रितेश पांडे और शिल्पी राज का होली गीत ‘होली में दिलवा करे धक धक’ रिलीज

मुंबई। रितेश पांडे और शिल्पी राज का होली गीत ‘होली में दिलवा करे धक धक’ रिलीज हो गया है। होली गीत ‘होली में दिलवा करे धक धक’ वर्ल्डवाइड रिकॉर्ड्स भोजपुरी के ऑफिसियल यूट्यूब चैनल पर रिलीज किया गया है। इस होली गीत में जीजा-साली की मस्ती और होली का हुड़दंग दिखाया गया है। इसके वीडियो में रितेश पांडे और माही श्रीवास्तव की जीजा-साली की केमिस्ट्री देखने को मिल रही है। निर्माता रत्नाकर कुमार ने कहा कि यह गाना बेहद ही खास है क्योंकि होली आने में बस कुछ ही समय रह गया है।

इस त्योहार के हर कोई भोजपुरी गीत सुनना पसंद करता है इसलिए हम रोजाना एक से बढ़कर एक गाना लेकर आ रहे हैं। गाने को लेकर रितेश पांडे ने कहा कि यह गाना मेरी दिल के बहुत करीब है इसमें जीजा साली की मस्ती को बहुत ही प्यारे तरीके से दर्शाया गया है। वैसे भी होली मेरा पसंदीदा त्योहार है। माही श्रीवास्तव ने कहा कि गाने में परफॉर्म करते समय मैंने खूब रंग खेला है। मुझे रंगीन से खेलना अच्छा लगता है हर तरफ रंग उड़ रहा होता है और लोगों की मस्ती में डूबे रहते हैं ये गाना भी कुछ ऐसा ही है जो आपको होली के रंगों में डूबने को मजबूर कर देंगे।

वर्ल्डवाइड रिकॉर्ड्स प्रस्तुत भोजपुरी होली गीत ‘होली में दिलवा करे धक धक’ के निर्माता रत्नाकर कुमार हैं। इस होली गीत को रितेश पांडे और शिल्पी राज ने गाया है। इस गाने को छोटन मनीष ने लिखा है, जबकि संगीतकार अभिषेक तिवारी हैं। वीडियो डायरेक्टर सुनील बाबा, कोरियोग्राफर गोल्डी जायसवाल, सनी सोनकर, डीओपी गौरव राय, राजन, डिजाइनर बादशाह खान, एडिटर आलोक गुप्ता हैं। मिक्स एवं मास्टर अंकित अहीर, डीआई रोहित सिंह ने किया है। प्रोडक्शन पंकज सोनी का है। इस गाने का ऑल राइट वर्ल्डवाइड रिकॉर्ड्स के पास है। (वार्ता)

Entertainment

संजय बिश्नोई की फिल्म संतोष का काँस फिल्म फेस्टिवल में हुआ ऑफिसियल सिलेक्शन

एमी-विनिंग  सीरीज़ दिल्ली क्राइम और 12वीं फेल का हिस्सा बनने के बाद, संजय बिश्नोई ने अपने नाम में एक और उपलब्धि जोड़ ली है हालही में चल रहे 77वें कान्स फिल्म फेस्टिवल में उन्हें  भारत का प्रतिनिधित्व करने का मौका मिला। अभिनेता की फिल्म संतोष को अन सर्टन रिगार्ड कैटेगरी  में प्रतिष्ठित मंच पर प्रदर्शित […]

Read More
Entertainment

बात फिल्म इंड्रिस्ट्री के पहले “एंटी-हीरो” अशोक कुमार की….

शाश्वत तिवारी कलकत्ता से वकालत पढ़े अशोक कुमार को फिल्में देखना बहुत पसंद था। वो क्लास के बाद वे अपने दोस्तों के साथ थियेटर चले जाते थे। तब आई हीरो के. एल. सहगल की दो फिल्मों से वे बहुत प्रभावित हुए – ‘पूरण भगत’ (1933) और ‘चंडीदास’ (1934)। वे तत्कालीन बंगाल में आने वाले भागलपुर […]

Read More
Entertainment

पुण्यतिथि पर विशेषः जब नौशाद ने मुगल-ए-आजम का संगीत देने से कर दिया था मना

पांच मई को दुनिया से रुखसत हुए थे, 25 दिसम्बर 1919 को जन्मे थे नौशाद मुंबई। वर्ष 1960 में प्रदर्शित महान शाहकार मुगल-ए-आजम के मधुर संगीत को आज की पीढ़ी भी गुनगुनाती है लेकिन इसके गीत को संगीतबद्ध करने वाले संगीत सम्राट नौशाद ने पहले मुगल-ए-आजम का संगीत निर्देशन करने से इंकार कर दिया था। […]

Read More