प्राचीन कपिलवस्तु से जुड़ी हैं पिपरहवा की जड़ें, खुदाई में मिले थे भगवान बुद्ध के पवित्र अवशेष

शाश्वत तिवारी

राष्ट्रीय राजधानी के राष्ट्रीय संग्रहालय में रखे भगवान बुद्ध के पवित्र अवशेषों को उत्तर प्रदेश के सिद्धार्थनगर जिले के पिपरहवा से खुदाई के दौरान प्राप्त किया गया था। पिपरहवा को प्राचीन शहर कपिलवस्तु का ही एक हिस्सा माना जाता है। पिपरहवा का टीला प्राचीन कपिलवस्तु से इसकी पहचान कराने का रहस्य उजागर करता है। 1898 में इस स्तूप स्थल पर एक ब्रिटिश औपनिवेशिक इंजीनियर विलियम क्लैक्सटन पेप्पे (1852-1936 ई.) द्वारा एक ताबूत की खोज एक युगांतकारी खोज थी। इसके ढक्कन पर शिलालेख मिला था, जो बुद्ध और उनके शाक्य समुदाय के अवशेषों को संदर्भित करता है। उस पर लिखा है, ‘सुकिति भातिनं सा-भगिनिकां सा-पुता-दलनम इयाल सलिला निधारे भद्धसा भगवते शाकियानं’, जिसका अर्थ है ‘बुद्ध के अवशेषों को जमा करने का यह नेक काम’ शाक्यों के भाइयों, बहनों और बच्चों द्वारा किया गया है।

इस खोज के बाद कई अन्वेषण हुए। स्तूप की एक और खुदाई आंशिक रूप से पेप्पे द्वारा और आंशिक रूप से भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (1971-77) द्वारा की गई। इस दौरान निर्माण के तीन चरणों का पता चला और स्टीटाइट अवशेष ताबूत भी सामने आए, जिनमें से प्रत्येक उत्तरी और दक्षिणी कक्ष से है, जिसमें कुल 22 पवित्र अस्थि अवशेष (बड़े ताबूत से 12 पवित्र अवशेष और छोटे ताबूत से 10 पवित्र अवशेष) शामिल हैं। 20 पवित्र अस्थि के टुकड़े राष्ट्रीय संग्रहालय, नई दिल्ली में रखे गए हैं, जबकि शेष दो पवित्र अस्थि टुकड़े भारतीय संग्रहालय, कोलकाता में प्रदर्शित हैं।

इसके बाद पिपरहवा के पूर्वी मठ में विभिन्न स्तरों और स्थानों से 40 से अधिक टेराकोटा मोहरों की खोज हुई, जिनमें से एक मोहर पर लिखा है, ‘ओम देवपुत्र विहारे कपिलवस्तु भिक्षु संघ्सा।’ इसका अर्थ है, ‘देवपुत्र विहार में रहने वाला कपिलवस्तु के बौद्ध भिक्षुओं का समुदाय’। उत्तर प्रदेश पर्यटन के अनुसार, यहां देवपुत्र का आशय कनिष्क से है, जो बौद्ध धर्म के महान प्रचारक थे और जिसने कपिलवस्तु में सबसे विशाल विहार का निर्माण करवाया था और वहां स्थित स्तूप का पुनर्निर्माण भी कराया। इससे यह भी निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि प्राचीन कपिलवस्तु नगर उस स्तूप और विहार के निकट ही स्थित होगा। इसके अलावा पहली और दूसरी शताब्दी ईस्वी के ब्राह्मी चरित्र में ‘महा कपिलवस्तु भिक्षु समुदाय’ ने यह स्थापित करने के लिए पर्याप्त सबूत प्रदान किए हैं कि पिपरहवा प्राचीन कपिलवस्तु में ही स्थित था।

International

भारत के सहयोग से नेपाल में बने 3 स्कूलों का उद्घाटन

भारत के सहयोग से नेपाल में बने 3 स्कूलों का उद्घाटन नई दिल्ली। भारत की वित्तीय सहायता से बीते सप्ताह नेपाल के तीन अलग-अलग स्थानों पर 3 स्कूल भवनों का उद्घाटन हुआ। ‘नेपाल-भारत विकास सहयोग’ के तहत निर्मित इन स्कूल भवनों का उद्घाटन भारतीय दूतावास के अधिकारियों ने स्थानीय नेताओं के साथ संयुक्त रूप से […]

Read More
International

नेपाल जाने वाले वाहनों में फिर चलने लगा कटिंग का खेल

हाफने लगा नौतनवा सोनौली मार्ग, लग रहा है लंबा-लंबा जाम पुलिस एवं उनके दलालों के मिली भगत से शुरू हो गया है कटिंग का कार्य देवांश जायसवाल महराजगंज। नेपाल जाने वाले भारी वाहनों की लंबी कतार और उसके धूएं आस पास के नागरिकों के लिए मुसीबत बने हुए हैं। इसी के साथ पुलिस की मदद […]

Read More
International

नेपाल के डांग जिले में भारत की आर्थिक सहायता से दो स्कूल का उद्घाटन

काठमांडू। भारत सरकार की वित्तीय सहायता से नेपाल के डांग जिले में दो स्कूल भवनों का उद्घाटन किया गया। काठमांडू स्थित भारतीय दूतावास के अनुसार, हाल ही में डांग के लमही नगरपालिका क्षेत्र में श्री बाल जनता माध्यमिक विद्यालय और डांग के घोराही उप महानगरीय शहर में श्री पद्मोदय पब्लिक मॉडल सेकेंडरी स्कूल भवन का […]

Read More