मुंबई की शाम, पुष्पाजी के नाम! व्यास सम्मान समारोह पर!!

के. विक्रम राव 

मुंबई में डॉ. पुष्पा भारती को जब व्यास सम्मान से कल (11 फरवरी 2024) नवाजा गया तो कई यादें फिर उकेरी गईं, उकेली भी। ठीक उनकी पुरस्कृत रचना “यादें, यादें, यादें” की भांति। उपलक्ष्य और उपलब्धि में बड़ा तालमेल रहा। जब केके बिडला फाउंडेशन के निदेशक सुरेश रितुपर्ण डॉ. पुष्पा भाभी को प्रदत्त पुरस्कार का घोषणापत्र पढ़ रहे थे तो करतल ध्वनि से साधुवाद देने वालों में समूची महानगरी के बुद्धिकर्मी समुदाय के प्रतिनिधि भरपूर थे। इल्मी भी, फिल्मी भी। मेहमाने खसूसी थे शायर और फिल्म निदेशक गुलजार।

जो वक्तागण थे प्रतीत होता था वे सारे ऋषि व्यास के बजाय माँ वाणी के असर में थे। मसलन “टाइम्स आफ इंडिया” में मेरे साथी रहे (अधुना संपादक “नवनीत”) भाई विश्वनाथ सचदेव ने डॉ. पुष्पाजी की रचनाशीलता को बड़ा आग्रही बताया। स्व. गणेश मंत्री को मिलाकर हम तीनों “भारती युग” की उपज हैं। अतुल तिवारी की कमेंटरी का जवाब नहीं था। संस्थायें चौपाल और के. के. फाउंडेशन का विशेष आभार कि हमें यह अवसर दिया। पुष्पाजी सपरिवार आईं थीं। बस कमी खली तो स्व. डॉ. धर्मवीर भारतीजी की। उनके हर्ष का अंदाज लगाया जा सकता है। वे जहां भी हों, प्रमुदित तो हुये होंगे ही। लखनऊ से मुंबई आना मेरा सार्थक रहा। हिंदी में लिखने हेतु मुझ तेलगुभाषी, अंग्रेजी भाषायी पत्रकार को प्रेरित करनेवाले डॉ. धर्मवीर भारती को सलाम!

Analysis

स्मृति शेष : हिंदी के वैश्विक उद्घोषक, बहुत याद आयेंगे अमीन सयानी

संजय तिवारी (21 दिसंबर 1932 – 20 फरवरी 2024) विश्व में हिंदी के लोकप्रिय रेडियो उद्घोषक अमीन सयानी अब नहीं रहे। अपनी आवाज में यादों का सागर छोड़ कर उन्होंने विदा ले ली है। उन्होंने पूरे भारतीय उपमहाद्वीप में प्रसिद्धि और लोकप्रियता हासिल की जब उन्होंने रेडियो सीलोन के प्रसारण पर अपने बिनाका गीतमाला कार्यक्रम […]

Read More
Analysis

गुलजार को मंडित करके विद्यापीठ ऊंचा हो गया!

के. विक्रम राव मुकफ्फा (अनुप्रास) विधा के लिए मशहूर सिख शायर, पाकिस्तान से भारत आए, एक बंगभाषिनी अदाकारा राखी के पति सरदार संपूरण सिंह कालरा उर्फ गुलजार को प्रतिष्ठित पुरस्कार देकर श्रेष्ठ संस्था भारतीय ज्ञानपीठ ने हर कलाप्रेमी को गौरवान्वित किया है। भारतीयों को इस पर नाज है। वस्तुतः हर पुरस्कार गुलजार के पास आते […]

Read More
Analysis

पित्सा, पराठा और हम! विश्व खाद्य दिवस पर!!

कल (9 फरवरी 2024) विश्व पित्सा दिवस था। पित्सा अथवा पिज़्ज़ा यूरोपियन आत्मबंधु है पराठे का। इटली में जन्मा यह पराठा कर्नाटक के सागरतट पर अवतरित हुआ था। भले ही दोनों में दूरी हजारों मीलों की हो, पर साम्य बहुत है। इतिहास भी सदियों पुराना। एक समानता है दोनों में। भारत में बनने वाले पित्सा […]

Read More