श्रीमद रामायाण में शूर्पनखा का किरदार निभाना बेहद चुनौतीपूर्ण : संगीता ओडवानी

मुंबई। अभिनेत्री संगीता ओडवानी कहना है कि सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन के शो ‘श्रीमद रामायण’ में शूर्पणखा का किरदार निभाना उनके लिये बेहद चुनौतीपूर्ण रहा। सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन की दिव्य गाथा, ‘श्रीमद रामायण’, भगवान राम, माता सीता और लक्ष्मण के वनवास के दौरान की यात्रा का अनुसरण करती है। शो के एक महत्वपूर्ण अध्याय की ओर बढ़ते हुए, दर्शक अब लंकापति रावण की बहन, शूर्पणखा को देखेंगे, जो भगवान राम और लंकापति रावण के बीच महायुद्ध की जड़ बनेगी। इस किरदार को संगीता ओडवानी ने निभाया है।

संगीता ओडवानी ने कहा, शूर्पणखा का किरदार निभाने के लिए एक गहरे नजरिए की जरूरत होती है जो उसकी सोच में गहराई से उतरता है। यह उसकी दुर्जेय उपस्थिति को गले लगाने के साथ-साथ उसके भयंकर बाहरी स्वरूप के नीचे छिपे दर्द और लालसा को भी उजागर करने के बारे में है। एक कलाकार के रूप में, यह खोज का एक सफर है, जो इस मुश्किल किरदार की परतों को हटाकर उसके भीतर की इन्सानियत को प्रकट करती है, जिससे दर्शकों को उसे सिर्फ एक खलनायक के रूप में नहीं, बल्कि अपने स्वयं के संघर्षों के साथ एक बहुमुखी व्यक्ति के रूप में देखने का मौका मिलता है। श्रीमद रामायण, हर सोमवार से शुक्रवार रात 09 बजे, सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन पर प्रसारित होता है। (वार्ता)

Entertainment

संजय बिश्नोई की फिल्म संतोष का काँस फिल्म फेस्टिवल में हुआ ऑफिसियल सिलेक्शन

एमी-विनिंग  सीरीज़ दिल्ली क्राइम और 12वीं फेल का हिस्सा बनने के बाद, संजय बिश्नोई ने अपने नाम में एक और उपलब्धि जोड़ ली है हालही में चल रहे 77वें कान्स फिल्म फेस्टिवल में उन्हें  भारत का प्रतिनिधित्व करने का मौका मिला। अभिनेता की फिल्म संतोष को अन सर्टन रिगार्ड कैटेगरी  में प्रतिष्ठित मंच पर प्रदर्शित […]

Read More
Entertainment

बात फिल्म इंड्रिस्ट्री के पहले “एंटी-हीरो” अशोक कुमार की….

शाश्वत तिवारी कलकत्ता से वकालत पढ़े अशोक कुमार को फिल्में देखना बहुत पसंद था। वो क्लास के बाद वे अपने दोस्तों के साथ थियेटर चले जाते थे। तब आई हीरो के. एल. सहगल की दो फिल्मों से वे बहुत प्रभावित हुए – ‘पूरण भगत’ (1933) और ‘चंडीदास’ (1934)। वे तत्कालीन बंगाल में आने वाले भागलपुर […]

Read More
Entertainment

पुण्यतिथि पर विशेषः जब नौशाद ने मुगल-ए-आजम का संगीत देने से कर दिया था मना

पांच मई को दुनिया से रुखसत हुए थे, 25 दिसम्बर 1919 को जन्मे थे नौशाद मुंबई। वर्ष 1960 में प्रदर्शित महान शाहकार मुगल-ए-आजम के मधुर संगीत को आज की पीढ़ी भी गुनगुनाती है लेकिन इसके गीत को संगीतबद्ध करने वाले संगीत सम्राट नौशाद ने पहले मुगल-ए-आजम का संगीत निर्देशन करने से इंकार कर दिया था। […]

Read More