देश के तटीय और अपतटीय हितों की रक्षा की प्रतिबद्धता का जश्न: भारतीय तटरक्षक दिवस आज,

जयपुर से राजेंद्र गुप्ता

भारतीय तटरक्षक दिवस, हर साल एक फरवरी को मनाया जाता है, जो 1977 में भारतीय तटरक्षक (ICG) की स्थापना की याद दिलाता है। यह दिन समुद्री सुरक्षा, सुरक्षा और भारत के तटीय और अपतटीय हितों की रक्षा के लिए ICG की अटूट प्रतिबद्धता का जश्न मनाता है।

भारतीय तटरक्षक दिवस की थीम

भारतीय तटरक्षक दिवस 2024 की आधिकारिक थीम अभी तक घोषित नहीं की गई है। हालाँकि, तकनीकी प्रगति पर ICG के हालिया फोकस और सेवा, सुरक्षा और सुरक्षा के प्रति इसकी प्रतिबद्धता के आधार पर, तटरक्षक दिवस 2024 के लिए एक संभावित विषय हो सकता है। यह विषय अपने विविध समुद्री मिशनों को पूरा करने में अपनी क्षमताओं और प्रभावशीलता को बढ़ाने के लिए तकनीकी प्रगति को अपनाने के लिए ICG के समर्पण को उजागर करेगा। यह भारत के समुद्री हितों की रक्षा करने और वीरता और समर्पण के साथ राष्ट्र की सेवा करने के लिए संगठन की अटूट प्रतिबद्धता पर भी जोर देगा।

भारतीय तटरक्षक दिवस के उद्देश्य

ICG की विरासत का सम्मान : यह दिन ICG के समृद्ध इतिहास और भारत की समुद्री सीमाओं की सुरक्षा के प्रति उसके समर्पण का सम्मान करता है।

जागरूकता बढ़ाना : इस दिन का उद्देश्य समुद्री सुरक्षा, सुरक्षा और पर्यावरण संरक्षण में ICG की विविध भूमिकाओं और जिम्मेदारियों के बारे में सार्वजनिक जागरूकता बढ़ाना है।

भावी पीढ़ियों को प्रेरित करना : यह दिन भावी पीढ़ियों को ICG में करियर पर विचार करने और देश की समुद्री सुरक्षा में योगदान देने के लिए प्रेरित करता है।

ये भी पढ़ें

रत्न पहनते समय बिल्कुल भी न करें ये गलतियां, वरना पड़ेगा उल्टा असर

भारतीय तटरक्षक दिवस का इतिहास

भारतीय तटरक्षक (ICG) एक महत्वपूर्ण शक्ति है जो भारत की समुद्री सीमाओं की सुरक्षा करती है। इसका इतिहास स्वतंत्रता-पूर्व युग से जुड़ा है, जो समय के साथ राष्ट्र के सामने आने वाली समुद्री चुनौतियों का सामना करने के लिए विकसित होता गया।

प्रारंभिक शुरुआत : ICG की जड़ें 1792 में राजस्व क्रूजर सेवा की स्थापना में पाई जा सकती हैं, जिसे तस्करी को रोकने और समुद्री नियमों को लागू करने का काम सौंपा गया था। 1942 में, द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान, रॉयल इंडियन नेवी ने भारतीय नौसेना रिजर्व का गठन किया, जिसने तटीय रक्षा और पनडुब्बी रोधी अभियानों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

स्वतंत्रता के बाद का युग और ICG का गठन

भारत की स्वतंत्रता के बाद, एक समर्पित समुद्री सुरक्षा बल की आवश्यकता तेजी से स्पष्ट हो गई। 1952 में, भारतीय नौसेना ने तटीय क्षेत्रों में गश्त करने और तस्करी को रोकने के लिए नेवल कोस्टल बैटरी (एनसीबी) की स्थापना की। समय के साथ एनसीबी की जिम्मेदारियां बढ़ती गईं। 1972 में इसका नाम बदलकर भारतीय तटरक्षक कर दिया गया।

ICG की औपचारिक स्थापना

एक फरवरी, 1977 को, भारतीय संसद द्वारा भारतीय तटरक्षक अधिनियम पारित किया गया, जिसने औपचारिक रूप से ICG को संघ के एक स्वतंत्र सशस्त्र बल के रूप में स्थापित किया। यह भारत के समुद्री सुरक्षा तंत्र के विकास में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर साबित हुआ।

भूमिका एवं उत्तरदायित्व का विस्तार

अपनी स्थापना के बाद से, ICG ने समुद्री मिशनों की एक विस्तृत श्रृंखला को शामिल करने के लिए अपनी भूमिका और जिम्मेदारियों का विस्तार किया है, जिनमें शामिल हैं।

ये भी पढ़ें

गुरुवार के दिन इन छह राशियों को मिल रहा है धन का लाभ

समुद्री खोज और बचाव SAR

ICG भारत के समुद्री क्षेत्रों में एसएआर संचालन के समन्वय और संचालन के लिए जिम्मेदार है, जिससे संकट में अनगिनत लोगों की जान बचाई जा सके।

समुद्री कानून प्रवर्तन: ICG तस्करी, अवैध मछली पकड़ने और अन्य समुद्री अपराधों से निपटने के लिए समुद्री कानूनों और विनियमों को लागू करता है।

तटीय सुरक्षा: ICG भारत की तटरेखा को आतंकवाद, समुद्री डकैती और अवैध घुसपैठ जैसे खतरों से बचाता है।

अपतटीय गश्ती: ICG भारत की अपतटीय संपत्तियों की सुरक्षा करता है, जिसमें तेल रिसाव, मछली पकड़ने के मैदान और समुद्री प्रतिष्ठान शामिल हैं।

पर्यावरण संरक्षण: ICG समुद्री प्रदूषण को रोकने, पर्यावरणीय नियमों को लागू करने और समुद्री पर्यावरणीय घटनाओं पर प्रतिक्रिया देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

भारतीय तटरक्षक दिवस का महत्व

प्रतिवर्ष एक जनवरी को मनाया जाने वाला भारतीय तटरक्षक दिवस, भारत और इसकी समुद्री सुरक्षा के लिए बहुत महत्व रखता है। यह 1978 में तटरक्षक बल (ICG) की स्थापना का जश्न मनाने और भारत के समुद्री हितों की रक्षा के लिए संगठन की अटूट प्रतिबद्धता का सम्मान करने का दिन है।

भावी पीढ़ियों को प्रेरित करना,

यह दिन भावी पीढ़ियों के लिए प्रेरणा का काम करता है, उन्हें ICG में करियर पर विचार करने और देश की समुद्री सुरक्षा में योगदान देने के लिए प्रोत्साहित करता है। समुद्री सुरक्षा के प्रति प्रतिबद्धता की पुष्टि: यह दिन समुद्री सुरक्षा के प्रति भारत की अटूट प्रतिबद्धता और अपने समुद्री हितों की रक्षा के प्रति समर्पण की पुष्टि करता है। अंत में, भारतीय तटरक्षक दिवस एक महत्वपूर्ण अवसर है जो ICG की विरासत का सम्मान करता है, अपने कर्मियों के योगदान को मान्यता देता है, सार्वजनिक जागरूकता बढ़ाता है, भावी पीढ़ियों को प्रेरित करता है और समुद्री सुरक्षा के प्रति भारत की प्रतिबद्धता की पुष्टि करता है। यह भारत की समुद्री सीमाओं की रक्षा करने और इसके तटीय समुदायों की सुरक्षा और समृद्धि सुनिश्चित करने में ICG की महत्वपूर्ण भूमिका की याद दिलाता है।

homeslider International

क्षेत्रीय एवं वैश्विक महत्व के मुद्दों पर जयशंकर अगले महीने करेंगे कोरिया और जापान का दौरा

शाश्वत तिवारी विदेश मंत्री डॉ. एस. जयशंकर 5 से 8 मार्च के बीच कोरिया गणराज्य और जापान का द्विपक्षीय दौरा करेंगे। विदेश मंत्रालय के मुताबिक जयशंकर 10वीं भारत-कोरिया गणराज्य संयुक्त आयोग बैठक (जेसीएम) में हिस्सा लेने के लिए 5-6 मार्च को सियोल का अपना पहला दौरा करेंगे। इस दौरान वह अपने समकक्ष चो ताए-यूल के […]

Read More
homeslider International

भारत और चीन सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध

शाश्वत तिवारी भारत और चीन ने सीमावर्ती क्षेत्रों में जमीनी स्तर पर शांति बनाए रखने को लेकर प्रतिबद्धता जताई है। साथ ही दोनों देशों ने पूर्वी लद्दाख में सीमा पर व्याप्त गतिरोध को दूर करने पर जोर दिया है। भारत-चीन कोर कमांडर स्तर की बैठक का 21वां दौर 19 फरवरी को चुशुल-मोल्डो बॉर्डर मीटिंग प्वाइंट […]

Read More
Analysis

स्मृति शेष : हिंदी के वैश्विक उद्घोषक, बहुत याद आयेंगे अमीन सयानी

संजय तिवारी (21 दिसंबर 1932 – 20 फरवरी 2024) विश्व में हिंदी के लोकप्रिय रेडियो उद्घोषक अमीन सयानी अब नहीं रहे। अपनी आवाज में यादों का सागर छोड़ कर उन्होंने विदा ले ली है। उन्होंने पूरे भारतीय उपमहाद्वीप में प्रसिद्धि और लोकप्रियता हासिल की जब उन्होंने रेडियो सीलोन के प्रसारण पर अपने बिनाका गीतमाला कार्यक्रम […]

Read More