: सीएम योगी

  • सीएम ने छत्रपाल सिंह गंगवार व आंवला प्रत्याशी धर्मेंद्र कश्यप के लिए जनसमर्थन की अपील की
  • 2024 का चुनाव मोदी जी के प्रति भारत वासियों के लिए कृतज्ञता ज्ञापित करने का अवसर
  • बरेली, पीलीभीत और बदायूं में प्रबुद्ध सम्मेलन में बिछाई चुनावी बिसात
  • तीनों लोकसभा में नये प्रत्याशियों के समर्थन में मुख्यमंत्री की भव्य जनसभाएं
  • प्रबुद्धजनों को मुख्यमंत्री का निमंत्रण मोदी के प्रतिनिधि बनकर करें मतददाताओं को जागरुक

बरेली। पूरे देश में एक ही आवाज है- फिर एक बार मोदी सरकार, लेकिन यह गूंज अचानक नहीं सुनाई दे रही है। इसके पीछे दस वर्ष तक लगातार की गई मोदी जी की मेहनत है। उन्होंने देश की छवि को वैश्विक मंच पर नई ऊंचाइयों तक पहुंचाने का कार्य किया, इसलिए उनके प्रति कृतज्ञता ज्ञापित करने के लिए भारतवासी एक स्वर में यह वाक्य बोल रहे हैं। मोदी जी के नेतृत्व में भारत विकास की नई बुलंदियों को छू रहा है। 2024 का चुनाव मोदी जी के प्रति भारत वासियों के लिए कृतज्ञता ज्ञापित करने का अवसर है। इस चुनाव में एक तरफ ‘स्वार्थ का परिवार’ है तो दूसरी तरफ ‘मोदी का परिवार’ है। उक्त बातें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहीं। उन्होंने बरेली से भारतीय जनता पार्टी के लोकसभा प्रत्याशी छत्रपाल सिंह गंगवार व आंवला से भाजपा प्रत्याशी धर्मेंद्र कश्यप के समर्थन में मंगलवार को प्रबुद्ध सम्मेलन को संबोधित किया।

सीएम ने कहा कि इस चुनाव में एक तरफ दंगा व कर्फ्यू पॉलिसी देने वाले लोग हैं तो दूसरी तरफ बेहतर सुरक्षा का वातावरण देने वाली मोदी सरकार है। एक तरफ माफियाराज को प्रश्रय देने वाले हैं तो दूसरी तरफ कानून का राज स्थापित करने वाली भाजपा सरकार है। एक तरफ चुनाव में भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने वाले इंडी गठबंधन के लोग हैं तो दूसरी तरफ भ्रष्टाचार पर जीरो टालरेंस की नीति पर कार्य करने वाली मोदी सरकार है। एक तरफ ‘स्वार्थ का परिवार’ है तो दूसरी तरफ 140 करोड़ का ‘मोदी का परिवार’ है। एक तरफ जातिवाद है तो दूसरी तरफ कल्याणकारी योजनाओं के माध्यम से हर गरीब को शासन की योजनाओं का लाभ देने वाले लोग हैं।

रुहेलखंड के प्रबुद्ध सम्मेलन में विपक्षियों पर गरजे सीएम योगी

गरीब कल्याणकारी योजनाओं का कोई सानी नहीं

सीएम ने कहा कि गरीब कल्याणकारी योजनाओं का कोई सानी नहीं है। कृषि सिंचाई योजना, कृषि बीमा योजना, किसान सम्मान निधि के माध्यम से अन्नदाता किसानों के जीवन में व्यापक परिवर्तन हुआ। पीएम स्टार्ट अप, पीएम स्टैंड अप, रोजगार के लिए पीएम विश्वकर्मा योजना चलाई गई। हस्तशिल्पी व कारीगरों के उन्नयन के लिए योजनाएं चलीं। महिलाओं के कल्याण के लिए मातृ वंदना, मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना से लेकर सामूहिक विवाह जैसी योजनाओं के माध्यम से परिवर्तन देखने को मिला है।

विकसित भारत के लिए मोदी जी को तीसरा कार्यकाल देना जरूरी

सीएम ने कहा कि देश-प्रदेश के हर एक क्षेत्र में परिवर्तन हुआ है। मोदी ने विकसित भारत का संकल्प दिया है। विकसित भारत का मतलब हर व्यक्ति के चेहरे पर खुशहाली, हर नौजवान को रोजगार, हर किसान के खेत में पानी, हर व्यापारी को सुरक्षा हो। विकसित भारत ग्लोबल लीडर के रूप में दुनिया को नेतृत्व देने वाला हो। विकसित भारत के लिए तीसरी बार मोदी जी को अवसर दिया जाना है। विकसित भारत के लिए विकसित उप्र, विकसित उप्र के लिए विकसित बरेली और विकसित बरेली के लिए भाजपा आवश्यक है।

सीएम ने संतोष गंगवार की भी तारीफ की

मुख्यमंत्री ने सांसद संतोष गंगवार की तारीफ की। बोले कि लंबे समय तक बरेली ने उनका नेतृत्व देखा है। उनके नेतृत्व में बरेली, प्रदेश व देश में विभिन्न कार्य आगे बढ़े। उनका आशीर्वाद यहां के कार्यकर्ताओं को मिला और मिलेगा। संतोष गंगवार ने अपना आशीर्वाद छत्रपाल गंगवार व धर्मेंद्र कश्यप को दिया है। संतोष गंगवार के नेतृत्व में पूरा बरेली भाजपा के प्रत्याशियों को विजयी बनाने का आकांक्षी है। प्रबुद्ध सम्मेलन में बरेली के सांसद संतोष गंगवार,  प्रदेश सरकार के मंत्री धर्मपाल सिंह, डॉ. अरुण सक्सेना, महापौर उमेश गौतम, जिला पंचायत अध्यक्ष रश्मि पटेल, विधान परिषद सदस्य संतोष सिंह, बरेली से भाजपा प्रत्याशी छत्रपाल सिंह गंगवार,  आंवला से सांसद व भाजपा प्रत्याशी धर्मेंद्र कश्यप विधायक संजीव अग्रवाल, डॉ. डीसी वर्मा, एमपी आर्य, राघवेंद्र शर्मा, श्याम बिहारी लाल आदि मौजूद रहे।

प्रबुद्ध सम्मेलन के बहाने मुख्यमंत्री येागी ने साधे रुहेलखंड के राजनीतिक समीकरण

बरेली जनसभा में सीएम योगी को सुनने उमड़ी भारी भीड़

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन के बहाने रुहेलखंड के राजनीतिक समीकरण साधे। उन्होंने कहा कि अभी और चुनावी सभाएं होंगी, रैलियां निकलेंगी, रोड शो होंगे। लेकिन प्रबुद्ध वर्ग के लोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रतिनिधि बनकर मतदाताओं को जागरुक करें। प्रबुद्ध वर्ग में कोई डाक्टर, शिक्षक, अधिवक्ता, व्यापारी, कारोबारी, सामाजिक संगठनों का नेतृत्व करने वाले लोग हैं। वह सभी लोग मतदाताओं को जागरुक करें। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दस साल में देश को सुरक्षा के साथ समृद्धि तक पहुंचाया है। समाज के सभी वर्गों को लाभान्वित और गौरवान्वित किया है। अब हमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने का मौका मिला है। मतदान के जरिए हम मोदी और देश के प्रति अपनी कृतज्ञता व्यक्त करेंगे।

बदले समीकरणों में सियासी रुख बदल गए मुख्यमंत्री योगी

भाजपा हाईकमान ने पीलीभीत में सांसद वरुण गांधी का टिकट काटकर उत्तर प्रदेश सरकार में पीडब्ल्यूडी मंत्री जितिन प्रसाद को प्रत्याशी बनाया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पीलीभीत में लोकसभा प्रत्याशी जितिन प्रसाद के समर्थन में जनसभा कर उन्हें जिताने की अपील की। इसके बाद मुख्यमंत्री बदायूं पहुंचे। बदायूं में उन्होंने भाजपा के क्षेत्रीय अध्यक्ष और बदायूं लोकसभा के प्रत्याशी दुर्विजय सिंह शाक्य के समर्थन में जनसभा की। इस दौरान मंच पर सांसद संघमित्रा मौर्य भी मौजूद थीं। मुख्यमंत्री योगी के साथ उनकी कैबिनेट के मंत्री धर्मपाल सिंह, डॉक्टर अरुण कुमार, गुलाब देवी, एमएलसी, विधायक और सांसद समेत कई जनप्रतिनिधि थे। मुख्यमंत्री ने बदायूं से दुर्विजय सिंह शाक्य के समर्थन में सियासी हवाओं का रुख बदला। कहा कि सभी लोग एक परिवार की पार्टी के बजाय नेशन फर्स्ट मानने वाली पार्टी को चुने। इसके बाद मुख्यमंत्री ने बरेली इंटर कॉलेज में जनसभा की। यहां उन्होंने पूर्व मंत्री और लोकसभा के प्रत्याशी छत्रपाल गंगवार के समर्थन में प्रबुद्धवर्ग सम्मेलन को संबोधित कर उन्हें जिताने की अपील की।

टिकट की अटकलों पर विराम लगा गये मुख्यमंत्री योगी

मुख्यमंत्री योगी ने बरेली इंटर कॉलेज जनसभा से कहा कि पूर्व केंद्रीय मंत्री और बरेली के सांसद संतोष गंगवार ने 30 साल तक बरेली की जनता की सेवा की। उन्होंने पार्टी और बरेली के प्रति अपने कर्तव्य और उत्तरदायित्वों का अच्छे से निर्वहन किया।  अब उनका आशीर्वाद हम सबको मिल रहा है। उन्होंने लोकसभा प्रत्याशी छत्रपाल गंगवार के लिए कहा कि उन्हें संतोष गंगवार का आशीर्वाद प्राप्त है। छत्रपाल गंगवार को मोदी के प्रतिनिधि बनकर उनके लिए मतदाताओं को जागरूक करें और वोट करें। मंच पर सांसद संतोष गंगवार के साथ छत्रपाल गंगवार का प्रमुखता से जनता के बीच मुख्यमंत्री ने पुरजोर समर्थन कर कई अटकलों पर विराम लगा दिया।

उत्तर प्रदेश का श्रमिक वर्ग अपनी मेहनत और कौशल से प्रदेश के बुनियादी ढांचे के विकास में तो महत्वपूर्ण योगदान देता ही है, साथ ही वह सरकारों के गठन में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन और सीएम योगी के नेतृत्व में श्रमिक वर्ग की इसी ताकत को पहचानते हुए डबल इंजन की सरकार ने श्रमिकों के लिए अनेक योजनाएं बनाईं और हर पात्र व्यक्ति तक उसका लाभ पहुंचाने का प्रयास किया। नतीजा, प्रदेश का श्रमिक वर्ग भाजपा की सरकार का पुरजोर समर्थक बनकर सामने आया। सीएम योगी के सात वर्षों के कार्यकाल में अब तक श्रमिक वर्ग के लिए जो कार्य किए गए हैं, उसे देखते हुए माना जा रहा है कि सीएम योगी ने 80 में 80 का जो संकल्प लिया है, वो श्रमिक वर्ग के समर्थन से पूरा हो सकेगा।

10.5 लाख के करीब श्रमिकों को मिला रोजगार

कोरोना काल के दौरान जब काम धंधे बंद हो गए थे, तब अन्य राज्यों में काम कर रहे यूपी के श्रमिक अपने घरों को लौट आए। तब सीएम योगी ने उन श्रमिकों को न सिर्फ यूपी में ही काम दिलाने का वादा किया, बल्कि उसे पूरा भी किया। करीब 38 लाख श्रमिकों की स्किल मैपिंग का कार्य किया गया, जबकि सेवायोजन पोर्टल पर प्राप्त सूचना के अनुसार कुल 10,47,522 श्रमिकों को रोजगार भी उपलब्ध कराया गया। 9,50,042 श्रमिकों व अभ्यर्थियों को रोजगार मेलों के माध्यम से निजी क्षेत्र में रोजगार प्रदान किया गया। मिशन रोजगार अभियान के अंतर्गत 1,16,28,561 श्रमिक/अभ्यर्थी लाभान्वित हुए, जबकि 58,62,55,304 मानव दिवसों का सृजन किया गया, जिससे उन्हें आजीविका के साधन उपलब्ध हुए। यही नहीं, 2023-24 में माह दिसंबर, 2023 तक कुल 33,070 निर्माण स्थलों का पंजीकरण कराया गया। वहीं, बीओसी बोर्ड के गठन से माह दिसम्बर, 2023 तक कुल 3,66,953 निर्माण स्थलों का पंजीकरण किया गया।

बच्चों की पढ़ाई का बोझ हुआ कम

इतना ही नहीं, उत्तर प्रदेश असंगठित कर्मकार सामाजिक सुरक्षा बोर्ड के अंतर्गत भारत सरकार के ई-श्रम पोर्टल पर उत्तर प्रदेश में  23 जनवरी 2024 तक पंजीकृत कामगारों की संख्या 8,33,25,459 पहुंच गई है। इस मामले में उत्तर प्रदेश देश में प्रथम स्थान पर है। निर्माण श्रमिकों के बच्चों के लिए सरकार ने अटल आवासीय वि‌द्यालयों का शुभारंभ किया है, जहां पर 3 वर्ष से अधिक समय से पंजीकृत श्रमिकों के बच्चों को आवासीय शिक्षा उपलब्ध कराई जा रही है। जल्द ही इसका दूसरा सत्र शुरू होने जा रहा है। इससे श्रमिकों पर से बच्चों की पढ़ाई और उसके खर्च का बोझ भी सरकार ने हल्का कर दिया है। वहीं, बीओसीडब्ल्यू बोर्ड से कुल 1,45,912 अभ्यर्थी लाभान्वित हुए, जिन पर 714.65 करोड़ रुपए का व्यय किया गया। इसके अतिरिक्त श्रमिकों को मुफ्त राशन का भी लाभ मिल रहा है। ये सारे फैक्टर श्रमिक वर्ग को पीएम मोदी, सीएम योगी और भाजपा सरकार के करीब लाने में अहम फैक्टर साबित हो रहे हैं।

Bihar Politics

बंगाल के पहले बिहार में ढहा था वामपंथियों का गढ़

अब तृणमूल कांग्रेस ने बंगाल से कर दिया वामदलों को साफ केरल के अलावा भारत में नहीं बचा लेफ्ट का अस्तित्व पटना। पहले यह राज्य वामपंथियों का अड्ढा हुआ करता था। लेकिन अब इसे दोष लग चुका है। वो दोष हैं सूबे के विभाजन का। बंटवारें के बाद बिहार में हुए लोकसभा चुनाव में वामदल […]

Read More
Politics

दिल्ली का शराब तेलंगाना के कविता को भेजा तिहाड़, देना होगा 10 सवालों का जवाब

BRS के पूर्व मुख्यमंत्री KCR की बिटिया को ED ने किया गिरफ्तार 100 करोड़ रुपये के वसूली का आरोप झेल रही है पूर्व सीएम की बिटिया नया लुक ब्यूरो नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के शराब का असर अब उत्तर से दक्षिण पहुंच गया है। तेलंगाना के पूर्व मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव की बिटिया के.कविता […]

Read More
Maharastra Politics

जलवा दिखाने को तैयार इन भोजपुरी सूरमाओं में किसका चलेगा सिक्का, कौन होगा फेल?

भोजपुरी सिनेमा के ये बड़े स्टार इस बार लोकसभा में दिखा रहे हैं दम बंगाल से BJP ने दिया था टिकट, अब बिहार से लड़ रहे हैं निर्दल चुनाव मुंबई। भोजपुरी सिनेमा के पांच सितारे इस बार के लोकसभा के चुनाव में अपना जलवा बिखेरते नजर आयेंगे। भोजपुरी सिनेमा के जाने माने गायक और सबसे […]

Read More