सीता अष्टमी आज है, जानिए पूजा विधि व महत्व…

जयपुर से राजेंद्र गुप्ता

फाल्गुन मास की अष्टमी तिथि को माता सीता का प्राकट्य हुआ था, हालांकि कुछ जगहों पर वैशाख मास की नवमी तिथि को जानकी नवमी के दिन माता सीता की सही जन्म तिथि मानते हैं। फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को माता सीता पृथ्वी पर प्रकट हुई थीं। इस बार यह शुभ तिथि चार मार्च के दिन है। इस तिथि को जानकी जंयती या सीता अष्टमी के नाम से भी जाना जाता है।

वहीं कई जगहों पर वैशाख मास की नवमी तिथि को देवी सीता की जन्मतिथि मानते हैं, जिसे जानकी नवमी या सीता नवमी के नाम से जाना जाता है। माता सीता के कारण ही भगवान राम मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम बने थे। माता सीता मिथिला के राजा जनक की पुत्री थीं इसलिए उनको जानकी भी कहा जाता है। इसलिए रामायण में माता सीता को जानकी कहकर संबोधित किया गया है।

सीता अष्टमी की पूजा विधि

सीता अष्टमी के व्रत में माता सीता के साथ भगवान राम की भी पूजा की जाती है और उनका ध्यान करते हुए व्रत का संकल्प किया जाता है। पूजा से भगवान गणेश और माता दुर्गा की पूजा करें। इसके बाद लाल चौकी पर लाल कपड़ा बिछाकर माता सीता के साथ भगवान राम की मूर्ति या तस्वीर स्थापित करें। इसके बाद माता सीता को सिंदूर, अक्षत, फूल, फल आदि समेत सुहाग का सामान अर्पित किया जाता है। माता सीता का लाल या पीले रंग की चीजें अर्पित की जाती हैं। इसके बाद माता देवी सीता की आरती उतारें। फिर इस मंत्र ‘ॐ जनकनंदिन्यै विद्महे, भुमिजायै धीमहि, तन्नो सीता: प्रचोदयात्’ का 108 बार जप करें। सीता जंयती की पूजा में सर्व धान्य (जौ-चावल आदि) समेत हवन किया जाता है और खीर, पुए और गुड़ से बने पारंपरिक व्यंजनों का नैवेघ अर्पण किया जाता है। माता सीता की पूजा करने के बाद सुहाग के सामान को किसी सुहागिन महिला को दान में दे दें। फिर शाम के समय पूजा करने के बाद माता सीता को चढ़ाए गई चीजों से व्रत खोलें।

सीता अष्टमी का महत्व

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, गुरु वशिष्ठजी के कहने पर भगवान राम ने समुद्र तट की तपोमय भूमि पर बैठकर यह व्रत किया था। यह व्रत अभीष्ट सिद्धि के लिए किया जाता है। इस व्रत को करने से माता सीता के साथ भगवान राम का आशीर्वाद मिलता है और सभी इच्छाएं पूरी होती हैं। माता सीता को माता लक्ष्मी का अवतार माना गया है, जिनका विवाह विष्णु अवतार भगवान राम से हुआ था। सीता जयंती पर प्रभु श्रीराम और लक्ष्मी स्वरूपा देवी सीता की पूजा करने से व्यक्ति को जीवन में कभी किसी चीज की कमी नहीं होती और सारे कष्ट दूर हो जाते हैं।

Religion

चेतना डेंटल व नंदी इंटरप्राइजेज के भंडारे में उमड़ी भक्तों की भीड़

जेष्ठ माह के अंतिम मंगलवार को आशियाना में जगह जगह लगे भंडारे अधिकांश स्थानों पर सुंदरकांड पाठ के बाद हुआ भंडारा लखनऊ। जेष्ठ माह के अंतिम मंगलवार के अवसर पर आशियाना और आसपास क्षेत्रों में जगह जगह सुंदर कांड पाठ और भंडारे का आयोजन किया गया। इन आयोजनों में श्रद्धालुओ की जमकर भीड़ उमड़ी। बजरंगबली […]

Read More
Analysis Religion

पांच महीने में 2.86 करोड़ भक्तों ने बाबा के दरबार में लगाई हाजिरी

2023 के पांच महीने के सापेक्ष 2024 में लगभग 50 प्रतिशत अधिक भक्त पहुंच दरबार बाबा की आय में भी 33 फीसदी की हुई वृद्धि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था श्री काशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण, 16 जून 2024 तक 16.46 करोड़ से अधिक भक्तों ने बाबा के चौखट पर नवाया शीश योगी सरकार […]

Read More
Religion

श्री जन कल्याणेश्वर मंदिर, सैनिक नगर प्रबंध समिति द्वारा मेधावी छात्र/छात्राओं का सम्मान समारोह

सैनिक नगर, लखनऊ स्थित श्री जन कल्याणेश्वर मंदिर प्रबंध समिति के द्वारा ज्येष्ठ माह के आख़िरी मंगल के शुभ अवसर पर सुंदर काण्ड पाठ के उपरांत 21 मेधावी छात्र/ छात्राओं को उनके उत्कृष्ट परीक्षा परिणाम के लिये प्रशस्ति पत्र व मेडल के साथ सम्मानित किया गया। मंदिर प्रबंध समिति के अध्यक्ष कर्नल आदि शंकर ने […]

Read More