ऑस्ट्रेलिया में शुरू हुआ “हिंद महासागर” सम्मेलन

शाश्वत तिवारी

हिंद महासागर सम्मेलन का 7वां संस्करण ऑस्ट्रेलिया के पर्थ में शुरू हुआ, जिसमें भारत की ओर से विदेश मंत्री डॉ. एस. जयशंकर शामिल होंगे। दो दिवसीय सम्मेलन के इस संस्करण का विषय ‘एक स्थिर और सतत हिंद महासागर की ओर’ है। विदेश मंत्री जयशंकर सम्मेलन के उद्घाटन सत्र को संबोधित करेंगे। विदेश मंत्रालय ने एक आधिकारिक बयान में कहा सम्मेलन में 22 से अधिक देशों के मंत्रियों और 16 देशों के वरिष्ठ अधिकारियों के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल शामिल होंगे। इसके अलावा 6 बहुपक्षीय संगठनों के प्रतिनिधि भी इसका हिस्सा बनेंगे।

मंत्रालय के अनुसार, सिंगापुर में 2016 में अपनी शुरुआत के बाद से पिछले कुछ वर्षों के दौरान सम्मेलन ने क्षेत्र में सभी के लिए सुरक्षा और विकास (सागर) के उद्देश्य से क्षेत्रीय सहयोग की संभावनाओं पर विचार-विमर्श करने के लिए क्षेत्र के देशों तथा प्रमुख समुद्री भागीदारों को एक आम मंच पर लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। यह सम्मेलन हिंद महासागर क्षेत्र के देशों के लिए एक प्रमुख परामर्शदात्री मंच है, जो भारत फाउंडेशन के सहयोग से विदेश मंत्रालय द्वारा प्रतिवर्ष आयोजित किया जाता है। सम्मेलन क्षेत्र के महत्वपूर्ण देशों और प्रमुख समुद्री भागीदारों को एक साथ लाने की दिशा में काम करता है, ताकि क्षेत्र में सभी की सुरक्षा और विकास के लिए सहयोग की संभावनाओं पर विचार-विमर्श किया जा सके। लिहाजा पिछले कुछ वर्षों से ‘सर्व-समावेशी विकास’ तथा ‘क्षेत्र में सभी की सुरक्षा और विकास’ भारत की कूटनीति का प्रमुख हिस्सा रहा है, इसलिए सम्मेलन में भारत की भूमिका काफी बढ़ जाती है।

वहीं दूसरी ओर यह क्षेत्र व्यापारिक और रणनीतिक तौर पर भी भारत के लिए काफी अहम है, इसलिए भारत हिंद महासागर क्षेत्र के साथ ही हिंद-प्रशांत (इंडो-पैसिफिक) क्षेत्र पर भी अपनी पकड़ लगातार मजबूत कर रहा है, जिसे वह एक मुक्त, खुले और समावेशी क्षेत्र के तौर पर देखता है। भारत की लगातार कोशिश है कि इन क्षेत्रों में एक ऐसा माहौल बना रहे, जिससे कोई भी देश अपने आक्रामक रवैये के जरिए विस्तारवादी मंशा को पूरा न कर पाए। चूंकि हिंद महासागर क्षेत्र इंडो-पैसिफिक में अधिक भू-रणनीतिक महत्व रखता है, इसलिए भारत नेतृत्व की स्थिति बनाए रखने के लिए अपनी भागीदारी बढ़ा रहा है। भारत के व्यापार का लगभग 50 प्रतिशत हिस्सा हिंद-प्रशांत क्षेत्र में केंद्रित है, वहीं हिंद महासागर के माध्यम से भारत न केवल अपना अधिकतर कारोबार करता है, बल्कि यह उसके लिए प्रमुख ऊर्जा स्रोत भी है।

Health homeslider International

दुनिया के सबसे विकसित देश में बढ़ रही है खतरनाक बीमारी, जानकर चौंक जाएंगे आप!

भारत से ज्यादा अमेरिका में बढ़ रहे हैं यौन रोगी, करीब 20 फीसदी को हुआ रोग वहीं भारत में हर साल केवल 2.5 प्रतिशत लोग होते हैं यौन रोग से ग्रसित विलियमसन रे के साथ आशीष द्विवेदी वाशिंगटन। ये खबर पढ़कर आप चौंक जाएंगे। खबर उस देश की है जो दुनिया का सबसे विकसित देश […]

Read More
homeslider International

भारत-डेनमार्क के बीच गतिशीलता एवं प्रवासन साझेदारी समझौता

शाश्वत तिवारी भारत और डेनमार्क ने गुरुवार को गतिशीलता एवं प्रवासन साझेदारी समझौते पर हस्ताक्षर किए। भारत पहुंचे डेनमार्क के विदेश मंत्री लार्स लोके रासमुसेन ने विदेश मंत्री डॉ. एस. जयशंकर के साथ बैठक की और समझौते पर हस्ताक्षर किए। इस दौरान दोनों नेताओं ने आपसी हित के द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर विचारों […]

Read More
International

रायसीना डायलॉग के 9वें संस्करण का समापन

शाश्वत तिवारी राष्ट्रीय राजधानी में आयोजित तीन दिवसीय रायसीना डायलॉग के नौवें संस्करण का शुक्रवार को समापन हुआ, जिसमें 100 से अधिक देशों के करीब 2500 प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया। संवाद में उन मुद्दों पर चर्चा हुई, जो विश्व व्यवस्था को नया आकार दे रहे हैं। अंतिम दिन आयोजित विभिन्‍न सत्रों में नवाचार, बहुपक्षवाद, बहुलवाद […]

Read More